fbpx Press "Enter" to skip to content

ठेठ बिहारी हूं जो कहता हूं उस पर कायम रहता हूः तेजस्वी यादव

  • दस लाख सरकारी नौकरी की बात कर रहा हूं

  • जान लीजिए मेरा डीएनए भी पूरी तरह शुद्ध है

  • कांग्रेस प्रत्याशी के समर्थन में नाथनगर में सभा

  • भीड़ को अपनी बातों से उत्साहित कर गया युवा

ब्यूरो प्रमुख

भागलपुरः ठेठ बिहारी हूं जो कहता हूं उसपर कायम रहता हूं। यह बात कहते ही जनसभा

में मौजूद भीड़ उत्साह से सराबोर हो गयी। इस बार की जनसभा ने साबित कर दिया कि

वाकई तेजस्वी यादव अब एक अनुभवी लेकिन युवा राजनीतिज्ञ हो गये है।

वीडियो में देखिये तेजस्वी ने क्या कुछ कहा

जनता के मिजाज को भांपते हुए अपनी बात कहते हुए वह बार बार जनता के समर्थन के

लिए निर्देशित भी करते रहे। जनसभा में मौजूद भीड़ में लगातार उनकी बातों का समर्थन

का शोर होना भी यह संकेत दे गया कि जनता अब उनकी बातों को न सिर्फ सुन रही है

बल्कि कई मुद्दों पर उनके समर्थन में खड़ी हो रही है। अगर भीड़ का यह तेवर ही मापदंड है

तो यह समझा जाना चाहिए कि इस बार के बिहार विधानसभा के चुनाव में राजद का

प्रदर्शन बेहतर होने जा रहा है।

यहां नाथनगर में भागलपुर के कांग्रेस प्रत्याशी के समर्थन में जनसभा करने आये तेजस्वी

ने ठेठ बिहारी अंदाज में ही अपनी बातें रखी। उन्होंने इशारों ही इशारों में भाजपा द्वारा

लगाये जा रहे नौकरी के झांसे का जबाव भी दे दिया। उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार और

उसके पहले के शासन काल का फर्क देखना है तो पुलों की स्थिति देखिये। ठेठ बिहारी

अंदाज में ही उन्होंने कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद ने जिस पुल की नींव रखी थी,

उसका उदघाटन उनकी मां राबड़ी देवी ने किया था। 19 साल हो गये हैं और पुल ठीक ठाक

है। इधर नीतीश कुमार के पुलों की हालत है कि उदघाटन के अगले ही दिन पुल ढह रहे हैं।

यह काम करने और सिर्फ बात करने का फर्क है। इसे बिहार की जनता को समझना होगा।

ठेठ बिहारी अंदाज से भीड़ भी उत्साहित हुई

जनसभा में मौजूद लोग भी तेजस्वी के इस ठेठ बिहारी अंदाज की बातों से न सिर्फ

प्रभावित दिखे बल्कि उनकी बातों का आम जनता पर असर हो रहा है, इसके संकेत भी

आज की जनसभा में साफ झलका। उन्होंने केंद्र और वर्तमान राज्य सरकार की

विफलताओं की लंबी फेहरिस्त गिना दी। उन्होंने कहा कि दस लाख नौकरी देने की बात

का जो लोग मजाक उड़ा रहे हैं, उन्हें इस बात का जबाव चुनाव के बाद जब सरकार की

पहली मंत्रिमंडल की बैठक होगी, उसी में मिल जाएगा। सरकार के किस खाते में कितना

धन है और सरकार मे कहां कितनी नौकरियां रिक्त हैं, उसकी जानकारी लेने के बाद ही वह

दस लाख नौकरी देने का वादा कर रहे हैं। उनका यह वादा कोई राजनीतिक धोखा नहीं है।

वह सब कुछ ठोंक बजा लेने के बाद ही ऐसी बातें कर रहे हैं।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from HomeMore posts in Home »
More from कामMore posts in काम »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from बयानMore posts in बयान »
More from बिहारMore posts in बिहार »
More from बिहार विधानसभा चुनाव 2020More posts in बिहार विधानसभा चुनाव 2020 »
More from भागलपुरMore posts in भागलपुर »
More from राजनीतिMore posts in राजनीति »
More from वीडियोMore posts in वीडियो »

3 Comments

Leave a Reply

... ... ...
%d bloggers like this: