रांची के वेंडर मार्केट में दूसरे राज्य के लोगों का कब्जा

रांची के वेंडर मार्केट में दूसरे राज्य के लोगों का कब्जा
Spread the love
  • 27
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    27
    Shares
  • कोई तो पैसा लेकर बांट रहा है गलत लोगों को दूकान

संवाददाता

रांचीः रांची के वेंडर मार्केट में भी भ्रष्टाचार का बोलबाला है।

यहां पिछले दरवाजे से कुछ ऐसा खेल हो रहा है कि स्थानीय निवासी दुकानदार ही दुकान नहीं पा रहे हैं।

इनलोगों के बदले दूसरे राज्य के लोगों का इस मार्केट पर भी कब्जा होता दिख रहा है।

This image has an empty alt attribute; its file name is IMG_20190308_144733_HDR.jpg

घटनाक्रम कुछ इस तरफ संकेत देते हैं कि नगर निगम के लोग किसी के प्रभाव में इस किस्म का गलत फैसला ले रहे हैं।

दस्तावेजों और अन्य तथ्यों की छानबीन से इस बात की पुष्टि हो चुकी है।

उल्लेखनीय है कि राज्य सरकार ने फुटपाथ दुकानदारों को बसाने के लिए जयपाल सिंह स्टेडियम की जमीन पर इस सुंदर मार्केट का निर्माण किया है।

This image has an empty alt attribute; its file name is IMG_20190308_145053_HDR.jpg

हाल ही में इसका विधिवत उदघाटन भी किया जा चुका है।

अब नगर निगम में चल रहे दूसरे किस्म के खेल से स्थानीय दुकानदार परेशान है।

इस बात की शिकायत मिलने के बाद जब इसकी छानबीन की गयी तो आरोप प्रथमदृष्टया सही प्रमाणित हुए हैं।

मजेदार स्थिति यह है कि स्थानीयता के मुद्दे पर ही झारखंड की पूरी राजनीति चल रही है।

स्थानीयता परिभाषित भी वर्तमान राज्य सरकार द्वारा किया जा चुका है।

इस राजनीतिक दावे के बीच भी स्थानीय नहीं होने के बाद भी अन्य राज्यों के लोगों को यहां दुकान किस आधार पर बांटी जा रही है,

इस बारे में कोई जुबान खोलने को तैयार नहीं है।

इस किस्म से पिछले दरवाजे से दुकान हासिल करने वाले कुछ लोगों के बारे में जब जानकारी हासिल की गयी तो धीरे धीरे एक एक कर राज भी खुलता चला गया।

मजेदार बात यह है कि दुकान पाने वालों ने अपने बारे में रांची नगर निगम को कोई गलत सूचना भी नहीं दी है।

नगर निगम के दस्तावेज यह बताते हैं कि इनलोगों ने अपनी तरफ से अन्य राज्यों का निवासी होने का प्रमाणपत्र भी दाखिल किया है।

बाद में यह राज भी खुला है कि इनमें से अधिकांश लोग रांची के मतदाता तक नहीं है।

कुछ लोगों के बारे में यह शिकायत भी मिली है कि इनलोगों के दूसरे राज्यों मे

केंद्रीय योजनाओं का लाभ उठाते हुए कर्ज लिया है

कुछ लोगों ने अपने स्थायी आवास पर इंदिरा आवास योजना का लाभ भी उठा रखा है।

अब दुकान आवंटित होने के बाद इनलोगों में से कुछ ने नये सिरे से बैंकों से कर्ज लेने की प्रक्रिया प्रारंभ कर दी है।

यानी एक गिरोह स्थानीय बैंकों से भी नये सिरे से जालसाजी करने की तैयारियों में जुट गया है।

रांची में सूची से आवंटित हुए हैं दुकानः सीपी सिंह, मंत्री नगर विकास

राज्य के नगर विकास मंत्री और स्थानीय विधायक चंद्रेश्वर प्रसाद सिंह ने कहा कि इसके लिए नगर निगम के एक दल ने फुटपाथ दुकानदारों का सर्वेक्षण किया था।

इसी सर्वेक्षण के आधार पर जो सूची बनी थी, उसी के आधार पर दुकानों का आवंटन हुआ है।

श्री सिंह ने स्पष्ट किया कि इसके लिए कोई स्थानीयता का मापदंड शायद नहीं था।

वैसे उन्होंने कहा कि इस बारे में विस्तृत जानकारी नगर निगम के संबंधित अधिकारियों से ही प्राप्त की जा सकती है

क्योंकि दुकान आवंटन के बारे में पूरी जानकारी उन्हें नहीं है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.