अयोध्या में सुरक्षा के कड़े बन्दोबस्त जिले में धारा 144 लागू

अयोध्या में सुरक्षा के कड़े बन्दोबस्त जिले में धारा 144 लागू
Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

अयोध्याः अयोध्या में विवादित ढांचा ध्वस्त होने की 26वीं बरसी के अवसर पर सुरक्षा के कड़े बन्दोबस्त किये गये है तथा जिलें में धारा144 लगा दी गयी है।

विवादित ढांचा गिराने जाने बरसी के दिन छह दिसम्बर को हिन्दू संगठनों ने शौर्य दिवस

तथा मुस्लिम संगठनों यौमे गम दिवस मनाने की घोषणा के बाद अयोध्या में सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी गयी है।

जगह जगहचेकिंग अभियान चलाया जा रहा है। जिलें में धारा 144 लागू कर दिया गया है।

पुलिस अधीक्षक नगर अनिल कुमार सिसौदिया ने बताया कि छह दिसम्बर 1992 को विवादित ढांचा ध्वस्त होने की 26 वीं बरसी पर विभिन्न संगठनों ने कई कार्यक्रम आयोजित करने की घोषणा की है।

उन्होने कहा कि इस के मद्देनजर अयोध्या में सुरक्षा के कड़े इंतजाम किये गये हैं।

उन्होंने बताया कि सुरक्षा के लिये स्थानीय पुलिस बल के अलावा 12 अपर पुलिस अधीक्षक,

15पुलिस उपाधीक्षक , 40 उपनिरीक्षक, 50 थानाध्यक्ष, 80 सब इंस्पेक्टर,

एक सौ कांस्टेबिल समेत दस कम्पनी पीएसी, एआरएफ की तैनाती की गयी है।

सुरक्षा बल के अलावा उपकरणों से भी हो रही है निगरानी

विवादित श्रीरामजन्मभूमि परिसर के आसपास लगे सुरक्षा बलों को सतर्कता बरतने के लिये निर्देश दिये गये हैं।

श्री सिसौदिया ने बताया कि अयोध्या में आने वाले व्यक्तियों की कड़ी निगरानी की जा रही है।

असामाजिक तत्वों पर कड़ी नजर रखने के निर्देश दिये गये है।

अयोध्या के होटल, गेस्ट हाउस, रेलवे स्टेशन, बस स्टेशन एवं सराय पर भी आने-जाने वालों व ठहरने वालों की निगरानी के आदेश दिये गये हैं।

पूरे जिले निषेधाज्ञा लागू है।

छह दिसम्बर को आयोजित सभी कार्यक्रमों की वीडियोग्राफी तथा फोटोग्राफी कराने के साथ-साथ सादी वर्दी में फोर्स तैनात की गयी है।

सुरक्षा व्यवस्था को देखते हुए इसे चार जोन तथा नौ सेक्टरों में बांटा गया है।

अयोध्या के चारों तरफ लगे बैरियर लगाकर सघन चेकिंग की जा रही है।

विवादित ढांचा ध्वस्त होने की बरसी पर धर्मसेना ने भी सरयू के किनारे राम की पैड़ी पर उपवास दिवस के रूप में मनाने का निर्णय लिया है।

अयोध्या में अलग अलग संगठनों के कार्यक्रमों की घोषणा

बाबरी विध्वंस के आरोपी तथा धर्मसेना के अध्यक्ष संतोष दूबे ने भी अयोध्या में

स्थित विवादित रामजन्मभूमि पर विराजमान रामलला के मंदिर के निर्माण के लिये

छह दिसम्बर को सैकड़ों की संख्या में धर्मसेना सरयू के किनारे राम की पैड़ी पर पांच घंटे का उपवास करेगी।

इस बीच विश्व हिन्दू परिषद (विहिप) मुख्यालय कारसेवकपुरम में शौर्य दिवस नही मनाने की घोषणा की है।

वहीं दूसरी तरफ कुछ हिन्दू संगठनों ने छह दिवस को शौर्य दिवस के रूप में मनाने की घोषणा की है।

दूसरी ओर मुस्लिम संगठनों ने अपने व्यापारिक प्रतिष्ठान बंद रखकर यौमे गम दिवस मनाने का निर्णय लिया है।

मुस्लिम मस्जिदों में बाबरी मस्जिद के पुन: निर्माण के लिये दुआ करेंगे।

इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग ने भी गांधी पार्क में धरना प्रदर्शन करके दुबारा बाबरी मस्जिद बनाने की अपील करेगी।

वहीं मुस्लिम लीग मजलिस ने कहा है कि बाबरी मस्जिद के विध्वंस पर कल हम लोग काला दिवस के रूप में मनायेंगे।

इंडियन यूनियन मुस्लिम समाज के जिलाध्यक्ष हाजी मोहम्मद इस्माईल ने कहा कि छह दिसम्बर को बाबरी मस्जिद के दुबारा तामील के लिये दुआ और मुल्क में अमन शांति के लिये दुआएं मांगी जायेंगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.