fbpx Press "Enter" to skip to content

सुरक्षा बलों की सतर्कता की वजह से आइएसआइ का खुफिया पकड़ा गया




  • पुलिस के साथ मिलकर लगाया था नाका
  • मणिपुर एनएससीएन उग्रवादियों पर भी कार्रवाई
  • सेना के पहुंचते देख शिविर छोड़कर जंगल भागे उग्रवादी
भूपेन गोस्वामी

गुवाहाटीः सुरक्षा बलों की सतर्कता का बेहतर परिणाम सामने आया है।

सुरक्षा बलों को पहले से ही सतर्क किया गया था।

दरअसल म्यांमार की गतिविधियों की वजह से सेना के वरिष्ठ अधिकारियों की बैठक में यह मुद्दा आया था कि

उत्तर पूर्व के हथियारबंद विद्रोहियों के साथ साथ मुस्लिम आतंकवादी भी इलाके में अपनी सक्रियता बढ़ा सकते हैं।

इसी वजह से सतर्क सेना ने एक साथ दो उपलब्धियां हासिल की हैं।

मिली जानकारी के मुताबिक एक तरफ तो पाकिस्तानी गुप्तचर एजेंसी आइएसआइ के लिए काम करने वाले एक शख्स को गिरफ्तार किया गया है।

दूसरी तरफ एनएससीएन उग्रवादियों के एक ठिकाने पर छापा मारकर हथियार और अन्य सामान बरामद किये गये हैं।

कई मुस्लिम अतिवादी संगठनों के साथ उल्फा के बढ़ते रिश्तों की वजह से इस पर सतर्कता बरती जा रही है।

इसी क्रम में सुरक्षा बलों ने मुस्लिम लिबरेशन टाईगर ऑफ असम नामक संगठन से जुड़े एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया है।

इस समूह के बारे में पहले से ही जानकारी थी कि यह विध्वंसक कार्रवाइयों में लिप्त है।

इनकी गतिविधियों की सूचना मिलने के बाद सेना के एक दल ने पुलिस के साथ मिलकर जाल बिछाया था।

गौरीपुर पुलिस स्टेशन के इलाके में एक नाका बनाया गया था।

इस नाके के सामने थाना प्रभारी और पांच पुलिस वाले ही थे।

सेना ने छिपकर यहां घेराबंदी कर रखी थी।

सुरक्षा बलों ने सतर्कता के लिए छिपकर घेराबंदी की थी




इसी जाल में वह व्यक्ति फंस गया क्योंकि उसके बारे में सेना को पूर्व जानकारी थी।

अचानक सेना के जवानों से घिरे होने की वजह से वह कुछ भी नहीं कर पाया।

तलाशी में उसके पास से एक अत्याधुनिक पिस्तौल और कारतूस के अलावा राष्ट्रविरोधी दस्तावेज जब्त किये गये हैं।

गिरफ्तार व्यक्ति का नाम मोहम्मद हासेम बताया गया है।

वह धुबड़ी जिला का रहने वाला है।

गिरफ्तारी के बाद खुफिया अधिकारी भी उससे पूछताछ कर रहे हैं।

सुरक्षा बलों की सतर्कता का दूसरा परिणाम मणिपुर से मिलने की खबर है।

दूसरी तरफ मणिपुर के इलाके में सेना ने धावा बोलकर एनएससीएन के एक शिविर को ध्वस्त कर दिया।

खबर मिली थी कि इसी शिविर से इलाके के लोगों से पैसों की मांग की जा रही है।

म्यांमार सेना द्वारा खदेड़े जाने के बाद अनेक ऐसे हथियार समूह फिर से भारतीय सीमा में लौट आये हैं।

इस गुप्त शिविर पर छापामारी के बाद वहां से काफी तादाद में हथियार, कारतूस और इन सशस्त्र कैडरों के इस्तेमाल में आने वाली सामान जब्त किये गये हैं।

सेना के नजदीक पहुंचने का आभाष होते ही वहां मौजूद लोग जंगल की आड़ लेकर भाग निकले हैं।



Rashtriya Khabar


One Comment

Leave a Reply

WP2FB Auto Publish Powered By : XYZScripts.com