fbpx Press "Enter" to skip to content

शांत रविवार को बड़ा तालाब पक्षियों के कलरव से गूंजा

  • मौका देखकर मछली मारने भी पहुंचे कुछ लोग

  • उत्तरी छोर पर लग रहा है शराबियों का डेरा

  • बीच की प्रतिमा की निचले हिस्से ढक गये

संवाददाता

रांचीः शांत रविवार को बड़ा तालाब के पास खड़ा होने पर सबस अधिक अगर कोई शोर था

तो वह था वहां मौजूद पक्षियों का कलरव। भीड़ बहुत कम होने की वजह से अब इन

चिड़ियों का झूंड भी पानी वाले हिस्से में थोड़ा करीब आ गया है। उन्हें जब तक कोई

परेशान नहीं करे वे अपनी धून में उड़ते और फिर तालाब में उतरते रहते हैं। इस बीच

बगूलों के झूंड ने अपनी समय सारणी बदल ली है। वे खास समय तक ही पानी पर मौजूद

आते हैं। शेष समय वे तालाब की बीच बने टापू नूमा इलाकों में रहते हैं। वैसे इस दौरान पूरे

तालाब में जलकुंभी के साथ साथ दूसरे पौधे भी तेजी से उग आये हैं।

तालाब के उत्तर पश्चिमी छोर पर कुछ हिस्सा अभी जलकुंभी से बचा हुआ है। इसलिए

मौका देखकर चुपके से वहां जाल डालने वाले भी नजर आये। जाल डालने के चंद मछलियां

जाल में फंसी। जिसे बटोरकर जाल डालने वाला आसानी से अपनी राह आगे चला गया।

इसी छोर पर खड़े बड़े मालवाहक ट्रकों के चालकों के लिए तालाब को देखना ही टाइम पास

का सबसे बड़ा साधन है। आस पास के कुछ लोग भी बीच बीच में तालाब के अंदर झांकने

की कोशिश करते हैं। इन गतिविधियों के बीच थोड़े समय के अंतराल में पुलिस की गश्ती

गाड़ी वहां आती है। औघड़ राम आश्रम की छांव में पुलिस के वाहन खड़े होते हैं। तालाब की

दूसरे छोरों पर पुलिस का कड़ा पहरा है क्योंकि इन इलाकों में कोरोना का संक्रमण पाया जा

रहा है।

शांत रविवार ऊपर से पुलिस का पहरा भी

सफाई और देखरेख नहीं होने की वजह से तालाब का लगभग पूरा इलाका जलकुंभी के ढक

चुका है। बीच में स्थापित स्वामी विवेकानंद की प्रतिमा के नीचे बने आधार के हिस्से अब

पूरी तरह इससे ढक गये हैं। मजेदार बात यह है कि इस जलकुंभी के अंबार के ऊपर कुछ

और पौधे भी तेजी से पनप रहे हैं। इन पौधे की अब तक पहचान नहीं हो पायी है। लेकिन

ध्यान से देखने पर जलकुंभी के बीच अलग से इन्हें पहचान पाना आसान है। जहां कहीं भी

जरा सा पानी नजर आता है, वह अब पूरी तरह काला पड़ चुका है।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from रांचीMore posts in रांची »

One Comment

Leave a Reply

error: Content is protected !!