fbpx Press "Enter" to skip to content

राज्य सभा चुनाव मामले में मंटू सोनी का बयान भी दर्ज

  • रघुवर दास के प्रेस सलाहकार अजय कुमार पर बयान

  • कब और कैसे बात हुई, इसका ब्योरा दिया

  • अजय कुमार ने ही फोन पर बात करायी

  • योगेंद्र साव और निर्मला देवी दोनों डटे रहे

संवाददाता

रांचीः राज्य सभा चुनाव में हॉर्स ट्रेडिंग मामले की जांच की गाड़ी फिर आगे बढ़ने लगी है।

इस बार मंटू सोनी ने स्थानीय जगन्नाथपुर थाना में अपना बयान दर्ज कराया है। अपने

बयान में उन्होंने पहले लगाये गये आरोपों का समर्थन किया है और अपनी तरफ से

जानकारी दर्ज करायी है। पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास के शासनकाल में चुनाव आयोग के

निर्देश पर मामला दर्ज होने के बाद भी मामले के जांच की गाड़ी आगे नहीं बढ़ पायी थी।

अब हेमंत सोरेन की सरकार में नये सिरे से इस पर जांच की गति शायद तेज हुई है। अपने

बयान में मंटू सोनी ने कहा है कि राज्य सभा चुनाव में भाजपा प्रत्याशी के पक्ष में मतदान

के लिए खुद रघुवर दास ने ही पांच करोड़ रुपये का प्रस्ताव दिया था। इस क्रम में उन्होंने

रघुवर दास के प्रेस सलाहकार रहे अजय कुमार का साफ नाम लिया है। उल्लेखनीय है कि

पूर्व मुख्यमंत्री और अब भाजपा विधायक दल के नेता बाबूलाल मरांडी ने ही योगेंद्र साव

प्रकरण की सीडी प्रेस को सौंपी थी। उस वक्त वह झारखंड विकास मोर्चा के अध्यक्ष थे।

अपने बयान में मंटू सोनी ने कहा है कि निर्मला देवी के पति पूर्व मंत्री योगेंद्र साव से

तत्कालीन सीएम रघुवर दास की बात उनके सलाहकार अजय कुमार ने फोन पर कराई

थी। रघुवर दास ने भाजपा प्रत्याशी को वोट देने के एवज में पांच करोड़ रुपए का प्रलोभन

दिया था। पैसा एयरपोर्ट रोड स्थित होटल ग्रीन एकर में पहुंचाना था। वोटिंग के दिन 10

जून 2016 तक निर्मला देवी के मोबाइल पर कॉल आते रहे और प्रलोभन दिया जाता रहा,

लेकिन निर्मला देवी ने ऐसा कुछ नहीं किया।

राज्य सभा चुनाव में योगेंद्र साव और निर्मला देवी ने कुछ नहीं किया

मंटू ने योगेंद्र साव और रघुवर के साथ बैठे फोटो समेत अन्य सबूत भी दिए। पुलिस को

दिये अपने बयान में मंटू सोनी ने कहा है कि वे पूर्व विधायक योगेंद्र साव के साथ जब

दिल्ली में थे तो फोन आया था। 8 जून 2016 को वह और योगेंद्र साव दिल्ली में थे। तब

मुझे उसे फोन किया गया था। चुनाव से पहले रांची लौटे तो अजय कुमार ने ही फोन पर

सीएम से बात कराई। योगेंद्र साव को रघुवर दास से मिलाने धुर्वा स्थित आवास पर गए।

जबकि उस वक्त योगेंद्र साव पर वारंट भी था। इससे संबंधित वीडियो और फोटो वायरल

भी हुआ था।

अजय कुमार पर जाली एफिडेविट का मामला भी लंबित

अपने घर के संबंध में जाली एफिडेविट दाखिल करने में अजय कुमार के खिलाफ पहले से

ही मामला दर्ज है। शहर में नक्शा विचलन और गलत तरीके से जमीन कब्जा करने के कई

मामले सीबीआई में तथा कई मामले निगरानी की जांच के दायरे में हैं। इन सभी में अजय

कुमार द्वारा अपने पड़ोसी की जमीन पर कब्जा करने की शिकायत दर्ज है। पूर्व मुख्यमंत्री

के शासनकाल में अपने प्रभाव का इस्तेमाल कर नगर निगम के गलत आदेश पारित करा

लेने के बाद यह मामले अब तक विचाराधीन ही हैं।

हॉर्स ट्रेडिंग मामले में एडीजी अनुराग गुप्ता भी अभियुक्त

रघुवर दास के शासनकाल में काफी प्रभावशाली आइपीएस अधिकारी अनुराग गुप्ता पर

भी इस मामले में आरोप लगा है। इसी वजह से चुनाव आयोग के निर्देश पर जब मामला

दर्ज किया गया तब से चुनाव के मौके पर अनुराग गुप्ता को किसी विशेष जिम्मेदारी के

पद से हटा दिया जाता है। वैसे सूत्रों के मुताबिक उनके खिलाफ लोकायुक्त के यहां भी एक

और मामला चल रहा है।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from HomeMore posts in Home »
More from अदालतMore posts in अदालत »
More from झारखंडMore posts in झारखंड »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from बयानMore posts in बयान »
More from राजनीतिMore posts in राजनीति »

2 Comments

Leave a Reply

... ... ...
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: