Press "Enter" to skip to content

मंगल ग्रह की बंजर धरती पर मिले जीवन के संकेत







  • ओहायो यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिक ने दी जानकारी

  • पहले भी मंगल ग्रह पर पैरों के मिले थे निशान

नई दिल्लीः मंगल ग्रह की बंजर धरती पर जीवन होने के बारे में कोई सोच भी नहीं सकता

है। मगर वहां मिली डेड बॉडीज  ने वैज्ञानिकों को सोचने पर मजबूर कर दिया है। दरअसल

शोधकतार्ओं की ओर से मंगल ग्रह पर रिसर्च के लिए एक रोवर भेजा गया था। जिससे ली

गई तस्वीरों में कुछ कीड़े-मकौड़े और रेंगने वाले जीवों के मृत शरीर पाए गए हैं।

मंगल ग्रह पर मिली इन डेड बॉडीज ने वहां जीवन होने की संभावाना को बढ़ा दिया है।

अमेरिका के ओहायो यूनिवर्सिटी के कीट विज्ञानी और अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा  से

जुड़े डॉ. विलियम रोमोसर ने बताया कि मंगल ग्रह पर कीट पतंगों की कई डेड बॉडियां पड़ी

हुई हैं। इनमें कॉकरोच से लेकर मधुमक्खी आदि मौजूद हैं।

डॉ. विलियम रोमोसर के मुताबिक नई तस्वीरों से पता चलता है कि धरती की ही तरह

मंगल पर भी मक्खियों और सांप जैसे रेंगने वाले जीव मौजूद हैं। ये तस्वीरें क्यूरियोसिटी

रोवर से ली गई हैं। डॉ. विलियम रोमोसर का कहना है कि इन जीवों का मिलना भविष्‍य में

होने वाले अहम रिसर्च में महत्वूपर्ण भूमिका निभाएंगे। इससे पहले भी मंगल ग्रह पर कई

पैरों वाली आकृतियां मिली हैं। इनकी खोज मार्स पर भेजे गए रोवर्स से हुई थी।

मंगल ग्रह की बंजर धरती पर लगातार हो रहा है शोध

मंगल ग्रह पर परस्परविरोधी आंकड़ों का लगातार पता चल रहा है। वहां पहले अंतरिक्ष

यान से मिथेन का विशाल भंडार होने के संकेत मिले थे। इस मिथेन की वजह से ऐसा

समझा गया था कि वहां जीवन किसी न किसी रुप में है। ऐसा इसलिए समझा गया था

क्योंकि मिथेन दरअसल जीवन के होने की वजह से ही उत्पन्न होता है। इसके बाद जब

अंतरिक्ष यान दोबारा इस ग्रह के करीब पहुंचा तो वहां से मिथेन के सारे संकेत गायब हो

चुके थे। इससे वैज्ञानिकों को और हैरानी हुई। उसके बाद फिर एक अन्य अंतरिक्ष यान ने

कुछ ऐसे संकेत भेजे, जिनके विश्लेषण से वहां मिथेन का विशाल झील होने का अनुमान

लगाया गया है। वैसे इस बंजर ग्रह पर भी माना जा रहा है कि बर्फ वहां भी दूसरी शक्ल में

मौजूद हैं। इसलिए अगर इस बर्फ की पानी में तब्दील किया जा सका तो वहां जीवन की

संभावनाओं का विकास हो सकता है।



More from अजब गजबMore posts in अजब गजब »
More from अंतरिक्षMore posts in अंतरिक्ष »
More from प्रोद्योगिकीMore posts in प्रोद्योगिकी »

3 Comments

Leave a Reply