राजद ने फिर नीतीश और सुशील मोदी को सृजन मामले में घेरा

लालू ने कहा वह इस मामले में चुप बैठने वाले नहीं है

Spread the love

दीपक नौरंगी

भागलपुर : सृजन घोटाले में जब पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव को भागलपुर जिला प्रशासन ने

बिना सभा किये वापस जाने से मजबूर कर दिया तो इस से साफ जाहिर हो गया था कि

वर्तमान बिहार सरकार सृजन घोटाले में कहीं ना कहीं शामिल है।

राजद सुप्रीमो लालू यादव की भागलपुर की सभा सृजन घोटाले में काफी महत्वपूर्ण मानी गई

राजद सुप्रीमो ने भागलपुर में अपनी सभा के दौरान कई ऐसे महत्वपूर्ण सवाल उठाए हैं,

जिसके जवाब में नीतीश कुमार को कहना पड़ गया कि जो नुक्कड़ सभा भागलपुर में की गई है उससे कुछ होने वाला नहीं है।

दूसरी तरफ लालू प्रसाद ने साफ कर दिया है कि इस मामले में वह चुप बैठने वाले नहीं हैं।

सृजन घोटाले में भाजपा के कई बड़े नेताओं के नाम आए हैं। मास्टरमाइंड अमित और रजनी प्रिया से भाजपा के नेता के संबंध थे। इसके कई फोटो वायरल हुई है।

यह कहीं ना कहीं वह इस बात को प्रमाणित करता है कि सृजन घोटाले में निजी कार्यक्रम में जाने वाले भाजपा के नेता की सृजन घोटाले में महत्वपूर्ण भूमिका है?

आज प्रदेश युवा राष्ट्रीय जनता दल द्वारा सृजन घोटाला के विरोध में युवा राजद के

राष्ट्रीय अध्यक्ष सह सांसद शैलेश कुमार उर्फ बुलो मंडल एवं युवा राजद के प्रदेश अध्यक्ष मो.कारी सोहैब के

नेतृत्व में गर्दनीबाग पटना से राजभवन मार्च निकाला गया राजभवन तक मार्च को जाने से रास्ते मे ही पुलिस प्रशासन ने रोक दिया।

राजद

सृजन मामले में नेताओं ने दोहराये आरोप

युवा राजद के राष्ट्रीय अध्यक्ष सह सांसद शैलेश कुमार उर्फ बुलो मंडल ने कहा कि

लोकतंत्र के उदय की धरती बिहार में आज एक ऐसी सरकार चल रही है जो

अनैतिकता से निर्देशित, नियंत्रित और संचालित हो रही है।

भ्रष्टाचार में आकंठ डूबी यह डपोरशंखी सरकार न सिर्फ चयनित नैतिकता का ढिंढोरा पीटती है,

बल्कि बिहारी अस्मिता के साथ भी सर्वाधिक खिलवाड़ करती है।

सबसे बड़ा घोटाला है सृजन

अब तक के सबसे बड़े घोटाले, सृजन घोटाले के सृजनकर्ता और नैतिकता पर अपना कापीराइट जताने वाले मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और तत्कालीन व मौजूदा उपमुख्यमंत्री सह वित्त मंत्री सुशील कुमार मोदी को अपने पद पर एक क्षण भी बैठे रहने का हक नहीं है।

तुरन्त दोनों को इस्तीफा दे देना चाहिए।

बटेश्वर स्थान गंगा पम्प नहर बांध निर्माण में भी घोटाला हुआ.बिहार सरकार इस मामले को भी विभागीय प्रधान सचिव से जांच करवा कर लीपापोती कर दिया है

इसलिये बांध घोटाला का उच्चस्तरीय जांच हाईकोर्ट के न्यायाधीश के निगरानी में करने की मांग युवा राजद करती है।

जांच को प्रभावित करने की साजिश का विरोध होगा

राजद के प्रदेश अध्यक्ष डॉ रामचंद्र पूर्वे ने कहा कि मध्य प्रदेश के व्यापम घोटाले की तरह ही

भागलपुर के सृजन घोटाले में भी तमाम गवाहों की रहस्यमयी ढंग से हत्या हो रही है।

सीबीआई के जांच अधिकारी के बदले जाने की खबर के साथ ही कागजात की चोरी हो जाती है, सुबूत मिटाये जा रहे हैं।

युवा राजद के प्रदेश अध्यक्ष मो.कारी सोहैब ने कहा कि पूरे प्रकरण में नीतीश कुमार की गहरी संलिप्तता

और उसकी लीपापोती में दिलचस्पी इसी बात से जाहिर हो जाती है कि भागलपुर के तत्कालीन

जिलाधिकारी के.पी. रमैया को स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति दिलाकर जदयू के टिकट पर

सासाराम से लोकसभा का चुनाव लड़ाया गया।

उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार को घोटाले की जानकारी पहले से ही थी।

विपिन शर्मा के संबंध किससे थे कौन वह भाजपा का नेता था जो विपिन शर्मा से लगातार फोन पर बात कर रहा था।

जांच में पारदशिर्ता तो दूर, न्यूनतम एथिक्स का भी खयाल नहीं रखा जा रहा है और

मुख्यमंत्री व उपमुख्यमंत्री अपनी हैवानियत का परिचय देते हुए हर गवाह को निर्म व क्रूर ढंग से मरवा दे रहे हैं।

इसे भी पढ़े

कॉलेज टीचरों को मोदी सरकार ने दिया दिवाली का यह बंपर तोहफा

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.

Optimization WordPress Plugins & Solutions by W3 EDGE