fbpx Press "Enter" to skip to content

असम के चुनाव प्रचार में प्रियंका गांधी का जोरदार क्रेज

  • चाय बगान में मजदूरों के साथ तोड़े पत्ते

  • प्रधानमंत्री से 25 लाख रोजगार का सवाल पूछा

  • युवतियों और महिलाओं के बीच लगातार सक्रिय

  • कांग्रेस की तरफ से पांच गारंटी का वादा भी किया

भूपेन गोस्वामी

गुवाहाटी : असम के चुनाव के प्रचार में प्रियंका गांधी का दौरा सफल होता नजर आ रहा

है। इस चुनाव में अलग-अलग वर्गों तक अपनी पहुंच बनाने एवं उन्हें अपनी तरफ रिझाने

के लिए कांग्रेस की तरफ से लगातार प्रयास किए जा रहे हैं। कांग्रेस महासचिव प्रियंका

गांधी राज्य के दौरे पर हैं। सोमवार को उन्होंने कामाख्या मंदिर में पूजापाठ एवं दर्शन

किए और लखीमपुर जिले में पार्टी कार्यकर्ताओं से मुलाकात की। असम के चुनाव प्रचार

में अपनी यात्रा के अगले पड़ाव में मंगलवार को वह विश्वनाथ जिले के सधुरू चाय

बागान पहुंचीं। यहां बाग में प्रियंका चाय बागान के अन्य कर्मचारियों की तरह वेशभूषा में

नजर आईं। उन्होंने बाग में चाय की पत्तियों को अपने हाथ से चुनकर टोकरी में डाला।

एक साड़ी पहने, 49 वर्षीय उसकी पीठ पर एक टोकरी उसके सिर पर एक बैंड द्वारा

संतुलित था। वह भी उसकी कमर पर एक झोली के साथ बख्तरबंद था के रुप में वह चाय

की पत्तियों को तोड़ने का काम पर ले लिया। असम के चुनाव प्रचार के दौरान इन बागानों

के श्रमिकों का जीवन सत्य और सादगी से भरा है और उनका श्रम देश के लिए मूल्यवान

है। गांधी ने चाय श्रमिकों के साथ बातचीत करते हुए खुद की तस्वीरों के साथ ट्वीट किया,

आज मैं उनके काम को समझ गया, उनके परिवारों और उनके जीवन की कठिनाइयों को

अच्छी तरह से महसूस किया। उन्होंने आगे कहा, मैं उनसे मिले प्यार को नहीं भूलूंगा।

चाय बगान मजदूरों का समर्थन बाजी पलट सकता है

इससे पहले दिन में असम के चुनाव प्रचार में चाय बागान में उनका गर्मजोशी से स्वागत

किया गया, जिसकी तस्वीरें कांग्रेस ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर शेयर की थीं।

इस बार राज्य में मुख्य मुकाबला भारतीय जनता पार्टी और कांग्रेस-एआईयूडीएफ के बीच

है। कांग्रेस की कोशिश असम के चुनाव प्रचार में सभी तबके तक अपनी पहुंच बनाने की है।

इसके लिए वह एक रणनीति के तहत काम कर रही है। चुनावी विश्लेषकों का मानना है कि

प्रियंका का कामाख्या मंदिर में पूजापाठ हिंदू वोटरों को आकर्षित करने की एक कोशिश

है। प्रियंका अपनी इस दो दिनों की यात्रा से युवाओं एवं महिलाओं को कांग्रेस के नेतृत्व

वाले सात दलों के गठबंधन से जोड़ने का प्रयास कर रही हैं। राज्य में सोमवार को प्रियंका

ने दो बैठकें कीं। उनकी पहली बैठक लखीमपुर में युवाओं के साथ हुई जबकि दूसरा

कार्यक्रम गोहपुर में चाय बागान कर्मियों एवं महिला स्यवं-सहायता समूहों के साथ हुआ।

इन दोनों समूहों पर असम के चुनाव प्रचार में भाजपा की भी नजर है। लखीमपुर में कांग्रेस

नेता ने भाजपा सरकार पर हमला बोलते हुए कहा, ‘आप राज्य की सबसे बड़ी ताकत हैं। मैं

यहां सभी लोगों के लिए एक कार्यक्रम की शुरुआत करने आई हूं। यह प्रदर्शन अब राज्य के

प्रत्येक जिले एवं ब्लॉक में होगा। आपको अपने नेता को जानने की जरुरत है। आप अगर

सच्चाई नहीं जानेंगे तो आप अपना भविष्य सुरक्षित नहीं कर पाएंगे।

असम के चुनाव प्रचार प्रियंका गांधी ने किया सवाल !

क्या हुआ 25 लाख नौकरियां देने का वादा ? उसने कहा कि भाजपा की सरकार ने यहां 25

लाख नौकरियां देने का वादा किया था लेकिन पांच सालों में उन्होंने 80,000 नौकरियां भी

नहीं दीं।’गोहपुर में महिलाओं को संबोधित करते हुए प्रियंका ने उनसे कांग्रेस गठबंधन के

पक्ष वोट करने की अपील की। असम के चुनाव प्रचार में उन्होंने कहा, ‘चुनाव नजदीक

आने पर वे स्कूटी बांट रहे हैं, स्वयं सहायता समूहों की मदद कर रहे हैं। वे पिछले पांच

साल तक क्या कर रहे थे। आपका जीवन काफी मुश्किल भरा है। आपको चुप नहीं रहना

है। राज्य में महिलाओं के खिलाफ अपराध बढ़े हैं। सरकार ने अपराध रोकने के लिए कुछ

भी नहीं किया है।’ असम में कांग्रेस ने राज्य के लिए 5 गारंटी की घोषणा की है , अगर

कांग्रेस सत्ता में बनेगी। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने असम के तेजपुर में मेगा रैली

को संबोधित किया। प्रियंका गांधी ने कहा कि असम आपकी मां है और आप अपनी

पहचान व अस्तित्व बचाने की लड़ाई लड़ रहे हैं।भाजपा सरकार ने आपसे किए हुए वादे पूरे

नहीं किए और आपकी पहचान पर भी हमला किया। हम वादे नहीं आपको गारंटी दे रहे हैं।

पांच गारंटी के फायदे भी लोगों को विस्तार से बताया

ये 5 गारंटी आपके भविष्य को बेहतर बनाने के लिए हैं। 1- हम ऐसा कानून बनायेंगे

जिससे सीएए यहां लागू नहीं होगा। असम की गृहणियों के लिए प्रति माह 2000 रुपये

गृहणी सम्मान राशि दी जाएगी। बिजली के 200 यूनिट मुफ्त जिससे हर महीने 1400

रुपये की बचत होगी। हम चाय के बागान के श्रमिकों को प्रति दिन 365 रुपये का

पारिश्रमिक देंगे। हम युवाओं को 5 लाख रोजगार देंगे। असम के चुनाव प्रचार में तेजपुर में

प्रियंका गांधी की मेगा कैंपेन रैली के लिए लोगों का एक समुंदर निकला। रैली में असम

कांग्रेस के सभी शीर्ष नेताओं ने प्रियंका गांधी का साथ दिया। बीपीएफ प्रमुख हागराम

मोहिलेरी, जिनकी पार्टी हाल ही में भाजपा के साथ संबंधों को तड़क-भड़क के बाद

महागठबंधन में शामिल हुई थी, भी इस विशाल रैली में मौजूद थीं।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from HomeMore posts in Home »
More from असमMore posts in असम »
More from चुनाव 2021More posts in चुनाव 2021 »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from नेताMore posts in नेता »

One Comment

... ... ...
%d bloggers like this: