fbpx Press "Enter" to skip to content

निजीकरण से सरकार के जगह पूंजीपतियों की तिजोरी भरेगी: बीडी प्रसाद


फोटो-01-निजीकरण के खिलाफ प्रदर्शन करते यूनियन के नेता एवं कार्यकर्ता।


बोकारो: भारत पेट्रोलियम कॉरपोरेशन लिमिटेड का निजीकरण किए जाने के खिलाफ

भारत पेट्रोलियम के कर्मचारियों द्वारा सात और आठ सितंबर 2020 को दो दिवसीय

देशव्यापी हड़ताल के समर्थन में सोमवार को इस्पात मजदूर मोर्चा सीटू के तत्वाधान में

भारत पैट्रोलियम पंप सेक्टर 2 डी के पास प्रदर्शन व नुक्कड़ सभा की गई। नुक्कड़ सभा को

संबोधित करते हुए यूनियन के संयुक्त महामंत्री बीड़ी प्रसाद ने कहा कि भारी मुनाफा

कमाने वाली सार्वजनिक क्षेत्र की इस कंपनी का मोदी सरकार द्वारा निजीकरण करने का

निर्णय पूरी तरह से राष्ट्र विरोधी कदम है। सार्वजनिक क्षेत्र के उद्योगों के मजदूरों के हक

एवं अधिकारों पर भी हमला है। भारत पेट्रोलियम लगातार हर वर्ष 8000 करोड़ रुपए से

ज्यादा सरकार के खजाने में देते आई है। निजीकरण करने के बाद यह आय सरकार के

खजाने के बदले निजी पूंजीपतियों के तिजोरी में जाएगी। सरकार के इस निर्णय से राष्ट्रीय

खजाने को काफी क्षति पहुंचेगी। सीआईटीयू मोदी सरकार के इस कदम का विरोध करती

है और मांग करती है कि भारत पेट्रोलियम कॉरपोरेशन लिमिटेड का निजीकरण करना बंद

किया जाए। कार्यक्रम में केएन सिंह, आरके गोरांई, संदीप कुमार आश, आरएन सिंह, पवन

कुमार, मो अब्बास, शंकर पोद्दार, पीआर साहु, कमलेश राम, केएन प्रसाद आदि ने भी

अपने विचार व्यक्त किए।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from झारखंडMore posts in झारखंड »
More from बोकारोMore posts in बोकारो »
More from व्यापारMore posts in व्यापार »

Be First to Comment

Leave a Reply