fbpx Press "Enter" to skip to content

धर्मनगरी कुरुक्षेत्र की कमान अब महिलाओं के हवाले

  • एसपी और एडीसी के बाद अब उपायुक्त बनी शरमदीप कौर

संवाददाता

कुरुक्षेत्रः धर्मनगरी कुरुक्षेत्र में वुमैन सुपर पावर होगी, या यूं कहें कि जिले की कमान अब

नारी शक्ति के हाथों में होगी। जिले के सर्वोच्च पद उपायुक्त व पुलिस अधीक्षक की कुर्सी

पर महिलाओं का आधिपत्य होगा। उपायुक्त धीरेंद्र खडगटा का नूंह तबादला होने के बाद

जिले की कमान आईएएस शरनदीप कौर बराड़ को सौंपी गई है। लिहाजा शरनदीप कौर के

साथ अब जिले में तीनों सर्वोच्च पदों पर महिलाएं आसीन होंगी। धर्मनगरी कुरुक्षेत्र में

प्रशासनिक व्यवस्था से लेकर अपराध पर अंकुश लगाने की जिम्मेवारी महिलाओं के हाथों

में होगी। यही नहीं सरकार की कल्याणकारी योजनाओं को अमलीजामा पहनाने का

दरोमदार भी महिला के कंधे पर ही है। इसके साथ ही जिले में शाहाबाद उपमंडल की

कमान किरण सिंह संभाल रहे हैं और पिहोवा में बतौर तहसीलदार चेतना चौधरी कार्यरत

हैं। जिले में प्रदेश सरकार ने अब आईएएस अधिकारी शरनदीप कौर बराड़ को जिले का

उपायुक्त नियुक्त किया है।

धर्मनगरी आने वाली शरनदीप की छवि बेदाग है

बताया जा रहा है कि आईएएस अधिकारी शरनदीप कौर बराड़ एक सुलझी हुई अधिकारी हैं

और उनकी छवि बेदाग है। जहां-जहां पर शरनदीप कौर बराड़ ने कार्य किया है, उस क्षेत्र के

लोग उनकी कार्यशैली से काफी प्रभावित हैं। लोगों को उम्मीद है कि नवनियुक्त जिला

उपायुक्त शरनदीप कौर बराड़ भी लोगों के कार्यों और जनता की समस्याओं को प्रमुखता

से हल करने का काम करेंगी। जिले में अतिरिक्त उपायुक्त के पद पर भी एक महिला

अधिकारी तैनात है। वीना हुड्डा जिले में अतिरिक्त उपायुक्त के तौर पर अच्छा कार्य कर

रही हैं। ये अधिकारी भी काफी मिलनसार हैं और कार्यालय में आने वाले लोगों की

समस्याओं को प्रमुखता से हल करती हैं। जिले के तीन महत्वपूर्ण पदों पर महिलाओं की

जुगलबंदी कितनी कारगर होगी, यह तो आने वाला समय ही बताएगा, लेकिन जिले के

लोगों को उम्मीद है कि तीनों महिला अधिकारियों की जुगलबंदी लोगों के लिए फायदेमंद

होगी और जिले में विकास की योजनाएं गति पकड़ेंगी और कार्यों को रफ्तार देंगी।

आस्था के शहर में आस्था मोदी सुलझा रही जन समस्याएं

आस्था के शहर कुरुक्षेत्र में बतौर पुलिस अधीक्षक आस्था मोदी कार्यभार संभाल रही हैं। वे

पिछले लंबे समय से जिले में पुलिस अधीक्षक का काम देख कर रही हैं। उनकी कार्यशैली

और दबंग छवि जिले के लोगों को प्रभावित कर रही है। आस्था मोदी के दरबार में जो लोग

अपनी फरियाद लेकर पहुंचते हैं, वे उन्हें निराश नहीं करती, बल्कि प्रमुखता के तौर पर

उनकी शिकायतों को निपटाने का काम करती हैं।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from धर्मMore posts in धर्म »
More from महिलाMore posts in महिला »
More from राज काजMore posts in राज काज »
More from हरियाणाMore posts in हरियाणा »

One Comment

Leave a Reply