fbpx Press "Enter" to skip to content

जीवन के लिए पृथ्वी से ही बेहतर ग्रह हो सकते हैं

  • कई तो आकार में पृथ्वी से काफी बड़े भी हैं

  • वहां के माहौल इस धरती से बेहतर नजर आते हैं

  • इनमें से सबसे करीब का इलाका एक सौ प्रकाश वर्ष दूर

  • वैज्ञानिकों ने अनेक अंतरिक्ष पिंडों में से 24 की खास पहचान की है

रांचीः जीवन के लिए विकल्प तलाशने का काम काफी समय से जारी है। अब इस कड़ी में

नई जानकारी यह सामने आयी है कि अनेक ग्रह ऐसे भी हो सकते हैं, जहां की

परिस्थितियां इंसानी जीवन के लिए पृथ्वी से भी बेहतर हों। लेकिन साथ ही वैज्ञानिकों ने

यह स्पष्ट कर दिया है कि इस आकलन का अर्थ यह कतई नहीं है कि वहां अभी भी जीवन

हैं। उनका शोध सिर्फ जीवन के पनपने लायक परिस्थितियों को लेकर हैं। जिन ग्रहों की

पहचान की गयी है, उनमें से कुछ की स्थिति पृथ्वी से भी बेहतर है। लेकिन यह सभी

इलाके हमारे सौर मंडल से बाहर के हैं।

वैज्ञानिकों के इस अनुमान के बारे में एस्ट्रोबॉयोलॉजी नामक पत्रिका में शोध प्रबंध

प्रकाशित किया गया है। इनमें से कई ग्रह ऐसे भी हैं, जो उम्र में पृथ्वी से बड़े हैं। कुछ का

आकार भी पृथ्वी से बड़ा है। इससे भी बड़ी बात यह है कि वे शायद पृथ्वी के मुकाबले थोड़े

अधिक गर्म और अधिक नमी वाले हैं। वाशिंगटन स्टेट यूनिवर्सिटी के शोध दल ने यह

निष्कर्ष हैं। इस शोधदल का मानना है कि इन ग्रहों में इंसानी जीवन क्या पृथ्वी पर पनपने

वाला कोई भी जीवन शायद बेहतर तरीके से विकसित हो सकता है। इनकी दूसरी विशेषता

यह भी है कि वे ऐसे तारों का चक्कर काट रहे हैं, जो उम्र में सूर्य से भी पुराने हैं और उनकी

गति भी अपेक्षाकृत धीमी है। इनमें से जो ग्रह सबसे अनुकूल पाया गया है, वह पृथ्वी के

करीब एक सौ प्रकाश वर्ष की दूरी पर है। शोधकर्ता नासा के हब्बल टेलीस्कोप से मिल रहे

आंकड़ों की मदद से उन सभी संभावित ठिकानों का और गहन अध्ययन कर रहे हैं।

जीवन के लिए पहले से ही नये इलाकों की तलाश जारी

इस शोध से जुड़े वाशिंगटन स्टेट यूनिवर्सिटी के प्रोफसर डिर्क शूल्ज माकूज ने कहा कि आने

वाले दिनों में एक और नया और ज्यादा आधुनिक स्पेस टेलीस्कोप आ रहा है। उससे

मिलने वाले आंकड़ों के आधार पर और बेहतर निष्कर्ष निकाल पाना संभव होगा। यह बता

दें कि प्रोफसर डिर्क यहां के अलावा बर्लिन के टेक्निकल यूनिवर्सिटी से भी जुड़ेहुए हैं।

उन्होंने कहा कि इन तमाम संभावित ग्रहों में से कुछ पर हमें ध्यान केंद्रित करना होगा

ताकि उसके आगे का शोध और बेहतर तरीके से हो सके। अब तक का शोध तो यही बता

रहे हैं कि इनमें से कुछ में जीवन के लायक परिस्थितियां शायद पृथ्वी से भी ज्यादा बेहतर

हैं।

वैज्ञानिकों ने अपने इस शोध की व्याख्या करते हुए बताया है कि हमारे सौर मंडल का मूल

आधार सूर्य है। यह सूर्य करीब दस बिलियन वर्ष से कम समय का है। पृथ्वी पर भी जीवन

की उत्पत्ति में करीब चाल बिलियन वर्ष से अधिक का समय लगा है। दूसरी तरफ हमारे

सौरमंडल के बाहर कई ऐसे विशाल तारे भी हैं, जिनकी गर्मी सूर्य से कम है और रोशनी भी

वे सूर्य से कम देते हैं। लेकिन उनकी आयु शायद पृथ्वी अथवा सूर्य से काफी अधिक है।

इनमें से कुछ की आयु 70 बिलियन वर्ष तक हो सकती है।

सबसे उपयुक्त ग्रह आकार में डेढ़ गुणा बड़ा

फिलहाल इस खोज में जिस ग्रह को पृथ्वी के सबसे लायक माना गया है, वह आकार में

पृथ्वी के करीब डेढ़ गुणा है। उसका अपना गुरुत्वाकर्षण संभवतः पृथ्वी से अधिक है और

इसी वजह से उनके अपने वायुमंडलों का सृजन भी हो चुका है। इसमें तथा पहचाने गये

अन्य ग्रहों में भी जीवन की गाड़ी को आगे बढ़ाने लायक तमाम परिस्थितियां हैं। इनमें

नमी, बादल और पानी भी है। लेकिन शायद उसका तापमान पृथ्वी के मुकाबले पांच डिग्री

अधिक है। इसलिए वैज्ञानिक मानते हैं कि इन ग्रहों में जीवन पनपने की स्थिति में उनकी

हालत पृथ्वी से ज्यादा बेहतर ही होगी।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from पर्यावरणMore posts in पर्यावरण »
More from प्रोद्योगिकीMore posts in प्रोद्योगिकी »
More from लाइफ स्टाइलMore posts in लाइफ स्टाइल »

Be First to Comment

Leave a Reply

error: Content is protected !!