fbpx

जैनामोड में अवैध बालू धंधेबाजो पर चला एसडीएम का डंडा,मचा हडकंप

जैनामोड में अवैध बालू धंधेबाजो पर चला एसडीएम का डंडा,मचा हडकंप

गोमियाः जैनामोड में सुबह – सुबह बेरमो एसडीएम अनंत कुमार के नेतत्व मे बालू का

अवैध कारोबार कर रहे धंधेबाजो के खिलाफ प्रशासन का डंडा चला। इस धर- पकड़

अभिभान मे जरीडीह अंचलाधिकारी नरेश रजक थाना प्रभारी विनय कुमार समेत

सदलबल शामिल थे। धर – पकड अभियान के दोरान 13 ट्रेक्टर अवैध बालू लदे पकडकर

जरीडीह थाना को सुपूर्द कर दिया गया है। जहां आगे की कार्रवाई की जा रही है। प्रशासन

सुबह ही जैनामोड फोरलेन चौराहे पर तैनात हो यह अभियान चलाया, जो अभी तक की

सबसे बडी कार्रवाई है। प्रशासन द्वारा की गई इस कार्रवाई को लेकर बालू का अवैध

कारोबार करने वाले बालू कारोबारियो मे हडकंप मच गया है। इधर धर – पकड की खबर

जब अन्य ट्रेक्टर चालको तथा मालिको को भनक लगी तो आनन – फानन मे कई अवैध

बालू लोड ट्रेक्टर वियाडा बालीडीह तो कोई खुटरी केंदूवडीह जंगल मे गाडी ले भागने तथा

छुपाने लगे। नित्य दिन चलकरी, खेतको, बेरमो स्टेशन, तेनुघाट दो नंबर रोड़ से सटे

दामोदर नदी से बालू का अवैध खनन कर चोरी छुपे ट्रेक्टरो मे लादकर पेटरवार के

विभिन्न क्षेत्रों में, तुपकाडीह जैनामोड, बालीडीह औधोगिक क्षेत्र के फैक्ट्रियो तथा बोकारो

सिटी ले जाकर खपाया जाता है। यह बालू का अवैध कारोबार कई माह से फल फुल रहा है

इसे देखने वाला कोई नहीं है।

जैनामोड के उलट बेरमो की सड़कों पर अवैध बालू लदे ट्रेक्टर

इन दिनों सरकारी सख्ती के बाद बेरमो एसडीएम, खनन विभाग के अधिकारियों और

सभी प्रखंड के बीडीओ, सीओ और थाना क्षेत्र के दानेदार अवैध बालू उठान को लेकर खुब

सख्ती दिखा रही है। आय दिन छापेमारी की जा रही है जिसमे अवैध बालू लदे ट्रेक्टर जप्त

किए जा रहे हैं। मगर बेरमो के बोकारो थर्मल थाना क्षेत्र, कथारा ओपी क्षेत्र व गांधीनगर

थाना क्षेत्र में दिन दहाड़े सड़को पर अवैध बालू लदे ट्रेक्टर देखा जा सकता है। यह हम नही

कहते बल्कि यह तस्वीर कहती हैं कि किस तरह दिन के उजाले में जारंगडीह में मुख्य

सड़क के किनारे एक ट्रेक्टर में अवैध बालू लादकर खड़ा है। दरअसल मिली जानकारी के

अनुसार ट्रेक्टर मालिक स्वंय बालू से लदे ट्रेक्टरो का स्काउट मोटरसाइकिल के करते

नजर आते हैं। मालिक जब तक ट्रेक्टर चालक को रास्ता साफ होने का संकेत नही देते तब

तक अवैध बालू लदे ट्रेक्टरो को इसी तरह जहां तहां खड़ा छोड़ दिया जाता है और मौका

पाकर ट्रेक्टर अपने निश्चित ठिकाने पर बालू गिरा देते हैं।

खेतको मे बने स्टोक मे इतना अधिक मात्रा में बालू कहा से आता है

मगर सवाल उठता है कि खेतको, चांपी, सरहचिया, बेरमो आदि बालू घाटो से बालू का

उठाव कैसे सभंव हो पाता है अगर पुलिस, प्रशासन इतनी सख्ती बरत रही है। लोगो का

मानना है कि यह सिर्फ आई वाश भर है एक्का दुक्का भले छापामारी मे ट्रेक्टर पकड़े जा

रहे हो मगर शाम ढलते ही खेतको से अवैध बालू लोड कर निकलने वाले एक भी हाइवा

क्यो नही पकड़े जाते और तो और खेतको मे बने स्टोक मे इतना अधिक मात्रा में बालू कहा

से आता है कहा जाता है किसी पता नहीं जबकि सभी बालू लोड हाईवा कई थाना क्षेत्रो को

लांघते हुए बोकारो स्टील सिटी जाती है। बताता चलू कि भले दामोदर पानी से लबालब

भरा हो मगर जैनामोड से बालू का उठाव आज भी जारी देखने को मिल रहा है अगर घाटो

तो बालू का उठाव नही होता तो सड़को से गुजरने वाले अवैध बालू लदे ट्रेक्टरो से सड़कों पर

पानी नही टपकता। कुल मिलाकर इस खेल के खिलाड़ी इतने शातिर और मंझे हुए हैं कि

पुलिस,प्रशासन को समय समय पर चकमा देते हुए अपने अवैध धंधे जारी रखते हैं। इस

क्षेत्र में पुर्न सख्ती की जरूरत है।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
Chhabi Verma

Chhabi Verma

... ... ...
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: