fbpx Press "Enter" to skip to content

संक्रमण का भारतीय आंकड़ा रोकने की तैयारी और संसाधन चाहिए




संक्रमण का भारतीय आंकड़ा तेजी से ऊपर जा रहा है। पहले हम दुनिया के बीस देशों में

संक्रमण के मामले में शामिल नहीं थे। अब हम सातवें स्थान पर हैं और जिस गति से यह

अब भी बढ़ रहा है उससे यह माना जा सकता है कि अगले दो दिनों के भीतर भारत में इस

कोरोना संक्रमण का आंकड़ा पांचवें नंबर पहुंच जाएगा। आज की बात करें तो देश में कुल

मरीजों की संख्या 2 लाख 16 हजार 919 है। इसमें से 6 हजार 75 लोगों की मौत हो चुकी

है। राहत की बात है कि करीब 50 फीसदी यानी 1 लाख 4 हजार 107 मरीज कोरोना से जंग

जीत चुके हैं। गुरुवार को स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से जारी रिपोर्ट के मुताबिक, पिछले 24

घंटे में 9 हजार 304 नए मामले सामने आए हैं और 24 घंटे में ही इस जानलेवा बीमारी की

चपेट में आकर 260 लोगों की मौत हो गई। वहीं, पिछले 24 घंटे में 3 हजार 804 लोग ठीक

हुए हैं। राहत की बात है कि करीब 50 फीसदी यानी 1 लाख 4 हजार 107 मरीज कोरोना से

जंग जीत चुके हैं। अभी देश में कुल एक्टिव केस की संख्या 1 लाख 6 हजार 737 है। पिछले

कुछ दिनों में मरीजों के ठीक होने का आंकड़ा तेजी से बढ़ रहा है। कोरोना से सबसे अधिक

महाराष्ट्र प्रभावित है। यहां कुल मरीजों का आंकड़ा करीब 75 हजार है। अब तक 2 हजार

587 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं, जबकि 32 हजार से अधिक लोग ठीक हो चुके हैं। अभी

करीब 40 हजार एक्टिव केस हैं।

संक्रमण का प्रसार रोकने से जांत बढ़ाना जरूरी

दूसरे नंबर पर तमिलनाडु है, यहां अब तक करीब 26 हजार केस सामने आए हैं, जिसमें

208 लोगों की मौत हो चुकी है। कोरोना के कुल केस के मामले में तीसरे नंबर पर दिल्ली

है। अब तक यहां 23 हजार 645 मामले सामने आ चुके हैं, जिसमें 606 लोगों की मौत हो

चुकी है, जबकि 9542 लोग ठीक हो चुके हैं। वहीं, गुजरात में कुल मरीजों का आंकड़ा 18

हजार 100 हो गया है, जिसमें 1122 लोगों की मौत हो चुकी है। वहीं, राजस्थान में कुल

मरीजों की संख्या 9652 है, जिसमें 209 लोगों की मौत हो चुकी है। मध्य प्रदेश में कुल

मरीजों की संख्या 8588 है, जिसमें 371 की मौत हो चुकी है। उत्तर प्रदेश में मरीजों का

आंकड़ा 8729 है, जिसमें 229 लोग जान गंवा चुके हैं। झारखंड की बात करें तो मजदूरों के

अपने गांव लौट आने के बाद लगातार कोरोना संक्रमण के नये नये मामले सामने आ रहे

हैं। लेकिन इन सभी के बीच अजीब और गंभीर सूचना यह भी है कि भारत में कोरोना

वायरस का नया स्वरुप फैल रहा है। हैदराबाद के सेंटर फॉर सेल्यूलर एंड मालिक्यूलर

बॉयोलॉजी के वैज्ञानिकों का मानना है कि देश में अब दूसरे किस्म का कोरोना फैल रहा है।

इस किस्म के नये वायरस खास तौर पर तमिलनाडू और तेलेंगना में पाये गये हैं। इसका

वैज्ञानिक नाम सीएलएडीई-ए 3 आई रखा गया है। वैज्ञानिक मान रहे हैं कि यह वायरस

समूह शायद फरवरी 2020 में पैदा हुआ और देश भर में फैल गया। सभी वायरस पीड़ितों से

लिये गये नमूनों के आधार पर वैज्ञानिक इस बदलाव पर गौर कर पाये हैं।

दवा या वैक्सिन आने तक संक्रमण रोकने पर फोकस रहे

इसकी दवा अथवा वैक्सिन पर शोध जारी होने के बीच संक्रमण रोकने की दिशा में अधिक

प्रयास किया जाना ज्यादा जरूरी है। नये नये इलाकों तक संक्रमण पहुंचने और उनके इन

नये इलाकों में फैलने की आशंका अधिक होती जा रही है। लिहाजा संक्रमण रोकने के साथ

साथ इन इलाकों में ईलाज के लिए आवश्यक संसाधन जुटाना भी एक बड़ी जिम्मेदारी है।

चिकित्सा और स्वास्थ्य के मामले में हमारे पास संसाधनों की कमी है। लेकिन दो महीने

के लॉक डाउन के बीच इसकी क्या तैयारियां हुई हैं, उनकी अग्निपरीक्षा की घड़ी आ चुकी

है। इस क्रम में कोरोना संक्रमण रोकने के साथ साथ मरीजों की जांच की गुणवत्ता पर भी

नये सिरे से विचार किये जाने की जरूरत है। ऐसा इसलिए भी है क्योंकि दिल्ली में इसके

साक्ष्य पेश किये गये हैं कि जिन मरीजों को कोरोना पीड़ित बताया गया था, दरअसल वे

कोरोना पीड़ित नहीं थे। लिहाज जांच मे ईमानदारी बरती जाए और आंकड़ों की बाजीगरी

नहीं हो, यह भी पूरे देश के लिए एक बड़ी चुनौती बनकर उभर रही है। दिल्ली की सरकार के

एक प्रमुख विधायक ने सार्वजनिक तौर पर केंद्र सरकार के अस्पताल के आंकड़ों को गलत

है। उन्होंने टीवी पर कहा है कि इस अस्पताल में कोरोना पॉजिटिव बताये गये मरीजों की

जब दोबारा जांच की गयी तो 45 प्रतिशत जांच परिणाम गलत पाये गये हैं। इसलिए जो

जांच में जुटे हैं, उनके माध्यम से संक्रमण रोकने का काम होना चाहिए वरना आंकड़ों की

बाजीगरी दिखाना भारत की पुरानी बीमारी है।

[subscribe2]

 



Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from देशMore posts in देश »

4 Comments

... ... ...
%d bloggers like this: