Press "Enter" to skip to content

रांची शहर की 84 करोड़ रुपए लागत की विकास परियोजनाओं का शिलान्यास


  • जयपाल सिंह मुंडा की प्रतिमा पर माल्यार्पण

  • विकास कार्यों में जन सहभागिता जरूरी

  • कोरोना काल में राज्यवासियों ने धैर्य दिखाया

  • कुछ जमीन छोड़कर घर बनायें नागरिकः हेमंत सोरेन

राष्ट्रीय खबर

रांचीः रांची शहर के सर्वांगीण विकास में सरकार के साथ-साथ आम जनता की सहभागिता

होनी जरूरी है। सरकार की विकास योजनाएं अनवरत चलती रहती हैं परंतु इन योजनाओं

का लाभ हमें तभी पूर्ण रूप से मिलेगा जब हम जागरूक होकर सरकार के उद्देश्यों को पूरा

करने में अपनी महती भूमिका निभाएं। हमारी सरकार की सोच है कि कोई भी विकास

योजना लंबे समय के लिए होनी चाहिए जिसका लाभ सिर्फ हमें ही नहीं बल्कि आने वाली

पीढ़ी को भी मिल सके। विकास का पैमाना पर्यावरण को नुकसान पहुंचाकर नहीं बल्कि

पर्यावरण के साथ संतुलन बनाकर होना सुनिश्चित किया जाना चाहिए। उक्त बातें

मुख्यमंत्री ने आज जयपाल सिंह मुंडा स्टेडियम में आयोजित रांची शहर के विभिन्न

विकास परियोजनाओं के शिलान्यास कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहीं। मुख्यमंत्री ने

कहा कि रांची के बीचो-बीच स्थित जयपाल सिंह मुंडा स्टेडियम एवं बड़ा तालाब का

कायाकल्प कर आकर्षक रूप प्रदान करना राज्य सरकार की प्राथमिकता है। जो लोग बाहर

से रांची आते हंक वे एक बार जरूर इन जगहों पर घूमने पधारें इस सोच के साथ राज्य

सरकार आगे बढ़ रही है। मुख्यमंत्री ने कहा कि विकास योजनाओं का स्वरूप पर्यावरण के

साथ समन्वय स्थापित कर तैयार करें। मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारे कारणों से समस्याएं

उत्पन्न होंगी तो उसका समाधान भी हमें ही ढूंढने की जरूरत है। बेमौसम बारिश, बेमौसम

कहीं बाढ़, कहीं तूफान, कहीं महामारी ये सब पर्यावरण से छेड़छाड़ अथवा दोहन का

उदाहरण है। मुख्यमंत्री ने कहा कि आज से 25-30 साल पहले की रांची का वातावरण और

वर्तमान समय में रांची का वातावरण में काफी अंतर दिखाई पड़ता है।

रांची शहर के साथ साथ पूरे राज्य के लिए एक जैसी सोच 

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार का प्रयास है कि शहर के अंदर खाली जमीनों पर वृक्ष

लगाकर शहर को हरा-भरा बनाया जाए इस निमित्त विभाग को निर्देशित भी किया गया

है। मुख्यमंत्री ने कहा कि रांची शहर में अभी भी कई ऐसे वार्ड, गली-मोहल्ले हैं जहां सड़कें

काफी संकीर्ण हैं। मुख्यमंत्री ने लोगों से अपील किया कि सड़कें पतली और संकीर्ण होने से

छोटी-छोटी गाड़ियां भी गली मोहल्लों में नहीं पहुंच पाती है अतएव शहरवासी इन

समस्याओं के समाधान के लिए निरंतर प्रयासरत रहें तथा अपने-अपने घरों के सामने

स्वेछापूर्वक कुछ भूमि छोड़कर गृह निर्माण करें ताकि भविष्य में ऐसी समस्याओं से बचा

जा सके। छोटी-छोटी चीजों का ख्याल रखकर ही बड़े बदलाव किए जा सकेंगे। जनसंख्या

के हिसाब से सड़कों पर गाड़ियां भी अधिक हो गई हैं। हल्की बरसात में सड़कों पर पानी

बहने लगता है, हल्की तूफान से बिजली कट जाती है। रांची शहर के विकास कार्यों में तेजी

के साथ-साथ हर पहलुओं पर पैनी नजर रखने की आवश्यकता है। हम सभी लोग एकजुट

होकर ही विकास कार्यों को मूर्त रूप दे सकेंगे। समस्याओं का समाधान आपसी समन्वय

और समझदारी दिखाकर करें तभी चीजें सुधरेंगी।

सभी मिलकर प्रयास करेंगे तभी स्थिति में सुधार होगा

मुख्यमंत्री श्री हेमन्त सोरेन ने कहा कि रांची शहर में विभिन्न विकास परियोजना का

शिलान्यास आज 84 करोड़ रुपए की लागत से हो रहा है। मेरा मानना है कि इन विकास

परियोजनाओं की राशि का सही तरीके से उपयोग किया जाए तो यह राशि हजार करोड़ के

बराबर हो सकती है। मुख्यमंत्री ने स्पष्ट शब्दों में कहा कि विकास परियोजनाओं पर

लापरवाही करने वाले लोगों को किसी भी हाल में बक्शा नहीं जाएगा। दोषी पाए जाने पर

कार्रवाई सुनिश्चित की जाएगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्यवासी एवं रांचीवासियों ने

संक्रमण काल में धैर्य का परिचय दिया है। यहां के लोग इस हेतु धन्यवाद के पात्र हैं। सभी

लोगों के सहयोग से संक्रमण काल में राज्य को विकट परिस्थिति से बचाया गया है। आने

वाली चुनौतियों के लिए भी हम सबों को तैयार रहने की आवश्यकता है।

Spread the love
More from HomeMore posts in Home »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from रांचीMore posts in रांची »
More from राज काजMore posts in राज काज »

Be First to Comment

Mission News Theme by Compete Themes.