fbpx Press "Enter" to skip to content

सुशांत सिंह राजपूत की मौत और बैंक से निकासी

सुशांत सिंह राजपूत की मौत पर परस्पर विरोधी दावे किये गये हैं। मुंबई पुलिस ने लंबी

जांच के बाद उसे आत्महत्या मानकर केस को समाप्त कर दिया था। मुंबई पुलिस की

कार्रवाई समाप्त होने के बाद ही बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने इसमें न सिर्फ

हस्तक्षेप किया बल्कि पूरी राजनीति को गरमाकर रख दिया। पटना में सुशांत के पिता की

शिकायत पर अब हत्या का मामला दर्ज कर बिहार पुलिस ने जैसे ही जांच प्रारंभ कर दी,

पूरे फिल्मोद्योग में मानों भूचाल आ गया। एक के बाद एक नये नये खुलासे हो रहे हैं।

इसी मौके का फायदा उठाकर लोग एक दूसरे पर खुन्नस भी निकाल रहे हैं। इस पूरे

प्रकरण में सबसे अहम मुद्दा सुशांत सिंह राजपूत के बैंक खाते से भारी रकम की निकासी

है। मुंबई पुलिस और महाराष्ट्र सरकार में शामिल शिवसेना इस मुद्दे पर काफी आक्रामक

तेवर में है। फिर भी इस सवाल का उत्तर उनकी तरफ से अब तक नहीं आया है कि आखिर

सुशांत के बैंक खातों में पैसे के लेन देन की जांच पहले क्यों नहीं हुई थी। बिहार में बैंक

खाते से अवैध धन हस्तांतरण का मुद्दा क्या उठा, प्रवर्तन निदेशालय ने तुरंत ही अपनी

तरफ से इसकी जांच प्रारंभ कर दी। वैसे यह जांच आयकर का विषय था। इसलिए ऐसा

समझा जा सकता है कि ईडी की जांच के पीछे भी राजनीतिक शक्ति ही है। लेकिन मूल

मुद्दा पैसे के किसी और खाते में जाने को लेकर है। शिवसेना की तरफ से राज्यसभा सांसद

संजय राउत लगातार इस बात की सफाई दे रहे हैं। लेकिन वह यह न हीं बता पा रहे हैं कि

आखिर इस पैसे के लेन देन का उनके पास क्या तर्क है। लेकिन इस बीच पारिवारिक

विवाद और अन्य मुद्दों पर ढेर सारा कीचड़ बाहर आ रहा है।

सुशांत सिंह राजपूत के बैंक खाते से पैसे निकले हैं यह सच है

इतना तो जाहिर हो चुका है कि सुशांत सिंह राजपूत के बैंक खातों से पंद्रह करोड़ रुपये

स्थानांतरित किये गये हैं। ईडी की तरफ से अनौपचारिक तौर पर दस करोड़ से अधिक की

रकम की चर्चा की गयी है। लेकिन वह पंद्रह करोड़ हो अथवा मात्र पंद्रह सौ रुपये हो, यह

कहां और किसके खाते में गया और गया तो कैसे और किस आधार पर भेजा गया, इन

सवालों का उत्तर तो उसे ही देना है, जिसे इसका फायदा हुआ है। ईडी को शक है कि सुशांत

के खाते से जो पैसा ट्रांसफर हुआ है, वह फर्जी शेल कंपनी के जरिए किया गया। सूत्र बताते

हैं कि इन शेल कंपनियों का ताल्लुक रिया चक्रवर्ती और उनके भाई शोविक से है। यानी

नोटबंदी और अन्य तमाम उपायों के बाद भी केंद्र सरकार ने फर्जी कंपनियों के बारे में जो

दावे किये गये, वे अब तक वास्तविकता के धरातल पर सही साबित नहीं हो पा रहे हैं। अब

भी फर्जी कंपनियों का गोरखधंधा चल रहा है। तो यह भी माना जा सकता है कि इस फर्जी

कंपनी के कारोबार को चालू रखने में विभागीय अधिकारियों की भी मिलीभगत है। ईडी ने

शोविक से रिया के नाम पर रजिस्टर्ड कंपनियों, फ्लैट्स, आय, खर्च और सुशांत के खातों

को लेकर पूछताछ की। चर्चा है कि अट्ठारह घंटे से भी ज्यादा देर तक तक चली इस

पूछताछ के बावजूद रिया के भाई शोविक ईडी को अपने जवाब से संतुष्ट नहीं पाये हैं।

रिया चक्रवर्ती से शुक्रवार को लगभग साढ़े आठ घंटे तक पूछताछ हुई थी। इस दौरान वे

अपने और पिता के नाम पर रजिस्टर्ड दो फ्लैट्स के बारे में स्पष्ट रूप से जानकारी नहीं दे

सकीं।

कई संपत्तियों का सही जवाब रिया के पास क्यों नहीं

इतना ही नहीं, अपनी आय और खर्चों पर भी वे ठीक से जवाब नहीं दे सकीं। इसलिए उन्हें

ईडी ने समन भेजा है और सोमवार को फिर से उनके दफ्तर में हाजिर होने के लिए कहा है।

इसलिए इतना तो तय है कि जांच का दायरा अभी सुशांत सिंह राजपूत के बैंक खातों से

स्थानातरित किये गये पैसों के ईर्दगिर्द सिमटा हुआ है। लेकिन सोशल मीडिया में सुशांत

की मैनेजर की मौत तथा जो अन्य तथ्य चर्चा में आ गये हैं, उनका निवारण किया जाना

भी जरूरी है। शायद इसी वजह से सीबीआई जांच की अनुशंसा होते ही संजय राउत इसके

खिलाफ मैदान में आ गये हैं। उनका यह तर्क वाजिब है कि सीबीआई का केंद्र सरकार

दुरुपयोग भी कर रही है। लेकिन इस किस्म का आरोप लगाने से पहले संजय राउत अथवा

महाराष्ट्र सरकार को इस बारे में अपनी सफाई में यह स्पष्ट कर देना चाहिए था कि

आखिर मुंबई पुलिस से ऐसी चूक क्यों हुई और क्या वाकई सोशल मीडिया में जिन आरोपों

की बार बार चर्चा हो रही है, उनमें कोई दम भी है। बैंक खाते से पैसा निकला है, यह

प्रमाणित हो चुका है। अब यह निकासी सही तरीके से हुई है अथवा गलत तरीके से इसे

जांचना शेष है।


 

 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from अपराधMore posts in अपराध »
More from कला एवं मनोरंजनMore posts in कला एवं मनोरंजन »

Be First to Comment

Leave a Reply

error: Content is protected !!