Press "Enter" to skip to content

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अमेरिका यात्रा में आतंकवाद, अफगानिस्तान का मुद्दा




राष्ट्रपति बिडेन से पहली बार रूबरू होंगे मोदी
उपराष्ट्रपति कमला हैरिस से भी भेंट होगी उनकी
कोरोना और आतंकवाद इनपर सभी देशों की चिंता
राष्ट्रीय खबर

नयी दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की कल से शुरू हो रही चार दिवसीय अमेरिका की यात्रा में अफगानिस्तान एवं आतंकवाद का मुद्दा फोकस में होगा तथा 24 सितंबर को वाशिंगटन में भारत अमेरिका ऑस्ट्रेलिया एवं जापान की चतुष्कोणीय फ्रेमवर्क शिखर बैठक में भी इस मुद्दे पर प्रमुखता चर्चा होने की संभावना है।




विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला ने कहा कि अमेरिकी राष्ट्रपति के साथ द्विपक्षीय बैठक में अफगानिस्तान में तालिबान के सत्ता कब्जाने के बाद क्षेत्रीय सुरक्षा स्थिति पर चर्चा होगी। संयुक्त राष्ट्र महासभा के 76वें अधिवेशन में भी इन मुद्दोंको प्रमुखता से उठाये जाने की संभावना है। उन्होंने कहा कि अफगानिस्तान जितना हमारे लिये अहम मुद्दा है, उतना ही अहम अमेरिका के लिए भी है।

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में पिछले माह भारत की अध्यक्षता में पारित प्रस्ताव संख्या 2593 के क्रियान्वयन पर बात होगी जिसमें कहा गया है कि अफगानिस्तान की धरती का किसी अन्य देश के खिलाफ हमले या हमले की साजिश रचने में नहीं किया जाएगा।

इसके लिए किसी देश या गैर सरकारी शक्तियों के खिलाफ निगरानी रखने एवं आतंकवाद निरोधक कदम उठाने को लेकर भारत एवं अमेरिका दोनों देश सैद्धांतिक रूप से सहमत हैं।

गौरतलब है कि भारत एवं अमेरिका के बीच गत वर्ष बेसिक एक्सचेंज को-ऑपरेशन एग्रीमेंट (बेका), 2018 में संचार सुरक्षा समझौते (कॉमकासा), 2016 में सैन्य संसाधनों के आदान-प्रदान के समझौते (लेमोआ) तथा सैन्य सूचनाओं के आदान-प्रदान के समझौता (जीसोमिया) हो चुके हैं।




कॉमकासा समझौते के अंतर्गत अमेरिका भारत को गोपनीय संदेश वाले उपकरण मुहैया कराएगा। विदेश सचिव ने बताया कि प्रधानमंत्री के साथ प्रतिनिधिमंडल में राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल, वह स्वयं (श्री श्रृंगला) अन्य वरिष्ठ अधिकारी जाएंगे। विदेश मंत्री एस जयशंकर पहले ही अमेरिका पहुंच चुके हैं।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के साथ गये हैं अजीत डोभाल भी

उन्होंने कहा कि श्री बिडेन के राष्ट्रपति बनने के बाद श्री मोदी की उनसे यह पहली रूबरू मुलाकात होगी। हालांकि 2014 में उपराष्ट्रपति के रूप में श्री बिडेन ने श्री मोदी की पहली अमेरिका यात्रा पर उनके लिए भोज का आयोजन किया था।

श्री मोदी अमेरिकी उपराष्ट्रपति कमला हैरिस से भी पहली बार मुलाकात करेंगे। उन्होंने कहा कि बुधवार को भी श्री मोदी वैश्विक कोविड सम्मेलन में वर्चुअल रूप से भाग लेंगे। यात्रा के प्रमुख बिन्दुओं का उल्लेख करते हुए श्री श्रृंगला ने कहा कि अमेरिकी राष्ट्रपति के साथ द्विपक्षीय बैठक, क्वाड शिखर बैठक और संयुक्त राष्ट्र महासभा के अधिवेशन में संबोधन के अलावा श्री मोदी कुछ शीर्ष अमेरिकी कंपनियों के मुख्य कार्यकारी अधिकारियों (सीईओ) एवं निवेशकों के साथ भी बैठक करेंगे।

इसके अलावा महत्वपूर्ण एवं नयी उभरती प्रौद्योगिकी, कनेक्टिविटी एवं अवसंरचना, साइबर सुरक्षा, समुद्री सुरक्षा, मानवीय सहायता, आपदा राहत, जलवायु परिवर्तन एवं शिक्षा जैसे समसामयिक वैश्विक मुद्दों पर विचार विमर्श किया जाएगा।

अमेरिका, ब्रिटेन एवं ऑस्ट्रेलिया के नये समूह ऑकस के बनने से क्वाड की रणनीति पर प्रभाव के बारे में एक सवाल के जवाब में विदेश सचिव ने स्पष्ट किया कि क्वाड के अंतर्गत दरअसल स्वतंत्र, मुक्त एवं समावेशी हिन्द प्रशांत क्षेत्र सुनिश्चित करने की दिशा में आवश्यक हर पहलू शामिल है जबकि ऑकस केवल तीन देशों का एक सुरक्षा समूह है। इससे दोनों समूहों या उसमें शामिल देशों के हितों में टकराव की गुंजाइश नहीं है।



More from कूटनीतिMore posts in कूटनीति »
More from विश्वMore posts in विश्व »
More from संपादकीयMore posts in संपादकीय »

3 Comments

Leave a Reply

Mission News Theme by Compete Themes.
%d bloggers like this: