Press "Enter" to skip to content

स्वास्थ्य के आधारभूत ढांचे को मजबूती दे रही है राज्य सरकार-जोशी







स्वास्थ्य के आधारभूत ढांचे को मजबूती दे रही है राज्य सरकार-जोशी राजस्थान विधानसभा

अध्यक्ष डॉ. सी पी जोशी ने कहा है कि राज्य सरकार प्रदेश में स्वास्थ्य के आधारभूत ढांचे को

मजबूती देने का कार्य कर रही है। डॉ. जोशी ने इंदिरा आईवीएफ फर्टिलिटी का बिहार के गया में

स्थापित 101वें सेंटर का वर्चुअल शुभारंभ करते हुए आज यह बात कही। उन्होंने कहा कि सरकार ने

वैश्विक महामारी कोरोना की दोनों लहरों में बेहतर कार्य किया है और तीसरी लहर से बचाव के लिए

भी सरकार की तैयारी पूरी है।उन्होंने कहा कि 2011 में उदयपुर से प्रारंभ हुआ यह सेंटर अब देश भर

में अपनी पहचान बना रहा है। उन्होंने कहा कि निसंतान दंपतियों के लिए आईवीएफ तकनीक

कारगर साबित हो रही है। उन्होंने इस नवीन सेंटर के लिए अस्पताल के संस्थापक डॉ. अजय मूर्डिया

का भी आभार जताया।कार्यक्रम के विशिष्ठ अतिथि और राज्य के चिकित्सा मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने

कहा कि आईवीएफ तकनीक के जरिए संस्थान द्वारा निसंतान दपंतियों का इलाज कर घरों में

खुशियां बांटने का सुखद एहसास कराया जा रहा है।

स्वास्थ्य   इंदिरा आईवीएफ के प्रदेश के आठ और देश भर में 100 शहरों में सेंटर्स

स्वास्थ्य   इंदिरा आईवीएफ के प्रदेश के आठ और देश भर में 100 शहरों में सेंटर्स चल रहे हैं। 101वें

सेंटर का बिहार राज्य के गया में शुभांरभ किया गया है। डा शर्मा कहा कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत

के नेतृत्व में हमेशा चिकित्सा सेवाओं को मजबूती प्रदान करने को प्राथमिकता दी गई है। वर्तमान में

भी प्रदेश के चिकित्सा एवं स्वास्थ्य के आधारभूत ढांचे को मजबूत किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि

राज्य सरकार ने कोरोना में बेहतरीन प्रबंधन के साथ कोरोना वैक्सीनेशन में कीर्तिमान रचे हैं।

कोरोना की संभावित तीसरी लहर के लिए भी प्रदेश पूरी तरह तैयार है। उन्होंने कहा कि जहां प्रदेश

के शिशु चिकित्सालयों में नीकू, पीकू, एसएनसीयू के बैड की संख्या में इजाफा किया जा रहा है, वहीं

इन्हें सभी प्रकार के उपकरणों से भी सुसज्जित किया जा रहा है।उन्होंने कहा कि कोरोना की दूसरी

लहर में प्रदेश को मेडिकल आक्सीजन की कमी का सामना करना पड़ा। आक्सीजन की कमी को

दूर करने के लिए प्रदेश के 400 से ज्यादा अलग-अलग स्थानों पर आक्सीजन जनरेशन प्लांट

लगाए जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि इन प्लांट और आक्सीजन उत्पादक यंत्रों के जरिए प्रदेश एक

हजार मेट्रिक टन आक्सीजन का उत्पादन कर सकेगा।



More from HomeMore posts in Home »
More from कोरोनाMore posts in कोरोना »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from दिल्लीMore posts in दिल्ली »

Be First to Comment

Leave a Reply

Mission News Theme by Compete Themes.
%d bloggers like this: