प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दाऊदी बोहरा समुदाय के कार्यक्रम में

प्रधानमंत्री

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को इंदौर में दाऊदी बोहरा समुदाय के धर्मगुरु सैयदना मुफद्दल सैफुद्दीन से मुलाकात की। अपने संबोधन में मोदी ने



बोहरा समाज की देशभक्ति की तारीफ करते हुए कहा कि इस समाज से उनका भी अटूट रिश्ता रहा है।

बता दें कि दाऊदी बोहरा समुदाय के सैयदना 53वें धर्मगुरु हैं। उनके 12 सितंबर

से इंदौर में धार्मिक प्रवचन चल रहे हैं। सैयदना पहली बार इंदौर

आए हैं, इससे पहले उनका सूरत में आना हुआ था।

सैयदना के पिता अपने जीवनकाल में दो बार इंदौर आए थे। मध्य प्रदेश में

होने वाले आगामी विधानसभा चुनाव से पहले पीएम के इस कदम को अहम

माना जा रहा है। बोहरा समुदाय मुख्यत: व्यापार करने वाला समुदाय है।

‘बोहरा’ गुजराती शब्द ‘वहौराउ’, अर्थात ‘व्यापार’ का अपभ्रंश है। पीएम नरेंद्र

मोदी के इस दौरे को मध्य प्रदेश में साल के अंत में होने वाले विधानसभा चुनाव

से भी जोड़कर देखा जा रहा है। राजनीतिक विश्लेषकों के मुताबिक पीएम इस

यात्रा के जरिए संदेश भी देना चाहते हैं। बोहरा समुदाय अपनी सफाई पसंदगी

और पर्यावरण रक्षा की पहलों के लिए भी जाना जाता है। चैरिटेबल ट्रस्ट

बुरहानी फाउंडेशन इंडिया 1992 से ही बर्बादी रोकने, रिसाइकलिंग

और प्रकृति संरक्षण के लिए काम कर रहा है।

दाऊदी बोहरा समुदाय काफी समृद्ध, संभ्रांत और पढ़ा-लिखा समुदाय है।

दाऊदी बोहरा मुख्यत: गुजरात के सूरत, अहमदाबाद, जामनगर, राजकोट,
दाहोद, और महाराष्ट्र के मुंबई, पुणे व नागपुर, राजस्थान के उदयपुर व
भीलवाड़ा और मध्य प्रदेश के उज्जैन, इन्दौर, शाजापुर, जैसे शहरों और
कोलकाता व चैन्नै में बसते हैं। पाकिस्तान के सिंध प्रांत के अलावा
ब्रिटेन, अमेरिका, दुबई, ईराक, यमन व सऊदी अरब में भी उनकी अच्छी तादाद है। मुंबई में इनका पहला आगमन करीब ढाई सौ वर्ष पहले हुआ।


Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.