fbpx Press "Enter" to skip to content

सैन्य दमन के खिलाफ म्यांमार में अनोखा प्रदर्शन वीडियो वायरल

  • सुरक्षा बलों के सामने घुटनों के बल बैठी नर्स

  • नर्स को ऐसा करते देख साष्टांग कर गया सैनिक

  • नर्स ने कहा युवकों की हत्या होते देख रही हूं

  • इंटरव्यू में कहा मैंने पांच लोगों की हत्या देखी

भूपेन गोस्वामी

गुवाहाटी : सैन्य दमन के विरोध का एक अनोखा वीडियो सामने आया है। यह म्यांमार की

घटना है जहां सेना लगातार आम नागरिकों पर हिंसक कार्रवाई कर रही है।  म्यांमार में

सत्ता परिवर्तन के बाद से लगातार हिंसा का दौर चल रहा है। ऐसे में मिलिट्री शासन का

विरोध कर रहे हिंसक लोगों को रोकने के लिए मिलिट्री और पुलिस गोलीबारी कर रही है।

कई लोग मारे गए हैं, कई लोग घायल भी हुए हैं। ऐसे ही मिलिट्री और पुलिस हिंसक लोगों

को रोकने के लिए बल प्रयोग कर रही थी कि तभी एक नन उनके सामने आकर घुटनों के

बल बैठ गई। अब एक विशेष वीडियो तेजी से सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है।

वीडियो में दिखाया गया है कि सिस्टर ऐन रोज नू तवांग सुरक्षाबलों के सामने घुटनों के

बल बैठकर लोगों को न मारने की विनती कर रही हैं। इस म्यांमार हिंसा में सुरक्षा बलों के

सामने घुटनों पर बैठी नर्सों ने कहा कि मुझे गोली मारो, बच्चों को छोड़ दो। ऐसे ही

मिलिट्री और पुलिस हिंसक लोगों को रोकने के लिए बल प्रयोग कर रही थी कि तभी एक

नन उनके सामने आकर घुटनों के बल बैठ गई। नन ने मिलिट्री और पुलिस के जवानों से

कहा कि गोली मारनी है तो मुझे मार दो लेकिन बच्चों को छोड़ दो।सफेद रोब और काले

हैबिट को पहने हुए सिस्टर ऐन रोज नू तवांग ने सुरक्षाबलों से कहा कि अगर आप मारना

ही चाहते हैं तो मुझे गोली मार दीजिए लेकिन बच्चों को छोड़ दीजिए. उनकी ये हालत देख

कर दो सुरक्षकर्मी भी उनके साथ घुटनों के बल बैठकर हाथ जोड़कर उनसे बात करने लगे।

सैन्य दमन का ऐसा प्रतिरोध देख सैनिक भी हक्के बक्के रह गये

सिस्टर ऐन रोज नू तवांग ने कहा कि मैंने सुरक्षाबलों से कहा कि उन्हें मत मारिए। उन्हें

परिवार की तरह समझिए। मैं तब तक यहां खड़ी रहूंगी, जब तक सुरक्षाबल लोगों को नहीं

मारने का वादा नहीं करते। सुरक्षाबल के जवान किसी भी प्रदर्शनकारी के साथ हिंसक या

क्रूर रवैया नहीं अपनाएंगे। ऐसा कर वह आम नागरिकों के खिलाफ हो रहे सैन्य दमन को

रोकना चाहती थीं।  एक तस्वीर में ऐसा भी नजर आता है कि एक सुरक्षाकर्मी पूरी तरह से

झुककर जमीन पर अपना सर रखकर सिस्टर ऐन रोज नू तवांग से सड़क पर से हटने की

विनती करता है । तवांग उससे कहती हैं कि मैंने बंदूकों की तेज आवाजें सुनी हैं । मैंने

युवाओं का सिर गोली लगने से फटते हुए देखा है। वहां खून की नदियां बह रही हैं। सिस्टर

ऐन रोज नू तवांग ने रॉयटर्स को टेलीफोन पर दिए गए इंटरव्यू में कहा कि उन्होंने ये सारा

नजारा देखा है। उन्होंने 5 से अधिक प्रदर्शनकारियों को मरते हुए देखा है। कई

प्रदर्शनकारियों को बुरी तरह से जख्मी देखा है। जब इस बारे में मिलिट्री और पुलिस के

प्रवक्ता ने कोई भी बात करने से मना कर दिया।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from HomeMore posts in Home »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from म्यांमारMore posts in म्यांमार »
More from राज काजMore posts in राज काज »
More from विधि व्यवस्थाMore posts in विधि व्यवस्था »
More from विवादMore posts in विवाद »

Be First to Comment

... ... ...
%d bloggers like this: