fbpx Press "Enter" to skip to content

लॉकडाउन हटने के बाद भी जारी रहेगा प्रतिबंध, कड़ाई सिर्फ प्रभावित इलाकों में जारी रहेगी

  • लॉकडाउन एकमात्र विकल्प कोरोना से बचाव का
  • कोरोना के बढ़ते प्रकोप के कारण लॉकडाउन बढ़ सकता है आगे

नई दिल्ली : लॉकडाउन हटने के बाद भी खास तौर पर कोरोना प्रभावित इलाकों में

प्रतिबंध जारी रह सकता है। सरकार के स्तर पर निरंतर स्थिति की समीक्षा की जा रही है।

सारा कुछ नियंत्रण में रहने की वजह से अस्थायी तौर पर लॉक डाउन को हटाने पर विचार

किया जा रहा है। लेकिन यह कोई अंतिम फैसला नहीं है। आने वाले दिनों में अगर कोरोना

का संक्रमण और फैला तो संभव है कि लॉक डाउन की अवधि को आगे बढ़ा दिया जाए।

वैसे भी लॉक डाउन को हटाने के जिस फैसले पर विचार हो रहा है, उसके तहत देश में जहां-

तहां फंसे लोगों को अपने अपने घरों तक लौट जाने की सुविधा देना ही प्रमुख सोच है। देश

के अनेक इलाकों में जो लोग फंसे पड़े हैं, उन्हें इस छूट के दौरान घर लौटने का अवसर

दिया जाएगा। इसके बाद कोरोना की स्थिति की समीक्षा के बाद इस अवधि को और आगे

बढ़ाया जा सकता है। जिसकी संभावना कोरोना के बढ़ते प्रकोप से जताया जा रहा है।

लॉकडाउन के दो सप्ताह बाद भी बढ़ रही कोरोना पीड़ितों की संख्या

सरकारी सूत्रों की मानें तो जिन इलाकों में कोरोना संक्रमण के मामले पाये गये हैं, वहां की

निगरानी जारी रहेगी। सूत्रों के मुताबिक इन इलाकों के लिए खास तौर पर प्रतिबंध भी

जारी रह सकता है। पिछले एक सप्ताह में कोरोना पीड़ितों की संख्या तेजी से बढ़ते जाने

की वजह से सभी विकल्प खुले रखकर विचार किया जा रहा है। याद रहे कि कैबिनेट

सचिव राजीव गौवा ने चंद दिनों पूर्व इस बात का संकेत दिया था कि 14 अप्रैल के बाद

लॉक डाउन की अवधि को बढ़ाने पर कोई विचार नहीं किया गया है। देश में 21 दिनों का

लॉक डाउन लागू है। लेकिन इसी बीच अनेक इलाकों से कोरोना संक्रमण के नये मामले भी

सामने आये हैं। इस वजह से संक्रमण को और अधिक लोगों तक फैलने से रोकना ही

सरकार के लिए सबसे बड़ी चुनौती है। सारे फैसले इसके मद्देनजर ही लिये जा रहे हैं।

इलाज के पर्याप्त प्रबंध की तैयारी

सरकारी सूत्रों की मानें तो जिन इलाकों में कोरोना के अधिक मरीज पाये जा रहे हैं, उन

इलाकों के लिए प्रतिबंध जारी रहेगा ताकि संक्रमण को दूसरों तक पहुंचने से रोका जा

सके। इस बीच लॉक डाउन को अस्थायी तौर पर समाप्त कर तमाम अस्पतालों में कोरोना

से लड़ने की तैयारियों को भी जांचा परखा जाएगा ताकि हर इलाके में कोरोना मरीज के

ईलाज का पर्याप्त प्रबंध कर लिया जा सके। इसके लिए अभी 20 ऐसे इलाकों की पहचान

हुई है, जो कोरोना वायरस के तेजी से फैलने वाले इलाके हैं। इसके अलावा 22 अन्य

संभावित इलाकों पर भी नजर रखी जा रही है। सरकार यह मानती है कि अस्थायी तौर पर

लॉक डाउन को समाप्त करने के बाद अन्य इलाकों तक भी संक्रमण पहुंच सकता है।

इसलिए अगर 14 अप्रैल के बीच स्थिति बिगड़ी तो यह छूट नहीं भी दी जा सकती है।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from दिल्लीMore posts in दिल्ली »

3 Comments

Leave a Reply

error: Content is protected !!
Open chat