fbpx Press "Enter" to skip to content

राजधानी में कोरोना संक्रमण हेमंत सोरेन सक्रिय इलाके में कर्फ्यू लगा

  • वहां साथ में रह रहे लोगों को भी हटाया गया

  • बार बार आग्रह के बाद भी छिपे हुए थे लोग

  • कर्फ्यू के एलान के बाद पुलिस की सख्ती बढ़ी

  • मलेशिया से आयी महिला में पाया गया संक्रमण

संवाददाता

रांचीः राजधानी में कोरोना संक्रमण की पुष्टि होने के बाद मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने इस

दिशा में अपनी सक्रियता और बढ़ा दी है। देर रात उपायुक्त की तरफ से हिंदपीढ़ी के उस

इलाके में कर्फ्यू लगाने की घोषणा भी कर दी गयी है। इसका मकसद संक्रमण की पूरी

जांच और उसे और बाहर फैलने से रोकना ही है।

अब पूरी मसजिद को सैनेटाइज करने की कवायद शुरु

एक कोरोना रोगी की पहचान होने के बाद उस पूरी मसजिद को ही नये सिरे से सैनेटाइज करने की आवश्यकता आ पड़ी है। मलेशिया की महिला इसी मसजिद में ठहरी हुई थी।

पहले से ही सरकार इस बारे में लगातार लोगों को जागरुक कर रही थी कि इस किस्म के विदेश भ्रमण अथवा संक्रमण के इलाके से आये लोग अपने आप ही अपनी गतिविधियों को सीमित रखें और स्वास्थ्य बिगड़ने और कोरोना के लक्षण नजर आते ही अपनी जांच करा लें।

बार बार दी गयी इन चेतावनियों को नजरअंदाज करने का ही नतीजा है कि अब राजधानी में इस  मसजिद के आस पास के इलाकों में भी संक्रमण दूर करने के

लिए विशेष तौर पर वहां दवा का छिड़काव किया जा रहा है।

वैसे एक मरीज में संक्रमण पाये जाने के बाद इस एक मरीज से कितनों को संक्रमण फैला

है, इसकी सूचना तो अलग थलग किये गये लोगों के स्वास्थ्य से ही पता चल पायेगा।

विदेश की घटनाओं से भी नहीं लिया था सबक

लेकिन यह भी तय है कि चीन और इटली के बाद स्पेन की घटनाओं ने यह साबित कर

दिया कि संक्रमण से बचने की सलाह को हल्के में लेने के खतरनाक नतीजे हो सकते हैं।

झारखंड में पहले से ही संक्रमण से बचने के सारे प्रबंध किये जाने के बाद सिर्फ चंद लोगों

की लापरवाही से इस विषाणु का यह न सिर्फ प्रवेश हो चुका है बल्कि इतने दिनों तक उसके

संपर्क में रहे लोगों के माध्यम से दूसरों तक भी यह कोरोना वायरस पहुंचा है। ऐसे में

मसजिद को विषाणुमुक्त करने की कवायद के साथ साथ महिला की यात्रा विवरण में

नजदीक रहे तमाम लोगों को जांच के लिए तलाशा जा रहा है क्योंकि यह आशंका है कि

ट्रेन में यात्रा करने से लेकर मसजिद में ठहरने के दौरान अन्य लोगों तक यह संक्रमण

फैला होगा।

संक्रमण रोकने के लिए ही लागू किया था राष्ट्र व्यापी लॉकडाउन

पहले भी राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन का फैसले इसी संक्रमण को रोकने के लिए ही किया गया

है। मुख्यमंत्री किचन का प्रारंभ करने के दौरान वहां की व्यवस्था की भी मुख्यमंत्री ने खुद

निगरानी की और  दैनिक दिनचर्या के बीच उन्होंने इलाकों की जमीनी जानकारी ली। इस

क्रम में वह वरीय अधिकारियों से लगातार संपर्क में रहे। उन्होंने एक मरीज का पता चलने

के बाद इलाके में और सघन जांच करने का भी निर्देश दिया है। उनके निर्देश पर प्रशासन

भी अब हिंदपीढ़ी के इलाके में पूरी सतर्क मुद्रा में है। उन्होंने प्रोजेक्ट भवन में

उच्चाधिकारियों के साथ बैठक कर स्थिति की समीक्षा भी की।

संक्रमण को फैलने से रोकने की रणनीति पर बैठक

इसके तहत संक्रमण को रोकने की दिशा में और क्या कुछ किया जाना चाहिए, इस

रणनीति को अंतिम रुप दिया जा रहा है। उल्लेखनीय है कि राष्ट्रीय स्तर पर लॉकडाउन

की घोषणा होने के पहले ही संकट को भांपते हुए मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने झारखंड में इसे

पहले ही लागू कर दिया था। उसके बाद से लगातार स्थिति पर नजर रखी जा रही है ताकि

संक्रमण को किसी भी स्थान पर फैलने के पहले ही नियंत्रित किया जा सके। इसी क्रम में

रांची में एक मरीज के पाये जाने के बाद पूरी स्थिति की नये सिरे से समीक्षा कर नये सिरे

संक्रमण रोकने तथा संभावित रोगियों की पहचान कर उन्हें भी अलग थलग करने के

निर्देश मुख्यमंत्री के द्वारा जारी किये गये हैं।

मलेशिया से धर्म प्रचार के नाम पर आयी इस महिला में कोरोना के लक्षण पाये गये हैं।

उन्हें रिम्स भेज दिया गया है। उनके साथ के अन्य लोगों को भी खेलगांव स्थित परिसर में

अलग किया गया है। वहां भी वे डाक्टरों की निगरानी में हैं। वैसे इस पूरे प्रकरण में अब

तक का सबसे बड़ा सवाल यह उठ रहा है कि सरकार द्वारा बार बार आग्रह किये जाने के

बाद भी इन विदेशियों के वहां होने की सूचना वहां के प्रबंधकों द्वारा क्यों नहीं दी गयी थी।

राजधानी में कोरोना संक्रमित महिला के तमाम विवरण एकत्रित

कर्फ्यू लगाने का एलान करते जिला के वरीय अधिकारी

यह महिला गत 16 मार्च को न्यू दिल्ली- रांची राजधानी एक्सप्रेस से रांची पहुंची है।

इसलिए अब इस ट्रेन के बी 1 कोच में यात्रा किए हुए सभी लोगों के विवरण रेलवे की तरफ

से जिला प्रशासन को उपलब्ध कराये जा रहे है। ऐसा इसलिए किया जा रहा है क्योंकि इस

दौरान संक्रमण की चपेट में आये लोगों की जांच से उसका पता लगाया जा सके। जिला

प्रशासन से यह सूचना प्राप्त होते ही इस कोच में यात्रा की वह सभी यात्रियों की विस्तृत

जानकारी जैसे उनके नाम की लिस्ट, मोबाइल नंबर, एड्रेस की जानकारी रांची जिला

प्रशासन को दी गई है। रेलवे की तरफ से कार्यरत सभी रेल कर्मचारियों की विस्तृत

जानकारी जैसे टीटीई, ओबीएचएस स्टाफ, कोच अटेंडेंट, खानपान यान के कर्मचारी की

संपूर्ण लिस्ट उनके मोबाइल नंबर तथा एड्रेस जिला प्रशासन दिया जा रहा है। इस कोच में

कार्यरत सभी रेल कर्मचारियों की विस्तृत जानकारी मंडल अस्पताल में भी उपलब्ध कराई

गई है साथ ही उन्हें अपने ही घर में क्वारंटाइन रहने के निर्देश जारी किए गए हैं।

राजधानी में आस पास के इलाकों में जनता की बैरिकेडिंग चालू

इस सूचना की पुष्टि होने के बाद राजधानी में आस पास के अनेक इलाकों में मुहल्ले के

रास्तों को बांस बल्ली से घेर दिया गया है। इसके साथ ही वहां कागज आदि से बाहरी लोगों

के प्रवेश पर पाबंदी लगाने की सूचना भी चिपका दी गयी है। इन इलाकों के लोग भी अपने

अपने क्षेत्र पर निगरानी रख रहे हैं।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from HomeMore posts in Home »
More from रांचीMore posts in रांची »

5 Comments

Leave a Reply

error: Content is protected !!
Open chat