Press "Enter" to skip to content

मणिपुर में सुरक्षा बलों ने किया उग्रवादियों के ठिकाने का भंडाफोड़, हथियार जब्त




भूपेन गोस्वामी

गुवाहाटी: मणिपुर में असम राइफल्स और मणिपुर पुलिस की संयुक्त टीम ने कांगपोकपी जिले में एक प्रतिबंधित उग्रवादी संगठन के एक ठिकाने का भंडाफोड़ किया। जहां से सुरक्षा बलों ने भारी मात्रा में हथियार व गोला-बारूद बरामद किए हैं। अधिकारियों ने यह जानकारी दी।




अधिकारियों ने बताया कि जेलियांग्रोंग यूनाइटेड फ्रंट (जे) समूह के सदस्यों की मौजूदगी के संबंध में विशेष जानकारी के आधार पर टीम ने मंगलवार को नुंगजंग गांव में तलाशी अभियान शुरू किया था। अधिकारी ने बताया कि सुरक्षा बलों के पहुंचने से पहले ही उग्रवादी वहां से भाग गए।

उन्होंने कहा कि इलाके की गहन तलाशी के बाद हथियार और गोला-बारूद बरामद किया गया। मामले की जांच जारी है। हाल ही में मणिपुर के चुराचांदपुर जिले में असम राइफल्स के वरिष्ठ अधिकारी विप्लव त्रिपाठी व उनके परिवार और 7 अन्य कर्मियों की हत्या पर केंद्रीय गृह मंत्रालय ने कहा कि हमले में किसी भी तरह के विदेशी हाथ की संलिप्तता का संकेत देने के लिए कोई निश्चित जानकारी नहीं है।

मंत्रालय ने हाल ही में असम राइफल्स के काफिले पर घात लगाकर लोकसभा में एक लिखित उत्तर के माध्यम से सूचित किया कि घटना में शामिल विद्रोहियों को पकड़ने के लिए सुरक्षा बलों द्वारा आसपास के क्षेत्रों में एक व्यापक अभियान चलाया गया था।




मंत्रालय ने कहा कि अधिकारी पर हुए आतंकी हमले की जांच राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने शुरू कर दी है। गौरतलब है कि मणिपुर स्थित दो प्रतिबंधित विद्रोही संगठनों – पीपुल्स लिबरेशन आर्मी और मणिपुर नागा पीपुल्स फ्रंट ने 13 नवंबर को मणिपुर के चुराचांदपुर जिले के सेहकन गांव के पास हुए आतंकी हमले और घातक हमले की जिम्मेदारी ली थी।

मणिपुर में हाल ही में हुआ था आतंकवादी हमला

अपने बयान में विद्रोही समूहों ने कहा कि उन्हें इस बात की जानकारी नहीं थी कि कमांडिंग ऑफिसर अपने परिवार के साथ यात्रा कर रहा था और सीओ की पत्नी और उनके आठ साल के बेटे की हत्या पर खेद व्यक्त किया, जो मणिपुर में घात लगाकर किए गए काफिले का हिस्सा थे। हालांकि, उन्होंने सुरक्षा बलों को उनके परिवार के सदस्यों को ऐसे स्थान पर लाने के खिलाफ चेतावनी दी गई थी इस क्षेत्र को भारत सरकार द्वारा ‘अशांत क्षेत्र’ घोषित किया गया है।

इस बीच, चुराचांदपुर में सिंगनघाट उपमंडल के तहत लोगों की आवाजाही पर प्रतिबंध लगा दिया गया है क्योंकि सुरक्षा बल और राज्य अर्धसैनिक बल हाई अलर्ट पर हैं। पुलिस अधिकारी के मुताबिक बरामद किए गए हथियारों में 44 एके-56 राइफल, एक रॉकेट प्रोपेल्ड ग्रेनेड लॉन्चर और शेल, तीन मैगजीन वाली 55 एके-81 राइफल, तीन मैगजीन वाली एके-86 राइफल, मैगजीन के साथ एक एम-16 राइफल,15 एम-16 के अलावा 450 कारतूस और अन्य गोला-बारूद भी बरामद किया गया।



More from HomeMore posts in Home »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »

2 Comments

Leave a Reply

%d bloggers like this: