fbpx Press "Enter" to skip to content

पंडरा कृषि बाजार समिति में सामानों की आवाक बढ़ी, कालाबाजारी पर लगी रोक

रांची : पंडरा कृषि बाजार समिति में सामानों की आवक अब बढ़ गई है। लॉकडाउन की

घोषणा के बाद जहां सामान कम आ रहा था, वहीं अब सामान ज्यादा संख्या में आ रहा है।

पहले जहां 25 से 30 ट्रक सामानों की ही आवक थी, अब यह संख्या 50 से 60 पहुंच गई है।

ऐसे में कृषि बाजार में सामान की कमी नहीं है। साथ ही कालाबाजारी न हो, इस पर भी

विशेष ध्यान दिया जा रहा है। कोरोना वायरस के संक्रमण की रोकथाम के लिए देश में

लॉक डाउन की घोषणा की गई। इसके बाद खाद्यान्न सामग्रियों की कमी को लेकर लोगों

में भय था। लेकिन राजधानी रांची स्थित सबसे बड़ी थोक मंडी पंडरा कृषि बाजार में

शुरूआत से ही खाद्य सामग्रियों के स्टॉक होने का दावा किया गया था और यही वजह है

कि खाद्यान्न सामग्रियों की कोई कमी अब तक नहीं हुई है। वहीं पहले जहां सामानों की

आवाजाही कम हो रही थी जिससे दूकानदारों को पर्याप्त सामान नहीं मिल पा रहे थे। अब

उसमें भी वृद्धि हो गई है, जिससे खाद्यान्न सामग्रियों की पर्याप्त मात्रा कृषि बाजार में है।

पंडरा बाजार में खाद्यान्न सामग्रियों का पूरा स्टॉक

चीनी, दाल, चना, चावल, आलू, प्याज समेत विभिन्न खदान सामग्रियों को लेकर हर रोज

50 से 60 ट्रक कृषि बाजार पहुंच रहे हैं। वहीं कृषि बाजार के पणन सचिव अभिषेक आनंद

ने बताया कि कृषि बाजार में खाद्यान्न सामग्रियों का पूरा स्टॉक है और वर्तमान में कृषि

बाजार में सामान आवाक की तुलना में डिमांड कम हो गई है। खुदरा व्यापारी भी कम

पहुंच रहे हैं, बल्कि पहले की तरह ही सामान्य रूप से लोग खरीदारी कर रहे हैं। चूंकि

लॉकडाउन की शुरुआती दौर में अफवाहों के कारण सामानों की बिक्री में बढ़ोत्तरी हुई थी

जो अब बिलकुल ही कम हो गयी है। वहीं उन्होंने बताया कि कृषि बाजार में कालाबाजारी

न हो, इसकी विशेष रूप से मॉनिटरिंग की जा रही है और इसके लिए सुपरवाइजर नियुक्त

किए गए हैं, जो लगातार कृषि बाजार में घूम-घूम कर इसकी निगरानी कर रहे हैं।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from घोटालाMore posts in घोटाला »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from विधि व्यवस्थाMore posts in विधि व्यवस्था »

One Comment

Leave a Reply

error: Content is protected !!
Open chat