fbpx Press "Enter" to skip to content

पैसे के लेनदेन के विवाद में हुई थी शिक्षक की सपरिवार हत्या







  • जियागंज के शिक्षक कांड का हत्यारा पकड़ा गया
  • पुलिस को अब भी कई बातों पर हैं संदेह
  • हत्यारा ने अकेले हत्या की बात स्वीकारी
  • शेष सभी लोगों को पुलिस ने छोड़ दिया
प्रतिनिधि

मुर्शिदाबादः पैसे के लेनदेन के विवाद की वजह से ही जियागंज के शिक्षक की जघन्य हत्या कर दी गयी थी।

पुलिस ने इस मामिले में उत्पल बेहरा नामक युवक को गिरफ्तार कर लिया है।

इस मामले में पुलिस अब भी मान रही है कि पूरे मामले में कई औऱ पेंच हैं।

अभियुक्तों से पूछ-ताछ में धीरे धीरे यह राज खुल सकता है

क्योंकि अब तक की पूछ-ताछ के दायरे में आये सभी लोग पूरी सच्चाई नहीं बता रहे हैं।

उल्लेखनीय है कि मुर्शिदाबाद में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के कार्यकर्ता और शिक्षक बंधु गोपाल पाल (35),

उनकी गर्भवती पत्नी ब्यूटी पाल और 8 साल के बच्चे अंगन पाल की नृशंस हत्या कर दी गयी थी।

इस मुद्दे पर आरएसएस और भाजपा ने देश भर में विरोध प्रदर्शन किया था।

बंगाल भाजपा ने इस हत्या के लिए तृणमूल कांग्रेस को जिम्मेदार ठहराया था।

अब पुलिस ने एक सप्ताह के बाद कातिल को गिरफ्तार करने का दावा किया है।

उत्पल बेहरा ने रुपये को लेकर हुए विवाद की वजह से तीनों की निर्मम हत्या की थी।

मंगलवार सुबह जिला पुलिस सूत्रों के हवाले से इसकी पुष्टि की गई है।

इस बारे में बताया गया है कि सोमवार देर रात शिक्षक के पैतृक गांव के पास सागर दिघी के शाहपुर से

उसे गिरफ्तार किया गया है। उसे मंगलवार दोपहर न्यायालय में पेश कर पुलिस रिमांड पर लिया जाएगा।

पैसे के लेनदेन की बात के बाद भी पुलिस को कई बातों का संदेह

पुलिस को संदेह है कि इस वारदात में और भी कई लोग शामिल हो सकते हैं इसलिए उससे पूछताछ किए जाने की

जरूरत है। इसके पहले पुलिस ने मृतक के पिता अमर पाल, उसके मित्र सौभिक बनिक और दो अन्य लोगों को

हिरासत में लेकर पूछताछ की थी।

बीरभूम जिले के कई जगहों पर भी छापेमारी की गई थी लेकिन उन सभी को छोड़कर इस शख्स को

गिरफ्तार किया गया है। उसने कथित तौर पर दावा किया है कि अकेले ही तीनों की हत्या की है।

पुलिस सूत्रों के हवाले से बताया गया है कि आरोपित ने पूछताछ में यह दावा किया है कि मृतक शिक्षक बंधु गोपाल ने

उससे रुपये उधार लिए थे। कई बार मांगने के बावजूद वह रुपये नहीं लौटा रहे थे जिसकी वजह से दुश्मनी की शुरुआत

हुई थी। उसने बताया है कि नवमी की रात को अपने बेटे को लेकर बंधु गोपाल और उनकी पत्नी ने देर रात तक

दशहरा कार्यक्रम को देखा था। उसके बाद दूसरे दिन यानी दशमी को सुबह के समय ही राजमिस्त्री उनके घर में

गया था और पैसे को लेकर हुए विवाद के बाद हत्या कर दी थी।

उसने कैसे हत्या की थी, इसके लिए पूछताछ की जा रही है।

इसके पहले दूध विक्रेता राजीव दास से भी पुलिस ने पूछताछ की थी।

उल्लेखनीय है कि पिछले सप्ताह मंगलवार को अध्यापक बंधु गोपाल पाल, उनकी गर्भवती पत्नी ब्यूटी

और बेटे अंगन की धारदार हथियार से गोदकर निर्मम तरीके से हत्या कर दी गई थी।

क्योंकि वह राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के कार्यकर्ता थे इसलिए भारतीय जनता पार्टी और अन्य अनुषांगिक

संगठनों ने राज्य प्रशासन पर निष्क्रियता बरतने का आरोप लगाया था।



Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

One Comment

Leave a Reply

Mission News Theme by Compete Themes.