Press "Enter" to skip to content

पश्चिम बंगाल में नतीजों के बाद साथ ही हिंसा भड़की, गृह मंत्रालय ने रिपोर्ट मांगी

  • भाजपा का छह कार्यकर्ताओं की जान गई

  • प्रधानमंत्री मोदी ने गवर्नर को फोन किया

  • मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंचा, टीएमसी पर आरोप

राष्ट्रीय खबर

कोलकाताः पश्चिम बंगाल में नतीजों के बाद से ही राजनीतिक हिंसाओं का दौर थमने का

नाम नहीं ले रहा है। पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव के परिणाम आने के साथ ही

हिंसा भड़क गई। बंगाल में खून खराबा जारी है। इसमें कथित तौर पर झड़प और दुकानों

को लूटे जाने के दौरान कई भाजपा कार्यकर्ताओं की मौत हो गई, तो कई घायल हो गए।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राज्यपाल जगदीप धनखड़ को फोन करके कानून और व्यवस्था

कि स्थिति पर चिंता और दुख व्यक्त किया। पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़

ने मंगलवार दोपहर को ट्वीट कर इसकी जानकारी दी।उन्होंने लिखा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र

मोदी ने आज फोन पर बात कर बंगाल में जारी हिंसा को लेकर चिंता व्यक्ति की है।उधर,

बंगाल के दो दिवसीय दौरे पर कोलकाता पहुंचे भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने

कहा कि पश्चिम बंगाल चुनाव के परिणाम आने के बाद जो घटनाएं हमने देखीं वो झटका

देने वाली हैं और हम इसे लेकर चिंतित हैं। मैंने भारत के विभाजन के दौरान ऐसी घटनाओं

के बारे में सुना था। हमने स्वतंत्र भारत में एक चुनाव के परिणाम के बाद ऐसी

असहिष्णुता पहले कभी नहीं देखी। नड्डा ने कहा कि हम इस विचार धारा की लड़ाई और

असहिष्णुता से भरी तृणमूल कांग्रेस की गतिविधियों से लड़ने के लिए प्रतिबद्ध हैं। भाजपा

अध्यक्ष ने तृणमूल कांग्रेस को चुनौती देते हुए कहा कि हम लोकतांत्रिक तरीके से लड़ने के

लिए तैयार हैं। मैं अब दक्षिण 24 परगना जाऊंगा और उन कार्यकर्ताओं के घर जाऊंगा

जिनकी जान परिणाम आने के कुछ घंटों के भीतर चली गई थी। इसके साथ ही पश्चिम

बंगाल में चुनावी नतीजों के बाद हुई व्यापक हिंसा का मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंच गया है।

पश्चिम बंगाल में नतीजों का मामला सुप्रीम कोर्ट में भी

कई जगह हुई हिंसा को लेकर सुप्रीम कोर्ट में जनहित याचिका दाखिल की गई है। इस

याचिका में अदालत से हिंसक घटनाओं की सीबीआई जांच की मांग की गई है। बीजेपी

प्रवक्ता गौरव भाटिया ने सर्वोच्च न्यायालय में दायर अपनी याचिका में कहा है कि बंगाल

की हिंसा के दौरान महिलाओं के साथ बलात्कार किया गया है। बीजेपी कार्यकर्ताओं पर

हमला किया गया और उन्हें घेर कर मार डाला गया। इसलिए अदालत को मामले में दखल

देते हुए निष्पक्ष जांच के आदेश देने चाहिए। इसी हिंसा को लेकर बीजेपी ने पांच मई को

देशव्यापी प्रदर्शन का ऐलान किया है। बीजेपी कार्यकर्ता अलग अलग जिलों में धरना देने

के साथ हिंसा का विरोध करेंगे। ये विरोध प्रदर्शन सभी मंडलों में कोविड गाइडलाइन का

पालन करते हुए किया जाएगा। हिंसा की खबरों का पता चलते ही बीजेपी अध्यक्ष जेपी

नड्डा दो दिन के बंगाल दौरे पर जाने का ऐलान किया था वो अब कोलकाता पहुंच चुके हैं।

ओडिशापारा, कूचबिहार, समसपुर, पुरबा बर्धमान समेत कई जगह हिंसा हुई वहीं

आरामबाग में बीजेपी दफ्तर में आग लगा दी गई। वहीं हिंसा के बाद केंद्रीय गृह मंत्रालय

ने रिपोर्ट मांगी है।

Spread the love
More from HomeMore posts in Home »
More from चुनाव 2021More posts in चुनाव 2021 »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from राज काजMore posts in राज काज »

One Comment

... ... ...
error: Content is protected !!
Exit mobile version