Press "Enter" to skip to content

राहत मिलते की सड़कों पर बेपरवाह मंडराने लगे हैं लोग

Spread the love



रांचीः राहत मिलते ही रांची की जनता फिर से बेपरवाह नजर आने लगी। बिना काम के भी




अनेक लोग आज सड़कों पर मंडराते दिखे। पूछने पर इनलोगों ने सिर्फ हाल चाल देखने के

लिए बाहर निकलने की बात कही। झारखंड में गुरुवार से अनलॉक-1 की प्रक्रिया शुरू हो

गई है। इसके साथ ही शुरू हो गई है लोगों की लापरवाही। बाजार में लोग न सोशल

डिस्टेंसिंग का पालन कर रहे हैं न ही लोगों पर पुलिस की सख्ती का असर दिखा। ई-पास

से राहत मिलते ही लोग बिना किसी डर के अपनी गाड़ियों से निकलने लगे हैं। नतीजा 40

दिन से जो सड़कें वीरान रह रहीं वहां आज गाड़ियों की कतार लग गई थी। कचहरी चौक,

लालपुर चौक और कांटा टोली चौक पर आम दिनों की तरह जाम की स्थिति थी। नाम नहीं

लिखने की शर्त पर बहू बाजार चौक पर तैनात ट्रैफिक पुलिस के एक जवान ने बताया कि

अचानक सड़कों पर कम से कम 6-7 गुना अधिक गाड़ियां बढ़ गईं। रातू रोड चौक पर एक

बार फिर सामान्य दिनों की तरह नजारा दिखा। यहां ट्रैफिक पुलिस को जाम हटाने में

पसीने छूट रहे थे। इस दौरान लोगों के मन में न सोशल डिस्टेंसिंग का ख्याल था और न ही




कोरोना का खौफ दिख रहा था। यहां 20 वर्षों से दुकान लगाने वाले एक सख्श ने बताया कि

पिछले 40 दिनों तक ई-पास के कारण सड़कें एकदम खाली रह रही थीं।

राहत मिलते ही पुलिस की अपील भी बेअसर

इस दौरान लालपुर चौक और नागा बाबा खटाल सब्जी मंडी के पास पुलिस माइक से

अनाउंसमेंट करती रही कि भीड़ न लगाएं, सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें। लेकिन लोगों

पर इसका भी असर नहीं देखने को मिला। लोग बेपरवाही से आपस में सट कर खरीदारी

करते रहे।

एक्सपर्ट ने कहा- अभी भीड़ पर रोक जरूरी

बाजार में उमड़ी भीड को रांची के एक्सपर्ट ने खतरनाक बताया। रिम्स में कोविड टास्क

फोर्स के सदस्य डॉ. निशिथ एक्का ने बताया कि कोरोना को समाप्त करने के लिए भीड़

पर रोक जरूरी है। सख्ती नहीं बरती गई तो एक बार फिर से अप्रैल मई-वाली स्थिति हो

जाएगी। ई-पास से छूट का मतलब ये नहीं है कि बिना काम के लोग सड़क पर निकल

जाएं।



More from HomeMore posts in Home »
More from कोरोनाMore posts in कोरोना »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from रांचीMore posts in रांची »

Be First to Comment

Leave a Reply