fbpx Press "Enter" to skip to content

सीरिया की सेना पर विद्रोहियों का हमला 34 सैनिक मारे गये

दमिश्कः सीरिया की सेना को आज फिर बड़ा नुकसान उठाना पड़ा। सीरिया के इदलिब

प्रांत में विद्रोहियों के कब्जे वाले इलाकों में गुरुवार को हवाई हमले में 34 तुर्की सैनिकों की

मौत हो गयी। सीरियन ऑब्जर्वेटरी फॉर ह्यूमन राइट्स ने कहा कि इदलिब देहात क्षेत्र

और बारा और बिलियन शहरों में रूसी और सीरिया के हवाई हमलों ने 34 तुर्की सैनिक मारे

गये। रुस के तुर्की पर विद्रोहियों को मोबाइल विमान रोधी लांचर उपलब्ध कराये जाने के

आरोप के बाद गुरुवार को इस क्षेत्र में तनाव बढ़ गया। विद्रोहियों ने विमान रोधी लांचर से

रूसी युद्धक विमानों को निशाना बनाया। ऑब्जर्वेटरी ने कहा कि पूर्वी इदलिब देहात क्षेत्र में

सरायकेब शहर के आसपास भी लड़ाई जारी है। तुर्की समर्थित विद्रोहियों ने सरायकेब पर

कब्जा कर लिया और दमिश्क को अलेप्पो से जोड़ने वाले एम 5 राजमार्ग को काट दिया।

इदलिब में दो महीने तक चलने वाले सीरियाई अभियान का उद्देश्य राजमार्ग की सुरक्षा

करना था। इस सप्ताह की शुरुआत में सीरियाई सेना ने राजमार्ग को सुरक्षित करने की

घोषणा की। स्थानीय रिपोर्टों ने कहा कि रूसी समर्थित सेना एम 5 राजमार्ग को फिर से

खोलने के लिए जवाबी कार्रवाई कर रही है।

सीरिया की सेना पर इजरायली हेलीकॉप्टर का हमला

इजरायली सैन्य हेलीकॉप्टरों ने सीरिया के सीमावर्ती प्रांत क्यूनीट्रा में सेना के ठिकानों पर

हमला किया। टेलीविजन चैनल अल इखबरिया ने शुक्रवार को यह रिपोर्ट दी। रिपोर्ट में

कहा गया है कि हमले को गोलन हाइट्स से अंजाम दिया गया। हमले में तीन सीरियाई

सैनिक मामूली चोटे आयी है। सीरिया के मुद्दे पर संयुक्त राष्ट्र भी अनेक बार चिंता व्यक्त

कर चुका है। वहां निरंतर जारी संघर्ष की वजह से निर्दोष लोगो के मारे जाने का सिलसिला

जारी रहने को एंटोनियो गुटेरस ने चिंता का विषय बताया है। सीरिया में सैनिक हस्तक्षेप

को लेकर प्रमुख राष्ट्रों का भी आपसी मतभेद कायम है। शायद इस वजह से भी विद्रोहियों

को प्रत्यक्ष और परोक्ष तरीके से सैन्य सहायता मिल रही है।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

2 Comments

Leave a Reply

Open chat
Powered by