Press "Enter" to skip to content

त्रिपुरा में सुस्मिता देव समेत टीएमसी के दस नेताओं पर हमला




खेला होबे के तहत भाजपा के खेमे में सेंधमारी
ममता बनर्जी के अभियान के शीर्ष पर उत्तर पूर्व
टीएमसी नेताओं पर हमले का आरोप भाजपा पर
हमला में सभी दस नेता घायल भी हुए हैं
भूपेन गोस्वामी

गुवाहाटी : त्रिपुरा में ममता बनर्जी के तृणमूल कांग्रेस का खेला होबे चालू हो गया है। अपनी पूर्व




घोषणा के मुताबिक पार्टी धीरे धीरे दूसरे राज्यों में धीरे-धीरे अपना दायदा बढ़ा रही है। विधानसभा

चुनाव जीतने के बाद से पार्टी पश्चिम बंगाल में तो भाजपा को एक के बाद एक झटके दे रही है,

लेकिन अब टीएमसी ने त्रिपुरा में भी भाजपा के खेमे में सेंध लगा दी है।बता दें, प.बंगाल जीतने के

बाद से टीएमसी नेता त्रिपुरा का दौरा कर रहे हैं। माना जा रहा है कि आने वाले विधानसभा चुनावों में

टीएमसी त्रिपुरा में भाजपा को चुनौती दे सकती है। हाल ही सांसद सुष्मिता देव को ममता बनर्जी ने

त्रिपुरा की जिम्मेदारी सौंपी है। तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) की राज्यसभा सदस्य सुष्मिता देव और

पार्टी के 10 नेता और 26 से अधिक सदस्यों पर पश्चिमी त्रिपुरा के आमतली में सत्तारूढ़ भाजपा के

सदस्यों द्वारा कथित तौर पर हमला किया गया। सभी घायल हैं और 5 व्यक्ति अस्पताल में भर्ती

कराया गया है लेकिन चिंता का कोई विषय नहीं है । रहापश्चिम त्रिपुरा जिला पुलिस प्रमुख माणिक




लाल दास के अनुसार, तृणमूल ने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई है जो अब घटना की जांच कर रही

है। श्री दास ने कहा कि टीएमसी की एक कार क्षतिग्रस्त हो गई। देव या उनकी पार्टी के सदस्यों

घायल हो गए हैं । हालांकि बीजेपी ने इन आरोपों को खारिज किया है । भाजपा प्रवक्ता नबेंदु

भट्टाचार्जी ने मीडिया से कहा कि यह घटना उनके आंतरिक कलह का हिस्सा है। तृणमूल सदस्य जो

हाल ही में गठित त्रिपुरा संचालन समिति में जगह नहीं बना सके, वे इसके पीछे हैं।

त्रिपुरा में भाजपा का हमला या गुटबाजी स्पष्ट नहीं

वैसे बता दें कि पश्चिम बंगाल के चुनाव के तुरंत बाद ही ममता बनर्जी ने अपने संगठन को पश्चिम

बंगाल से बाहर निकालने की कोशिश प्रारंभ कर दी थी। इसके तहत पूर्वोत्तर में असम और त्रिपुरा

दोनों राज्यों पर ममता बनर्जी की खास नजर है। इसके तहत ही कांग्रेस की नेत्री सुस्मिता देव को

पार्टी में शामिल कराया गया है। दूसरी तरफ अब टीएमसी गोवा में भी अपना संगठन बढ़ा रही है।

वहां के एक पूर्व मुख्यमंत्री सहित कई नेता अब तक टीएमसी का झंडा थाम चुके हैं।



More from HomeMore posts in Home »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from त्रिपुराMore posts in त्रिपुरा »
More from राजनीतिMore posts in राजनीति »

One Comment

Leave a Reply

%d bloggers like this: