fbpx Press "Enter" to skip to content

बेड़ो के मुरतो गांव में बाजार में लॉकडाउन की धज्जियां उड़ी

संवाददाता

बेड़ो: बेड़ो के मुरत गांव के बाजार में फिर से लॉकडाउन की धज्जियां उड़ गयी। बार बार

प्रशासन द्वारा लोगों को एक दूसरे से अलग रहने की हिदायत दिये जाने के बाद भी लोगों

ने इस बाजार में सोशल डिस्टेंसिंग के नियम का पालन नहीं किया। शुक्रवार को बेड़ो प्रखंड

के मुरतो गांव स्थित बाजार में यही नजारा देखने को मिला। एक ओर सरकार कोरोना जैसे

खतरनाक वायरस से बचाव को लेकर 21 दिनों का पूरे देश में लॉक डाउन लगाया गया है।

जहां सरकार लगातार लोगों को कोरोनावायरस से बचाव को लेकर लोगों को अपने घरों में

रहने समेत भीड़-भाड़ नहीं लगाते हुए सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने बोल रहे है।

बेड़ो के मुरतो गांव में कई गांवों से लोग आये थे

इसके बावजूद लोग बेड़ो के मुरतो गांव के बाजार लगाकर व भीड़ इकट्ठा कर सब्जियों की

खरीद बिक्री करते नजर आये। लॉक डाउन के दौरान बेडो, तुको, मुरतो समेत कई गांवों में

अहले सुबह सब्जी खरीद बिक्री को लेकर भीड़ लगी रहती है। वही प्रखंड प्रशासन द्वारा

लोगों को लगातार कोरोना जैसे खतरनाक वायरस को लेकर जागरूक किया जा रहा है।

लोगों को प्रशासन द्वारा सोशल डिस्टेंसिंग के तहत ही दुकान लगाकर खरीद बिक्री करने

को कहा जा रहा है। लेकिन ग्रामीण बयां कर रहे हैं कि हम इंसान हैं और हम भीड़ भाड़ में

ही सब्जी की खरीदारी करेंगे। इससे संभावित कोरोना वायरस के संक्रमण का खतरा और

बढ़ गया है।

आज बेड़ो के मुरतो गांव की इस स्थिति को देखकर कुछ समझदार लोग आपस में भी इस

स्थिति पर चर्चा करते नजर आये। उन्हें इस बात से भी हैरानी थी कि सरकार द्वारा बार

बार इसके खतरों के बारे में जानकारी दिये जाने के बाद भी आम लोगों को इस खतरे का

एहसास नहीं होना अपने आप में बहुत खतरनाक स्थिति है। एक स्थान पर संक्रमण होने

के बाद उसके फैल जाने के बाद ग्रामीण इलाकों में स्थिति को नियंत्रित करना कठिन हो

जाएगा क्योंकि वैसी चिकित्सा सुविधा उपलब्ध नहीं है। 


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

One Comment

Leave a Reply

error: Content is protected !!
Open chat