fbpx Press "Enter" to skip to content

रांची सदर अस्पताल का सराहनीय प्रयोग

रांचीः रांची सदर अस्पताल के नाम पर आम धारणा शायद सही नहीं है। दरअसल काफी

अरसे से उपेक्षित और जर्जर अवस्था में नजर आने वाले इस रांची सदर अस्पताल के बारे

में आम जनता की धारणा ही गलत बनी हुई थी। जैसे जैसे यह धारणा बनी थी, वह कोई

रातों रात नहीं हुआ था। अब विशाल भवनों के निर्माण के बाद भी विवादों में घिर रहने की

वजह से भी उसकी कार्यकुशलता पर सवालिया निशान लग गये थे।

यह पहली बार जानकारी मिली है कि किसी विकसित देश की तरह रांची सदर अस्पताल में भी नये प्रयोग किये गये हैं। निश्चित तौर पर यह पहल सराहनीय है और उसे स्थायी बनाये रखने की दिशा में निरंतर काम होना चाहिए। यूं तो हाल के दिनों में डाक्टरों और सुविधाओं की उपलब्धता बढ़ने की वजह से इस अस्पताल में अब मरीजों की संख्या भी पहले के मुकाबले काफी बढ़ी है। लेकिन जिस सुविधा की वजह से अभी रांची सदर अस्पताल का उल्लेख हो रहा है वह बच्चों के मनोरंजन का साधन वहां उपलब्ध कराने की वजह से है।

कुछ दिनों पहले मंत्री बन्ना गुप्ता द्वारा डे केयर सेंटर की शुरुआत सदर अस्पताल में की गई थी। डे केयर सेंटर के तहत बच्चों को खेलने के इनडोर और आउटडोर गेम्स के लिए विशेष व्यवस्था की गई। सदर अस्पताल के ऊपर स्पेशल सी विंग में भवन के दूसरे तल्ले पर आउटडोर गेम के लिए लगभग लगभग 1000 स्क्वायर फीट में विशेष व्यवस्था की गई है।

इसको लेकर आईसीआईसी बैंक के द्वारा सदर अस्पताल को फंड मुहैया कराया गया है।

इनडोर और आउटडोर गेम खेलते बच्चे आसानी से इन दिनों अस्पताल परिसर में खेलते

दिख जाएंगे।

परिसर भवन में बच्चों के खेलने की जगह सराहनीय काम

इस मामले में सिविल सर्जन रांची द्वारा बताया गया कि हमारा प्रयास है कि हम अपने डे

केयर सेंटर को और अच्छी तरह से विकसित करें, इसके लिए जो भी किया जा सकता है,

किया जा रहा है। अस्पताल में इलाज के लिए आए उन सभी बच्चों को उच्च कोटि का

माहौल देने का हमारा प्रयास होगा जिसे बच्चे अपना आसानी से प्राप्त कर सकें। जिन

सुविधाओं के उपलब्ध होने की चर्चा हो रही है, वे बिना देखे समझे नहीं जा सकते। लेकिन

देखने के बाद यह निश्चित तौर पर कहा जा सकता है कि रांची सदर अस्पताल की इन

सुविधाओं का विकास और रखरखाव राज्य के अन्य जिला अस्पतालों में भी किया जाना

चाहिए। अलबत्ता यह ध्यान रहे कि इनका नियमित रख रखाव हो। वरना राज्य में

आधारभूत संरचना खड़ी कर लेने के बाद उचित रख रखाव के अभाव में उनके नष्ट होने के

अनेकों उदाहरण राज्य गठन के बाद से मौजूद हैं। सरकार यदि चाहे तो शहर के केंद्र में

स्थित इस अस्पताल को और भी बेहतर बनाने की दिशा में कदम उठा सकती है। इसे भी

एक मल्टी स्पेशलिटी अस्पताल के तौर पर विकसित किया जा सकता है। इसके लिए

हेमंत सोरेन की सरकार को अपनी तरफ से दिल्ली के अस्पतालों और वहां के चिकित्सा

मॉडल का अध्ययन कर राज्य की जरूरत के मुताबिक उन्हें लागू करना चाहिए। किसी भी

राज्य के विकास के जो मूल आधार हैं, उनमें बेहतर स्वास्थ्य व्यवस्था भी अन्यतम है।

ऐसे में सरकारी चिकित्सा व्यवस्था पर और अधिक काम होना चाहिए। इससे और कुछ

नहीं तो कमसे कम निजी चिकित्सा के नाम पर लूट का जो कारोबार इस राज्य में गरीबों

को तबाह कर रहा है, वह रूक गया तो कमसे कम गरीबों के जरिए ही आर्थिक विकास का

नया मार्ग प्रशस्त होगा।

रांची सदर अस्पताल राज्य का मॉडल बन सकता है

आयुष्मान योजना को भी चंद निजी अस्पतालों ने कमाई का जरिया बना लिया है, इसमें

अब संदेह की कोई बात नहीं है। इसलिए रांची सदर अस्पताल के प्रयोग की सफलता को

स्थायी स्वरुप प्रदान करने के बाद राज्य का स्वास्थ्य विभाग क्रमवार तरीके से सभी

जिलों के एक एक अस्पताल में यह मॉडल चालू कर सकती है। हो सकता है कि यह भी

झारखंड की राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय छवि को निखारने में मददगार हो। दरअसल इस बात

को गांठ बांध लेना चाहिए कि बड़ी उपलब्धि का आधार छोटे छोटे प्रयास ही होते हैं। रांची

सदर अस्पताल में और क्या कुछ बेहतर किया जा सकता है, इस बारे में भी सोचा जाना

चाहिए ताकि रांची के अलावा भी राज्य के दूसरे हिस्सों के लोग यहां ईलाज के लिए आ

सके। आधारभूत संरचना के नाम पर यहां विशाल विशाल भवन बनकर तैयार हो चुके हैं।

उनमें चिकित्सा सुविधाएं उपलब्ध कराने अब आसान काम है। क्रमवार तरीके से यह काम

अगर हुआ तो आने वाले दिनों में यह राज्य अकेले रिम्स के भरोसे नहीं रह जाएगा। वैसे

भी राज्य के अन्य हिस्सों में बन रहे मेडिकल कॉलेजों के पूरा होने तक कम समय में रांची

सदर अस्पताल को और बेहतर बनाया जा सकता है। शर्त सिर्फ तमाम सुविधाओं के

निरंतर चालू और सही रखने भर की है।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from रांचीMore posts in रांची »
More from स्वास्थ्यMore posts in स्वास्थ्य »

6 Comments

  1. […] रांची सदर अस्पताल का सराहनीय प्रयोग रांचीः रांची सदर अस्पताल के नाम पर आम धारणा शायद सही नहीं है। दरअसल काफी अरसे से उपेक्षित और जर्जर अवस्था … […]

  2. […] रांची सदर अस्पताल का सराहनीय प्रयोग रांचीः रांची सदर अस्पताल के नाम पर आम धारणा शायद सही नहीं है। दरअसल काफी अरसे से उपेक्षित और जर्जर अवस्था … […]

Leave a Reply

error: Content is protected !!