fbpx Press "Enter" to skip to content

रायबरेली लोकसभा चुनाव में हार के कारणों की पड़ताल करेंगे प्रियंका और सिंधिया




लखनऊः रायबरेली लोकसभा चुनाव में पार्टी के पराजय के

कारणों की पड़ताल की जिम्मेदारी अब कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा

और ज्योतिरादित्य सिंधिया पर है. दोनों लोकसभा चुनाव में मिली

करारी हार के कारणों की पड़ताल करने के साथ उत्तर प्रदेश में

2022 में होने वाले राज्य विधानसभा चुनाव के लिये रणनीति तैयार करेंगे।

पूर्वी उत्तर प्रदेश की प्रभारी श्रीमती वाड्रा मंगलवार को दो

दिवसीय दौरे पर रायबरेली पहुंचेगी और बुधवार को पार्टी

पदाधिकारियों के साथ बैठक कर पूर्वांचल में 40 लोकसभा सीटों पर

दयनीय प्रदर्शन की समीक्षा करेंगी। इसी प्रकार पश्चिमी उत्तर प्रदेश के

प्रभारी ज्योतिरादित्य सिंधिया लखनऊ में 14 जून को हार के

कारणों को टटोलेंगे और नये सिरे से पार्टी की मजबूती के लिये

रणनीति बनायेंगे। इससे पहले श्रीमती वाड्रा का शनिवार को

प्रस्तावित प्रयागराज दौरा आखिरी क्षणों में निरस्त हो गया था।

रायबरेली में प्रस्तावित करीब सात घंटे की मैराथन बैठक

श्रीमती वाड्रा 40 संसदीय क्षेत्रों में हारे हुये पार्टी प्रत्याशियों

और जिलाध्यक्षों से बात करेंगी। श्रीमती वाड्रा 11 जून को शाम

साढ़े सात बजे फुर्सतगंज हवाई अड्डा पहुंचेगी जहां से वह भुईमऊ

अतिथिगृह जायेंगी। रात्रि प्रवास करने के बाद कांग्रेस महासचिव

बुधवार सुबह साढे नौ बजे से पूर्वी उत्तर प्रदेश की पार्टी संगठन की

बैठकों में हिस्सा लेंगी। कार्यकर्ताओं और वरिष्ठ नेताओं के साथ

विचार विमर्श का यह सिलसिला शाम पांच बजे तक चलेगा।

श्रीमती वाड्रा रात नौ बजे दिल्ली वापस लौट जायेंगी।

दूसरी ओर श्री सिंधिया शुक्रवार को लखनऊ आयेंगे और

सुबह 11 बजे से शाम छह बजकर 20 मिनट के बीच

पूर्व सांसदों,विधायकों और पार्टी पदाधिकारियों के साथ

बैठक कर हार के कारणों की समीक्षा करेंगे। गौरतलब है कि

पिछले लोकसभा चुनाव में कांग्रेस को उत्तर प्रदेश में रायबरेली के

तौर पर एकमात्र सीट हासिल हुयी थी। इस चुनाव में कांग्रेस

अध्यक्ष राहुल गांधी को अपने गढ़ अमेठी को गंवाना पडा था।

उन्हे भाजपा की स्मृति ईरानी ने शिकस्त दी थी।



Rashtriya Khabar


More from चुनावी चकल्लसMore posts in चुनावी चकल्लस »

One Comment

Leave a Reply

WP2FB Auto Publish Powered By : XYZScripts.com