fbpx Press "Enter" to skip to content

नियोजन नीति खारिज होने पर कई लोगों की नौकरी पर तलवार

रांचीः नियोजन नीति खारिज होने के शिक्षकों के अलावा कई अन्य पदों पर हुई बहाली भी

खारिज होने की स्थिति में है। इनमें झारखंड पुलिस में रेडियो ऑपरेटर के 692 पदों पर

नियुक्ति के लिए विज्ञापन जारी किया गया था। इसमें महिला के लिए 229 और पुरुष के

लिए 463 पद थे। अंतिम परिणाम के बाद 646 उम्मीदवारों की नियुक्ति हुई। इसमें

कैटेगरी के अनुसार सामान्य श्रेणी से 217 पुरुष और 115 महिला, एसटी से 113 पुरुष और

59 महिला, एससी कैटेगरी से 35 पुरुष और 23 महिला, बीसी-1 कैटेगरी से 33 पुरुष और

18 महिला, बीसी-2 कैटेगरी में 23 पुरुष और एक महिला की नियुक्ति हुई है। इसके

अलावा जेएसएससी की ओर से वनारक्षी के 2204 पदों में नियुक्ति के लिए 2017 में

विज्ञापन जारी किया गया था। अंतिम चरण की नियुक्ति प्रक्रिया के बाद 2188 लोगों के

नियुक्ति की अनुशंसा की गयी. अंतिम रूप से नियुक्ति 2184 लोगों की हुईं। झारखंड

पुलिस में 3019 दारोगा की नियुक्ति के लिए 2016 में विज्ञापन जारी किया गया. लिखित

परीक्षा सहित अन्य नियुक्ति प्रक्रिया पूरी होने के बाद अंतिम रूप से 2504 सफल

उम्मीदवारों की नियुक्ति हुईं। इसमें 2296 पुरुष और 210 महिला उम्मीदवार की

नियुक्तियां हुईं। 3019 पद में से 2483 जिला पुलिस, 488 स्पेशल ब्रांच और 48 सार्जेंट की

नियुक्ति हुई। इन सभी पदों पर बहाल लोगों की नौकरी भी अब इस फैसले से खतरे में

पड़ती नजर आ रही है।

हाई स्कूल शिक्षक: राज्य के हाई स्कूलों में 17,572 शिक्षक नियुक्ति के लिए जेएसएससी

ने 2016 में विज्ञापन जारी किया था. इस नियुक्ति के लिए एक लाख 10 हजार आवेदन

आये थे. इनमें से जेएसएससी ने 9000 से अधिक सफल उम्मीदवारों के नियुक्ति की

अनुशंसा शिक्षा विभाग को की गई है।

क्या थी नियोजन नीति

राज्य सरकार की अधिसूचना संख्या 5393 14 जुलाई, 2016 में कहा गया है कि झारखंड

के 13 अनुसूचित जिलों में होनेवाली थर्ड और फोर्थ ग्रेड नियुक्तियों के संबंध में उक्त

जिलों के पिछड़ेपन को देखते हुए 10 वर्षों तक स्थानीय लोगों के लिए आरक्षित रहेंगी. 11

गैर अनुसूचित जिलों को अनुसूचित जिलों के लोगों सहित देश के योग्य अभ्यर्थियों के

लिए खुला रखा गया. अनुसूचित जिलों में रांची, खूंटी, गुमला, सिमडेगा, लोहरदगा,

पश्चिमी सिंहभूम, पूर्वी सिंहभूम, सरायकेला-खरसावां, लातेहार, दुमका, जामताड़ा, पाकुड़

और साहेबगंज को शामिल किया गया तो वहीं गैर अनुसूचित जिलों में पलामू, गढ़वा,

चतरा, हजारीबाग, रामगढ़, कोडरमा, गिरिडीह, बोकारो, धनबाद, गोड्डा और देवघर को

रखा गया था।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from कामMore posts in काम »
More from झारखंडMore posts in झारखंड »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from राज काजMore posts in राज काज »
More from राजनीतिMore posts in राजनीति »

One Comment

Leave a Reply

error: Content is protected !!