ऑटो रिक्शा ड्राइवर के बेटे सिराज ने खेला पहला IPL मैच, आंखों से छलके खुशी के आंसू

आईपीएल आॅक्शन में सनराइजर्स हैदराबाद द्वारा 2.60 करोड़ का करार

0 3,650

सिराज ने अपने पहले आईपीएल मैच में 4 ओवर में 39 रन दिए। इस दौरान उन्होंने दिल्ली के दोनों ओपनर्स को पवेलियन वापस लौटाया। सिराज ने 11 प्रथम श्रेणी मैच में 44 विकेट हासिल किए हैं, जबकि 10 टी20 मैच में वह 16 शिकार कर चुके हैं। आईपीएल10 के 21वें मैच में सनराइजर्स हैदराबाद का मुकाबला दिल्ली डेयरडेविल्स के खुलाफ हुआ। इस मैच में एक खिलाड़ी मैदान पर उतरा और फैंस के जेहन में एक फेमस डायलॉग आ गया। ‘जब आप किसी को शिद्दत से चाहो तो पूरी कायनात आपको उससे मिलाने में जुट जाती है’। ऐसा ही कुछ हुआ हैदराबाद में ऑटो चलाने वाले के बेटे के साथ।

मोहम्मद सिराज… यही नाम है इस खिलाड़ी का, जिसने हालात से लड़ते हुए बुधवार को आईपीएल का पहला मैच खेला। दाएं हाथ के इस तेज गेंदबाज ने शानदार प्रथम श्रेणी सत्र के बूते सनराइजर्स हैदराबाद के साथ 2.6 करोड़ रुपए का करार किया है। इसी प्रदर्शन के कारण उसे भारत ए और शेष भारत के लिये भी टीम में शामिल किया गया। मोहम्मद सिराज के दिमाग में सबसे पहली चीज अपने पिता मोहम्मद गौस और मां शबाना बेगम के लिये हैदराबाद के अच्छे इलाके में एक घर खरीदना है। और क्यों नहीं? सिराज ने एक बयान में कहा था, ‘आज, मुझे याद है क्रिकेट खेलते हुए मैंने जो पहली कमाई की थी। यह क्लब का मैच था और मेरे मामा टीम के कप्तान थे। मैंने 25 ओवर के मैच में 20 रन देकर नौ विकेट झटकाये। मेरे मामा इतने खुश हुए कि उन्होंने मुझे ईनाम के रूप में 500 रुपए दिये। यह अच्छा अहसास था। लेकिन आज जब बोली 2.6 करोड़ रुपए तक पहुंच गयी तो मैं सन्न रह गया।’इस दौरान उन्होंने कहा था कि, ‘मेरे वालिद साब (पिता) ने बहुत मेहनत की है। वह ऑटो चलाते थे लेकिन उन्होंने कभी भी परिवार की आर्थिक स्थिति का मेरे और मेरे बड़े भाई पर असर नहीं पड़ने दिया। गेंदबाजी की एक स्पाइक की कीमत बहुत होती है और वह मेरे लिये सबसे अच्छी स्पाइक लाते। मैं अच्छे से इलाके में उनके लिये एक घर खरीदना चाहता हूं।’

सिराज ने अपने पहले आईपीएल मैच में 4 ओवर में 39 रन दिए। इस दौरान उन्होंने दिल्ली के दोनों ओपनर्स को पवेलियन वापस लौटाया। सिराज ने 11 प्रथम श्रेणी मैच में 44 विकेट हासिल किए हैं, जबकि 10 टी20 मैच में वह 16 शिकार कर चुके हैं।

You might also like More from author

Comments

Loading...