fbpx Press "Enter" to skip to content

राशन दुकान चलाना गरीबों की सेवा और पुण्य का काम हैः रघुवर दास




  • जनवितरण प्रणाली दुकानदारों के साथ राज्य स्तरीय बैठक
  • राशन दुकानों से गरीबों को हमेशा पूरा अनाज मिले
  • कमीशन के अलावा प्रतिमाह 1000 की एकमुश्त राशि

रांची: राशन दुकान चलाना गरीबों की सेवा का काम है..यह पुण्य का कार्य है।

अंत्योदय समाज के अंतिम व्यक्ति तक हम पहुंचे यह सरकार का प्रयास है।

यही वजह रही 35 किलो अनाज गरीब तक राशन दुकानदारों के माध्यम से

पहुंचाया जा रहा है। सभी को जीने और भोजन प्राप्त करने का अधिकार है।

लेकिन यह शिकायत भी अक्सर मिलती रहती है कि उपभोक्ताओं को सही

माप पर अनाज नहीं मिलता है।

राशन डीलर भी यह शिकायत करते हैं कि

उन्हें भी सही माप का अनाज नहीं प्राप्त होता है। इस शिकायत को दूर

करने के लिए जल्द ही पायलट प्रोजेक्ट पर किसी एक प्रखण्ड में 5 किलो

अनाज का पैकेट राशन दुकानदारों को उपलब्ध कराया जाएगा।

इससे राशन दुकानदार और उपभोक्ताओं की शिकायत दूर होगी।

इस पायलट प्रोजेक्ट की सफलता पर पूरे राज्य में इसे लागू किया जाएगा।

ये बातें मुख्यमंत्री रघुवर दास ने रिम्स आडिटोरियम में राज्य के राशन दुकान चलाना

दुकानदारों के साथ हुई राज्य स्तरीय बैठक के दौरान कही। मुख्यमंत्री ने कहा कि

राशन दुकानदार लगातार मानदेय देने की बात करते हैं, लेकिन उन्हें यह बात

समझनी होगी कि मानदेय सरकारी कर्मियों को दिया जाता है।

पूर्व में ही सरकार द्वारा 45 रुपये के कमीशन को बढ़ा कर 100 रुपये किया गया है।

आपकी आय में बढ़ोतरी के लिए सरकार आप सभी को राशन दुकान में ग्रोसरी की

वस्तुएं रखने की अनुमति प्रदान करती है ।

ग्रोसरी की दुकान हेतु सरकार बैंकों से आपको मुद्रा लोन भी उपलब्ध कराने की दिशा में

कार्य करेगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि जन वितरण प्रणाली दुकानों के सुव्यवस्थित

परिचालन के लिए राज्य सरकार इन्हें मिलने वाले कमीशन के

अलावा प्रतिमाह ₹1000 की एकमुश्त राशि भी देगी।

29 लाख परिवारों को उज्ज्वला का लाभ मिला

मुख्यमंत्री ने कहा कि उज्ज्वला योजना से गरीबों को आच्छादित करने में रा

शन दुकानदारों को सहयोग रहा है। आपके सहयोग से 29 लाख गरीब परिवारों को

योजना से लाभान्वित किया गया। अब शेष बचे 14 लाख गरीब परिवारों को

उज्ज्वला योजना का लाभ देना है, इस कार्य में आप सभी का सहयोग पूर्व की

तरह अपेक्षित है। आयुष्मान भारत से गरीबों को आपके सहयोग से जोड़ बेहतरीन

कार्य किया गया है। आप सभी को भी इस योजना का लाभ मिले

इस दिशा में सरकार जल्द निर्णय लेगी।अनाज नहीं लेने वालों का नाम उपलब्ध करायें

मुख्यमंत्री ने कहा कि जो उपभोक्ता राशन का उठाव नहीं कर रहें हैं।

ऐसे लोगों का नाम अपने जिला के जिला आपूर्ति पदाधिकारी को

उपलब्ध करायें। इस कार्य को प्राथमिकता के तौर पर करें।

सूची प्राप्त होने के उपरांत छूटे हुए लोगों का नाम जोड़ कर उन्हें लाभान्वित किया जाएगा।

वृद्ध और बीमार का अवश्य अनाज देःसचिव

सचिव, खाद्य, सार्वजनिक वितरण एवं उपभोक्ता मामले विभाग श्री अमिताभ कौशल ने

कहा कि राशन दुकानदार अपने क्षेत्र में वृद्ध, बीमार और अकेले रहने वालों को

चिन्हित करें ताकि उन्हें राशन कार्ड उपलब्ध कराया जा सके।

किसी उपभोक्ता का राशनकार्ड डीलर अपने पास नहीं रखें।

उपभोक्ताओं को सही माप में अनाज उपलब्ध कराएं।

उन्होंने कहा कि नेटवर्क की समस्या से जल्द निजात दिलाने का प्रयास होगा।

सरकार अनाज वितरण के लिए ग्रामीण क्षेत्रों में उपभोक्ताओं के आंखों की पुतली

स्कैन के प्रोजेक्ट पर कार्य कर रही है। अगर यह सफल हुआ तो व्यवस्था को

जल्द लागू किया जाएगा। राशन दुकानदार यह सुनिश्चित करें कि उपभोक्ता को दिये गये

अनाज का ए- ढडर मशीन के माध्यम से रसीद भी अवश्य दें। इस मौके पर राज्य के

सभी प्रमंडल से आये राशन दुकानदारों ने अपनी समस्याओं और अपनी अपेक्षाओं

मुख्यमंत्री के समक्ष रखा। इस अवसर पर पूरे राज्य के सभी प्रखंड

से आये राशन दुकानदार उपस्थित थे।



Rashtriya Khabar


More from जीवन शैलीMore posts in जीवन शैली »
More from झारखंडMore posts in झारखंड »
More from रांचीMore posts in रांची »
More from राज काजMore posts in राज काज »

Be First to Comment

Leave a Reply

WP2FB Auto Publish Powered By : XYZScripts.com