fbpx Press "Enter" to skip to content

स्वतंत्रता स्वर्णजयंती और मुजीब जन्म शताब्दी वर्ष के आयोजन के बीच दंगा




  • शाल्ला गांव पर हमला कर 90 से अधिक घर जलाये गये

  • बेटे को पुलिस उठाकर ले गयी लेकिन लापता है

  • जातियो हिंदू महाजोट ने बैठक में चेतावनी दी

  • हिंदुओं को देश से भगाना चाहते है कट्टरवादी

प्रतिनिधि

ढाकाः स्वतंत्रता स्वर्णजयंती समारोह के साथ साथ देश में मुजीब जन्म शताब्दी का

आयोजन भी चल रही है। इसी बीच जातियो हिंदू महाजोट के एक संवाददाता सम्मेलन में

जो बातें कही गयी हैं, उससे सरकार का भी दिमाग ठनका है। इस प्रेस कांफ्रेंस में मौजूद

निभा रानी दास ने अपने पुत्र के लापता होने की जानकारी दी।

वीडियो में जानिये ढाका से आयी इस रिपोर्ट को

साथ ही उन्होंने बताया कि सुनामगंज इलाके के शाल्ला गांव में हिंदुओं पर हमला किया

गया था। चारों तरफ से लोगों ने गांव को घेर लिया था। वहां के करीब 90 घर जला दिये

गये हैं। जो युवक लापता बताया जाता है उसका नाम झुमन दास है। उसकी मां निभा रानी

दास ने संवाददाता सम्मेलन में पूरी घटना की जानकारी देकर राजधानी को भी सतर्क कर

दिया है। श्रीमती दास के मुताबिक एक सप्ताह पूर्व रात करीब आठ बजे लोगों ने गांव को

घेरा था। वे उनके पुत्र झूमन को पकड़कर पुलिस के हवाले कर गये थे। अगले दिन तक वह

शाल्ला थाना गयीं तो वहां झूलन नहीं था। इसी बीच मजसिद से एलान होने के बाद चारों

तरफ से लोग उनके गांव की तरफ धावा बोल गये। घर से उनकी बेटी ने फोन पर बताया

कि सभी घरों में लूट और तोड़ फोड़ चल रहा है। दरअसल इस विवाद के बारे में निभा रानी

दास के मुताबिक सोशल मीडिया में मौलाना मामूनुल हक को लेकर शायद नौगांव के

किसी युवक ने कोई आपत्तिजनक पोस्ट डाला था। इसी बात पर यह हमला हुआ था। घर

में रखा पैसा और गहना भी इसी भीड़ ने लूट लिये। हमले के दौरान उनकी पुत्रवधु का हाथ

भी तोड़ दिया गया। दोपहर को जब वह गांव लौटी तो पूरे गांव की एक जैसी हालत थी।

स्वतंत्रता स्वर्णजयंती के समारोह के बीच ही गांव पर हमला हुआ

श्रीमती दास के मुताबिक जो लोग झूमन को पकड़ने आये थे, उन्होंने उसे पुलिस के हवाले

किया था। लेकिन उसके बाद से उनका बेटा कहां है, इसकी कोई जानकारी पुलिस नहीं दे

रही है। वैसे उनके मुताबिक लोगों ने उन्हें बताया है कि जिस पोस्ट को लेकर विवाद उपजा

है, उसके साथ इस गांव के लोगों का कुछ भी लेना देना नहीं था। उनके पुत्र ने न तो किसी

मजहब पर और ना ही देश के खिलाफ कोई टिप्पणी भी की थी। इस घटना की जानकारी

देने के लिए आयोजन प्रेस कांफ्रेंस में बांग्लादेश जातियो हिंदू महाजोट की तरफ से

लिखित विज्ञप्ति जारी की गयी है। इस संगठन के सचिव पलाश कांति दे ने आरोप लगाया

है कि अल्पसंख्यक होने की वजह से बिना अपराध के भी झूलन दास को गिरफ्तार कर

रखा गया है। हिंदुओं पर हमला करने वालों के खिलाफ पुलिस ने पिछले एक सप्ताह में

कोई कार्रवाई नहीं की है। सिर्फ एक सांप्रदायिक संगठन को खुश करने के लिए पुलिस ने

हिंसा करने की छूट लोगों की दी थी। महाजोट के नेताओं ने कहा कि हाल के दिनों में यहां

खास तौर पर हिंदुओं के खिलाफ हमले बढ़ रहे है। इसका मकसद भी है कि अल्पसंख्यकों

को भयभीत कर उन्हें देश से चले जाने के लिए मजबूर करना। संगठन के अध्यक्ष प्रभाष

चंद्र राय ने कहा कि कुछ समय से ऐसा होने तथा अपराधियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई

नहीं होने की वजह से इस किस्म के हमले बढ़ रहे हैं। अल्पसंख्यकों को न्याय नहीं मिल पा

रहा है।



Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from HomeMore posts in Home »
More from एक्सक्लूसिवMore posts in एक्सक्लूसिव »
More from कूटनीतिMore posts in कूटनीति »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from बांग्लादेशMore posts in बांग्लादेश »
More from विधि व्यवस्थाMore posts in विधि व्यवस्था »
More from वीडियोMore posts in वीडियो »

Be First to Comment

... ... ...
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: