रिंगिंग बेल्स 251 रुपये का फोन खरीदने वालों को देगी रिफंड

कंपनी पर धोखाधड़ी के भी आरोप लगे थे

0 3,742

दुनिया का सबसे सस्ता स्मार्टफोन बेचने का दावा करने वाली कंपनी रिंगिंग बेल्स ने उन कस्टमर्स का पैसा लौटाना शुरू कर दिया है जिन्होंने फ्रीडम 251 नाम का यह फोन खरीदने के लिए एकमुश्त भुगतान किया था। कंपनी के बिजनेस मॉडल की जांच की गई है और उस पर धोखाधड़ी के आरोप लगे हैं।
रिंगिंग बेल्स की वेबसाइट पर इस्तेमाल किए गए पेमेंट गेटवे एवेन्यू ने ईटी को बताया कि उसने लगभग 14,800 यूनीक कस्टमर्स की ओर से 30,000 ट्रांजैक्शंस के लिए दी गई 84 लाख रुपये की रकम लौटाना शुरू कर दिया है। अब इस स्मार्टफोन के लिए पेमेंट कंपनी को मिली सभी 25 लाख बुकिंग की डिलिवरी पर ही स्वीकार की जाएगी।
एवेन्यू की पैरेंट कंपनी एवेन्यूज इंडिया के सीईओ विश्वास पटेल ने कहा, ‘मीडिया में नकारात्मक प्रचार और सरकार की ओर से की जा रही जांच की वजह से मर्चेंट ने हमें सभी ट्रांजैक्शंस के लिए रिफंड करने को कहा है। रिफंड की शुरूआत हो चुकी है और इसे सोमवार तक पूरा कर लिया जाएगा। वे अब केवल कैश आॅन डिलीवरी का इस्तेमाल करेंगे।’कांग्रेस के नेता प्रमोद तिवारी ने संसद में आरोप लगाया था कि रिंगिंग बेल्स की पेशकश एक घोटाला है। बीजेपी के किरीट सोमैय्या ने भी इसी तरह के आरोप लगाए थे। हालांकि, कंपनी के फाउंडर्स ने इन आरोपों को गलत बताया है। कंपनी के लिए काम करने वाले एक कॉल सेंटर ने रिंगिंग बेल्स के खिलाफ पुलिस को शिकायत की है और धोखाधड़ी और बकाया पेमेंट न चुकाने का आरोप लगाया है। कॉल सेंटर ने कंपनी से 80 लाख रुपये मांगे हैं।
रिंगिंग बेल्स के प्रवक्ता ने इस बात को सही बताया कि कंपनी कस्टमर्स को उनकी रकम लौटा रही है। कंपनी ने 251 रुपये की कीमत वाले दुनिया के सबसे सस्ते 3जी स्मार्टफोन के लिए 17 फरवरी को बुकिंग खोली थी। लेकिन इस स्मार्टफोन के लिए भारी डिमांड की वजह से उसकी वेबसाइट क्रैश हो गई थी। इसके बाद वेबसाइट को ठीक किया गया लेकिन वह दोबारा क्रैश हो गई। कंपनी ने 21 फरवरी को बुकिंग बंद की थी।
इससे कुछ सप्ताह पहले रिंगिंग बेल्स ने स्मार्ट 101 के नाम से 4जी स्मार्टफोन 2,999 रुपये में बेचा था। सूत्रों ने बताया कि उस समय पेमेंट गेटवे पेयूबिज ने फोन के लिए बुकिंग कराने वाले कस्टमर्स से लगभग 1.75 करोड़ रुपये एकत्र किए थे। रिंगिंग बेल्स के प्रेसिडेंट अशोक चड्ढा ने बताया कि फ्रीडम 251 सेल के लिए उउ एवेन्यू और स्मार्ट 101 के लिए पेयूबिज का इस्तेमाल किया गया था। उन्होंने दोनों डिवाइसेज के लिए ट्रांजैक्शंस की वैल्यू नहीं बताई। पेयूबिज का कहना है कि डिलिवरी के पूरा होने पर ही कस्टमर्स का पैसा रिंगिंग बेल्स को दिया जाएगा। पेयूबिज की पैरेंट कंपनी पेयू इंडिया के सीईओ नितिन गुप्ता ने कहा, ‘हमारे पास उनका पैसा है और जब तक वे हमें डिलिवरी की डिटेल्स नहीं देते,

You might also like More from author

Comments

Loading...