Press "Enter" to skip to content

तालिबान के साथ पड़ोसी सेना के टकराव के बाद ऊपर से हस्तक्षेप




  • पाकिस्तानी सेना ने अफगान सीमा पर गोल बरसाये
  • कुछ लोगों के मारे जाने की भी शिकायत मिली है लोगों से
  • उच्चाधिकारियों को वहां पहुंचकर स्थिति को संभालना पड़ा

काबुलः तालिबान के साथ पड़ोसी देश पाकिस्तान की सेना के तनाव को सुलझाने के लिए दोनों तरफ के उच्चाधिकारी वहां पहुंचे हुए हैं। दरअसल एक जगह पर बाड़ लगाने के मुद्दे पर मतभेद होने के बाद यह तनाव बढ़ता हुआ युद्ध जैसे हालत तक पहुंच गया था।




अफगानिस्तान के कुनार इलाके से मिल रही जानकारी के मुताबिक वहां पर पाकिस्तानी सेना ने सैकड़ों गोले बरसाये हैं। अपुष्ट जानकारी के मुताबिक इन गोलों से 16 लोग मारे भी गये हैं। वैसे दोनों तरफ ने आधिकारिक तौर पर इस बात की पुष्टि नहीं क है।

शनिवार की रात को वहां भीषण तनाव होने की सूचना पर पाकिस्तानी सेना का उच्चाधिकारी तथा तालिबान के बड़े नेता भी वहां पहुंचे थे। दोनो पक्षों की बात चीत से अभी वहां शांति है लेकिन तनाव बना हुआ है। मिल रही जानकारी के मुताबिक कुनार के दानगाम, शालतान, सारकानो और मारावार जिला में पाकिस्तानी सेना ने यह गोले बरसाये हैं।




शुक्रवार की रात को गुंजगुल सापाराई, गारीर सार और गुलाब पाराई में तोप के गोले बारिश की तरह गिरने लगे थे। वहां के आम नागरिक अचानक से पाकिस्तानी की तरफ से इस कार्रवाई के लिए तैयार भी नहीं थे। इस वजह से अनेक घरो को भी नुकसान पहुंचा है।

तालिबान के साथ बाड़ लगाने को लेकर हुआ विवाद

वहां के लोगो के मुताबिक एक खास सैनिक छावनी से ही चारों तरफ गोले दागे जा रहे थे। दूसरी तरफ शालतान के निवासी इब्राहिम ने बताया कि शनिवार की रात को भी पाकिस्तानी सेना ने चोगम, सोनो और रोदादा में भी गोले दागे हैं। दरअसल नानगहार में दोनों देशों की सीमा में तार का बेड़ा लगाने के मुद्दे पर विवाद हुआ था।

पिछले सप्ताह पाकिस्तानी सेना और तालिबान सैनिकों के बीच उपजा यह तनाव गोले दागने तक जा पहुंचा है। इसकी सूचना मिलने के बाद काबुल से भी तालिबान के उच्चाधिकारी भागे भागे वहां पहुंचे हैं जबकि पाकिस्तानी से सैनिक उच्चाधिकारियो ने तालिबान के शीर्ष नेताओं के साथ सीधा संपर्क स्थापित कर इस तनाव को कम करने का काम किया है। अभी वहां पर शांति है पर लोग बता रहे हैं कि दोनों तरफ से तनाव अभी भी बना हुआ है।



More from अफगानिस्तानMore posts in अफगानिस्तान »

One Comment

Leave a Reply

%d bloggers like this: