Press "Enter" to skip to content

राज्यों में जारी कोविड संकट की फिर से समीक्षा की प्रधानमंत्री ने

  • दवा और ऑक्सीजन की उपलब्धता पर चर्चा हुई

  • वायरस को रोकने का तरीका है टीकाकरण में तेजी

  • सभी राज्यों को अंतिम राहत की दी गारंटी भी दी,

राष्ट्रीय खबर

नई दिल्ली : राज्यों में जारी कोविड संकट के बीच प्रधानमंत्री मोदी ने आज समीक्षा बैठक

की अध्यक्षता की। उन्होंने परिदृश्य राज्य और जिलेवार चर्चा की। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा

कि कोविड-19 के नामांतरण को रोकने और तेज गति से वायरस के फैलाव को नियंत्रित

करने के लिए टीकाकरण ही एकमात्र समाधान है। इसलिए उन्होंने राज्य सरकारों से

टीकाकरण प्रक्रिया को रैंप पर लाने का आग्रह किया है कि वायरस को म्यूट करने से रोकने

और तेज गति से वायरस के फैलाव को नियंत्रित करने का यही एकमात्र समाधान है।

उन्होंने सभी राज्यों के साथ दवा और ऑक्सीजन की उपलब्धता पर चर्चा की और अंतिम

राहत की गारंटी दी। इस समय भारत दुनिया में रिकॉर्ड तोड़ मामलों की रिपोर्टिंग कर रहा

है। जगह में टीकाकरण अभियान के साथ, वायरस फैल एक अंतिम नियंत्रण देख सकते

हैं। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज देश में सीओवीाइड-19 से संबंधित स्थिति की व्यापक

समीक्षा की। उन्हें विभिन्न राज्यों और जिलों में कोविड प्रकोप पर विस्तृत तस्वीर दी गई।

उन्हें उन 12 राज्यों के बारे में बताया गया, जिनमें 1 लाख से ज्यादा सक्रिय मामले हैं।

प्रधानमंत्री को बीमारी का बोझ अधिक होने वाले जिलों के बारे में भी अवगत कराया गया।

पीएम मोदी को राज्यों द्वारा हेल्थकेयर इंफ्रास्ट्रक्चर को रैंप पर लाने के बारे में जानकारी

दी गई। उन्होंने निर्देश दिया कि राज्यों को स्वास्थ्य देखभाल बुनियादी ढांचे को रैंप पर

लाने के लिए प्रमुख संकेतकों के बारे में मदद और मार्गदर्शन दिया जाना चाहिए। त्वरित

और समग्र रोकथाम उपायों को सुनिश्चित करने की आवश्यकता पर भी चर्चा की गई।

प्रधानमंत्री ने कहा कि चिंता के जिलों की पहचान करने के लिए राज्यों को एक परामर्श

भेजा गया था जहां मामले में सकारात्मकता 10 प्रतिशत या उससे अधिक है और

ऑक्सीजन समर्थित या आईसीयू बिस्तरों पर बिस्तर अधिभोग 60 प्रतिशत से अधिक है।

राज्यों में जारी कोविड संकट की हर मुद्दे की समीक्षा

पीएम मोदी ने दवाओं की उपलब्धता की भी समीक्षा की। उन्हें रेमडेसीविर सहित अन्य

दवाओं के उत्पादन में तेजी से वृद्धि के बारे में जानकारी दी गई। उन्होंने टीकाकरण पर

प्रगति और अगले कुछ महीनों में टीकों पर उत्पादन बढ़ाने के लिए रोडमैप की भी समीक्षा

की। उन्हें बताया गया कि राज्यों को लगभग 177 करोड़ टीके की आपूर्ति की गई है।

प्रधानमंत्री ने वैक्सीन की बर्बादी पर राज्यवार रुझानों की भी समीक्षा की। उन्हें जानकारी

दी गई कि 45 वर्ष से अधिक आयु की पात्र आबादी के लगभग 31 प्रतिशत को कम से कम

एक खुराक दी गई है। श्री मोदी ने यह बात कही कि टीकाकरण की गति में कमी नहीं आती

है।बैठक में केंद्रीय मंत्री राजनाथ सिंह, अमित शाह, निर्मला सीतारमण, डॉ हर्षवर्धन

, पीयूष गोयल, मनसुख मंडावी सहित अन्य मंत्री व आला अधिकारी मौजूद थे।

Spread the love
More from कोरोनाMore posts in कोरोना »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from दिल्लीMore posts in दिल्ली »
More from नेताMore posts in नेता »

Be First to Comment

... ... ...
error: Content is protected !!
Exit mobile version