Press "Enter" to skip to content

भागलपुर इंटरसिटी में डाका, 15 की संख्या में थे बदमाश, यात्री और पुलिस सहित कई जख्मी

दीपक नौरंगी

भागलपुरः भागलपुर इंटरसिटी ट्रेन में कल रात डकैती की घटना ने पूरे पुलिस महकमा को

चौंका दिया है। वैसे भी इनदिनों बिहार में कभी मधुबनी नरसंहार की घटना ने सबको

चौंका दिया। नवादा जिले में जहरीली शराब के मामले में राज्य सरकार कहीं ना कहीं

काफी बदनामी हुई हैं लेकिन फिर भी अपराधिक घटनाओं में कमी नहीं देखी जा रही है।

कई जिले में लूटपाट और डकैती की घटनाएं भी हो रही है 17 फरवरी को नाथनगर रेलवे

ट्रैक के बम के मामले में पुलिस को कोई सफलता तो नहीं मिली इस 17 अप्रैल को

नाथनगर रेलवे ट्रैक के बम के मामले को दो महीना पूरे हो जाएंगे कहीं ना कहीं सुशासन

की सरकार पर सवाल उठना तो लाजमी है। दानापुर से भागलपुर आ रही इंटरसिटी

(03402) में मंगलवार की रात ऋषिकुंड हॉल्ट पास चेन पुलिंग कर डेढ़ दर्जन बदमाशों ने

डकैती की।

डकैतों ने यात्रियों से सेलफोन, नकदी व आभूषण लूट लिए

लूटपाट होते देख कुछ यात्रियों ने शोर मचाना शुरू कर दिया। शोर की आवाज सुनकर ट्रेन

में एस्कॉर्ट कर रही रेल पुलिस ने बदमाशों को ललकारा। इसके बाद सभी पथराव करते हुए

भाग निकले। रोड़ेबाजी में करीब एक दर्जन यात्रियों को चोटें आई। वहीं, दो पुलिस कर्मी को

भी जख्मी  हुए हैं। जबकि दो यात्रियों को गंभीर चोट लगी है। लुटेरों की रोड़ेबाजी के कारण

बोगी में  भगदड़ सी स्थिति हो गई। पत्थर न लगे इसलिए ट्रेन में सवार सभी यात्री सीट के

नीचे  दुबक गए। फटाफट खिड़कियां बंद करने लगे। ट्रेन में बैठी कुछ महिलाएं चिल्लाने

लगीं। लेकिन कोई बचाव को नहीं आया। कोच संख्या डी-छह और डी-आठ में ही लूटपाट

की। इस  बीच ट्रेन करीब 9.15 मिनट पर बरियारपुर स्टेशन पहुंची। इसके बाद यात्रियों ने

हंगामा  करना शुरू कर दिया। स्टेशन पर आरपीएफ के जवान होने के बाद भी 20 मिनट

तक जवानों को भी यात्रियों के पास जाने की हिम्मत नहीं हुई। करीब आधे घंटे तक ट्रेन

बरियारपुर स्टेशन पर रुकी रही। दो जख्मी यात्री बरियारपुर स्टेशन पर उतर गए। यात्रियों

का कहना था रेल पुलिस और आरपीएफ किसी काम की नहीं है। बार-बार सूचना देने के

बाद भी कोई मदद को नहीं पहुंचा। यात्रियों का कहना था कि ट्रेन की एस्कार्ट पार्टी भी मौके

पर नहीं पहुंची। सुल्तानगंज स्टेशन पर रेल पीपी में यात्रियों ने लिखित आवेदन दिया है।

भागलपुर रेल जीआरपी में भी दो यात्रियों एक बंटी कुमार और श्याम कुमार ने केस दर्ज

किया है।

भागलपुर इंटरसिटी ट्रेन में एसी कोच मैं भी करना चाहते थे लूटपाट

ऋषिकुंड हॉल्ट पर जब बदमाश जनरल कोच में उत्पात मचा रहे थे, इस दौरान उनके

आधा दर्जन साथी एसी कोच की ओर बढ़े। एसी कोच में लूटपाट की योजना थी। एसी कोच

के यात्रियों मैं बड़ी सूझबूझ का काम किया। एसी कोच के सभी गेट बंद कर दिए। जिस

वजह से एसी कोच में बदमाश चढ़ नहीं सके। इससे कारण से गुस्साए बदमाशों ने एसी

कोच पर पथराव कर दिया। पथराव के बाद कोच के बैठे यात्री सीट के नीचे दुबक गए।

टीटीई से लेकर सभी यात्री दहशत में थे। ट्रेन रात्रि 10:35 पर भागलपुर स्टेशन पहुंची तो

जीआरपी पुलिस इंस्पेक्टर अरविंद कुमार और आरपीएफ इंस्पेक्टर अनिल कुमार सिंह ने

सभी यात्रियों से घटना के संबंध में बात की और सभी का बयान दर्ज किया। जहां पर घटना

हुई वह नक्सलियों का इलाका है। बरियारपुर थाना क्षेत्र में परिया एक गांव पड़ता है जहां

के अपराधियों ने कई वर्षों से ऐसी घटना को अंजाम देते रहे हैं कई अपराधी गिरोह डकैती

की घटनाओं में परिया गांव से जेल भी गए हैं।

ट्रेन की चार बोगी में अपराधियों ने हथियार के बल पर की डकैती

ट्रेन में यात्रियों के साथ डकैत करीब बीस मिनट तक लूटपाट करते रहे। ट्रेन पर सवार एक

यात्री ने तो यह भी बताया कि 15 की संख्या में अपराधी थे और अपराधियों ने पूरी ट्रेन में

और बड़ी घटना को अंजाम देते लेकिन सही समय पर जीआरपी के जवानों को देखकर

अपराधी ट्रेन से कूदकर भागने लगे और पुलिस उन्हें पकड़ ना सके इसके लिए अपराधियों

ने ट्रेन पर पथराव भी किया। रेल एसआरपी आमिर जावेद ने बताया कि सिंगल पर लाल

लाइट कैसे जली है इसके बारे में भी रेलवे अधिकारियों से जानकारी ली जा रही है जहां पर

अपराधी ट्रेन पर सवार हो गए उन्होंने बताया कि घटना में शामिल अपराधियों की पहचान

करने के लिए एक टीम का गठन किया गया है जो देर रात से ही छापामारी अभियान में

लगी हुई है लेकिन अभी तक ट्रेन डकैती की घटना में पुलिस को कहीं कोई सफलता नहीं

मिली है

Spread the love
More from अपराधMore posts in अपराध »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from बिहारMore posts in बिहार »
More from भागलपुरMore posts in भागलपुर »

Be First to Comment

... ... ...
Exit mobile version