fbpx Press "Enter" to skip to content

जमीन विवाद में चली कई राउंड गोलियां, गोली चलाने वाले शख्स की हुई जमकर धुनाई

बोकारो: चास में जमीन विवाद को लेकर शुक्रवार सुबह दो पक्ष आपस में भिड गये। साथ

ही कई राउंड गोली के साथ जमकर मारपीट हुई। जिसमें महिलाएं सहित अन्य लोग बाल-

बाल बचे। घटना के बाद वहां अफरा तफरी का मौहाल हो गया। वहीं स्थानीय लोगों ने

गोली चलाने वाले बबूल सिंह नामक शख्स की जमकर धुनाई की गई। घटना चास थाना

अतंर्गत कुंवर सिंह कॉलोनी स्थित मेडिकल गली की है। मौके पर पहुंची पुलिस स्थिति को

काबू में किया। चास थाना प्रभारी अमिताभ राय ने बताया कि चास के कुंवर सिंह कॉलोनी

मेडिकल गली में एक जमीन विवाद को लेकर दीपक मोदी और सुरेश प्रसाद के लोगों में

जमकर मारपीट हुई। जिसमें कई राउंड गोलियां चलने की सूचना मिली थी। पुलिस

घटनास्थल पहुंचकर विवाद में शामिल दोनो पक्षों के चार लोगों को गिरफ्तार किया है।

जिसमें एक घायल का इलाज अस्पताल चला रहा है।

छह डिसीमिल जमीन का है विवाद

रेलवे कॉलोनी निवासी सुरेश प्रसाद ने बताया कि कुंवर सिंह कॉलानी स्थित मेडिकल गली

स्थित छह डिसीमिल जमीन को लेकर चास थाना में आवेदन दिया था। आवेदन के

अनुसार सुरेश प्रसाद का जमीन चास के कुंवर कॉलोनी के मेडिकल गली है। चास के

व्यापारी दीपक मोदी एवं उनके सहयोग संतोष कुमार के द्वारा जमीन को कब्जा करने

नियत से जमीन में कार्य किया जा रहा था। इसको लेकर सुरेश एवं उनके परिवारों द्वारा

कार्य का विरोध किया। जिसको लेकर दोना पक्षों में मारपीट हुई।

मेडिकल गली हुआ पुलिस छावनी में तब्दील

कुंवर सिंह कॉलोनी स्थित मेडिकल गली में सुबह जैसे ही दो पक्ष आपने सामने हुए दोनों

पक्षों में बहस होने लगी। मामले को लेकर कुछ ही देर में गली पर आस-पास के लोगों की

भीड़ लगने लगी। जबतक कोई भी समझ सकता कि क्या मामला है गोली की आवाज के

साथ जमकर मारपीट शुरू हो गयी। घटना की सूचना पाकर चास थाना पुलिस मौके पर

पहुंची, और देखते ही देखते पूरा कुंवर सिंह कॉलोनी स्थित मेडिकल गली पुलिस छावनी में

तब्दील हो गया।

जमीन किसकी है सीओ की रिर्पोट के बाद ही पता चलेगा

चास थाना प्रभारी ने बताया कि जमीन का दावा कर रहे दोनों पक्षों को थाना बुलाया गया।

सुरेश प्रसाद अपना पक्ष देने के लिए थाना नहीं आये। उनको कई बार फोन कर बुलाया

गया। वहीं थाना प्रभारी का कहना कि दीपक मोदी ने अपने सारे कागजात के साथ थाना

आए। फिर भी जमीन किसी है इसके लिए सीओ के संज्ञान में दिया गया है। रिर्पोट आने के

बाद ही पता चलेगा कि जमीन किसकी है।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from अपराधMore posts in अपराध »
More from झारखंडMore posts in झारखंड »
More from बोकारोMore posts in बोकारो »

Be First to Comment

Leave a Reply

error: Content is protected !!