fbpx Press "Enter" to skip to content

मुनाफाखोरी रोकने के लिए पंजाब विजिलेंस ने बढ़ाया कदम

चंडीगढ़ः मुनाफाखोरी रोकने के लिए पंजाब के विजिलेंस विभाग ने भी कमर कस ली

है। पंजाब विजीलेंस ब्यूरो ने कोविड-19 महामारी से लड़ने की सरकार की मुहिम में

साथ देने के लिये मुनाफाखोरी तथा चीजों का अनावश्यक भंडारण करने वालों पर पैनी

नजर रखने की पेशकश की है । प्रदेश सरकार इस ख़तरनाक वायरस को फैलने से

रोकने के लिए कर्फ्यू लगाने समेत सभी जरूरी कदम उठा रही है। ब्यूरो के मुख्य

निदेशक बी।के। उप्पल ने मौजूदा स्थिति को समझते हुए जिला प्रशासन और पुलिस

के साथ तालमेल रखने और हर तरह के सहयोग और सहायता की पेशकश के निर्देश

दिये हैं । ब्यूरो के प्रवक्ता ने बताया कि ब्यूरो के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षकों ने पहले ही

सम्बन्धित उपायुक्तों और जिÞला पुलिस प्रमुखों को अर्द्ध सरकारी पत्र भेज दिए हैं और

उन्हें हर संभव सहायता और सहयोग देने को कहा है। श्री उप्पल ने अपने अधिकारियों

को निर्देश दिए हैं कि वे जÞरूरी चीजों को भंडारण करने वालों या मुनाफाखोरी करने

वालों पर कड़ी नजर रखें और कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए सरकार द्वारा किये

जा रहे प्रयासों को अक्षरश: पालन करने में जान-बूझकर अनियमितताएं करने वालों पर

भी नजर रखें। ज्ञातव्य है कि ब्यूरो के अधिकारी पहले ही अपना एक दिन का वेतन

मुख्यमंत्री राहत कोष में देने का फैसला कर चुके हैं।

मुनाफाखोरी रोकने की जरूरत अन्य राज्यो में भी है

लॉक डाउन और कर्फ्यू का एलान होते ही अधिकांश इलाकों में दैनिक जरूरत के

सामानों की कीमतों में बढ़ोत्तरी देखी जा रही है। सब्जी से लेकर चावल दाल तक की

कीमतों में बढ़ोत्तरी होने के बाद भी यह दलील दी जा रही है कि सामान की उपलब्धता

कम होने की वजह से ऐसा हो रही है। दूसरी तरफ लॉक डाउन होने की वजह से किसान

भी अपनी फसल बाजार तक नहीं ला पा रहे हैं। इससे भी सब्जियों की कमी होने से

मुनाफाखोरी रोकने की अधिक जरूरत महसूस की जा रही है।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Be First to Comment

Leave a Reply

error: Content is protected !!