तिरपाल और प्लास्टिक के नीचे गुजर रही है लोधी के गरीबों की जिंदगी

तिरपाल और प्लास्टिक के नीचे गुजर रही है लोधी के गरीबों की जिंदगी
Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

ललपनिया: तिरपाल और प्लास्टिक के आसरे दिन और रात गुजार रहे हैं गरीब परिवार।

लोधी पंचायत क्षेत्र के कई गरीब लाभुक आज भी प्रधानमंत्री आवास योजना से बंचित है।

पंचायत के निवासी मुनेजा खातून जिसका आईडी नम्बर 2936838 है।

वही नासिर अंसारी का आईडी 1936883, शहीदन खातून की आईडी 2326902,

केरी देवी की आईडी 2656547, खैरून खातून की आईडी 2847642 है।

जो इन गरीब लाभुकों को प्रधानमंत्री आवास नहीं मिलने से वह फटा तिरपाल और प्लास्टिक की छावनी बना कर अपना जीवन यापन करने को मजबूर हो रहे हैं।

बता दें कि लोधी पंचायत के 5 लाभुकों द्वारा प्रधानमंत्री आवास के लिए आवेदन दिए जाने के बाद

जांचोंपरांत सभी अहर्ताएं पूरी करने के बावजूद भी इन लाभुकों को

आवास उपलब्ध नहीं कराए जाने से इनमें से कई परिवार टूटे-फूटे तिरपाल

और प्लास्टिक की छावनी बना कर रहने को विवश है।

वही लोधी पंचायत में इन गरीब लाभुकों के अलावा भी अल्पसंख्यक समाज के लाभुक भी शामिल है।

तिरपाल और प्लास्टिक का आसरा खराब मौसम में भी

जिनका मकान पूरी तरह से ध्वस्त हो चुका है और वह परिवार किसी प्रकार प्लास्टिक,तिरपाल की छावनी बना कर जीवन बसर कर रहा है।

जाड़ा गर्मी, बरसात सभी मौसमों में यह लोग बिना घर के रहने को विवश है।

जबकि इस संबंध में गोमिया की विधायक बबीता देवी के द्वारा पत्रांक संख्या-177/2018 के तहत

गरीब लाभुकों का शीघ्र घ्ह प्रधानमंत्री आवास निर्माण के लिए अनुशंसा भी की जा चुकी है।

परन्तु विभागीय उदासीनता के कारण ही इन सभी गरीब लाभुकों को अबतक आवास निर्माण न होना विभाग पर कई प्रश्न खड़ा करता है।

इस संबंध में स्थानीय मुखिया जयनाथ महतो से पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि

दूसरे चरण का लिस्ट में इन लोगों का आवास बनेगा।

वही उन्होंने यह भी कहा कि वे पहले ही इनके लिए स्वीकृति प्रदान की है

लेकिन कुछ तकनीकी गड़बडियां की वजह से प्रधानमंत्री आवास उपलब्ध नहीं हो पाया

लेकिन दूसरे चरण के सूची में इनका आवास बन जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.