fbpx Press "Enter" to skip to content

पी चिंदावरम की ट्विट से फिर विवादों में राफेल विमान डील

  • भारत को नहीं दी गयी है तकनीकी जानकारी

विशेष प्रतिनिधि

नईदिल्लीः पी चिंदावरम ने अपनी एक ट्विट से फिर से राफेल विमान सौदे की

चर्चा को गरमी दे दी है। उन्होंने पहली बार यह सवाल उठा दिया कि क्या सीएजी

रिपोर्ट में अंदरखाने में बंद सारा कचड़ा धीरे धीरे बाहर आ रहा है। शर्त के मुताबिक

36 राफेल विमान खरीदने के क्रम में निर्माता कंपनी को इसकी तकनीकी

जानकारी भी भारत को उपलब्ध करानी थी। सौदे के एक साल बीत जाने के बाद

भी यह प्रक्रिया पूरी नहीं की गयी है, ऐसा सीएजी की रिपोर्ट में बताया गया है। 58

करोड़ रुपये के इस सैन्य विमान सौदे को लेकर पहले से ही काफी बवाल हो चुका

। इसके निर्माता फ्रेंच कंपनी ने करार के मुताबिक वह टेक्नोलॉजी ट्रांसफर नहीं

किया है, जो शर्त की करारों शामिल था। सीएजी की यह रिपोर्ट संसद में प्रस्तुत

की गयी है।

पी चिंदावरम सीएजी की रिपोर्ट का हवाला वित्तीय मामलों का जानकार 

केंद्र सरकार से दो दो हाथ करने के चक्कर में काफी दिनों तक जेल की हवा खा

चुके पूर्व केंद्रीय वित्त मंत्री पी चिदावंरम को  एक कुशल अधिवक्ता माना जाता

है। इसी वजह से सीएजी की रिपोर्ट का हवाला वित्तीय मामलों का जानकार और

हुए उन्होंने जो कुछ लिखा है, उससे ठंडे बस्ते में पड़ा राफेल विमान सौदे पर फिर

से चर्चा तेज हो चली है। पी चिदांवरम ने ट्विट किया है कि यह काम तो 23

सितंबर 2019 को प्रारंभ हुआ था। आज एक साल बीत जाने के बाद भी सौदे के

इस मूल शर्त को क्यों पूरा नहीं किया गया, इस पर केंद्र सरकार को अपना पक्ष

स्पष्ट करना चाहिए। सीएजी की रिपोर्ट में ब ताया गया है कि इस विमान के सौदे

में कुल चार समझौते हुए हैं। इसमें से मूल निर्माता दासाल्ट एवियेशन को विमान

संबंधी उच्च तकनीक की जानकारी भारत के डीआरडीओ को प्रदान करना था।

शर्त के मुताबिक यह काम पहले ही पूरा कर लिया जाना था। डीआरडीओ भी

अपनी तकनीक के आधार पर हल्के लड़ाकू विमान तैयार करने के लिए इस

का अध्ययन करना चाहती थी। डीआरडीओ हल्के लड़ाकू विमानों के लिए अपने

स्तर पर कावेरी नाम की इंजन बना रही है। लेकिन अब तक फ्रांस की कंपनी ने

सौदे की इस शर्त को पूरा नहीं किया है।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from दिल्लीMore posts in दिल्ली »
More from राजनीतिMore posts in राजनीति »

Be First to Comment

Leave a Reply

error: Content is protected !!