अन्नाद्रमुक का चुनाव चिह्न विवाद अब भी जारी, नये शपथपत्र दाखिल

दिनाकरण गुट ने दाखिल किये एक हजार से अधिक एफिडेविट

Spread the love

नईदिल्लीः चुनाव आयोग अब तक अन्नाद्रमुक का विवाद नहीं निपटा सका है।

इस मुद्दे पर फिर से विरोधी गुट ने ऩये शपथपत्र दाखिल कर दिये हैं।

दूसरी तरफ चेन्नई में अम्मा यानी जयललिता की मौत पर गुत्थी सुलझने के बदले उलझती ही जा रही है।

बता दें कि उनकी सहयोगी शशिकला भ्रष्टाचार के आरोपों में इनदिनों जेल में बंद हैं।

उनके जेल जाने के बाद से ही पार्टी में सत्ता का यह संघर्ष प्रारंभ हुआ है।

जयललिता के कई करीबी बगावत पर उतर आये हैं और इनलोगों ने हाथ मिलाकर

शशिकला की राजनीतिक हैसियत को मटियामेट कर देने की चाल चली है।

भाजपा भी इन गुटों को अपने पाले में करने की भरसक कोशिश कर रही है।

सभी गुटों के बहुमत का दावा

तमिलनाडू के मुख्यमंत्री इके पलानीस्वामी ने 115 विधायकों और 44 सांसदों के समर्थन का दावा कर शपथपत्र प्रस्तुत किया था।

अब उनके विरोधी दिनाकरण ने 18 विधायकों और त्रह सांसदों का शपथपत्र दाखिल किया है।

दोनों ही गुट चुनाव आयोग में चुनाव चिह्न की मांग पर अड़े हुए हैं।

संयुक्त अन्नाद्रमुक की तरफ से उनके विधि मंत्री सीवी शन्मुघम ने चुनाव आयोग से कहा है कि पार्टी के 95 फीसद कार्यकर्ता और समर्थक उनके समर्थन में है।

मुख्यमंत्री गुट द्वार दाखिल शपथपत्र में विधायकों और सांसदों के अलावा 52 जिलाध्यक्षों, 126 नगर सचिव और 1200 गांव सचिवों के हस्ताक्षर हैं।

देश भर से जुटाये समर्थन

इनमें तमिलनाडू के अलावा केरल, कर्नाटक, आंध्रप्रदेश, दिल्ली, अंडमान और निकोबर, महाराष्ट्र तथा पुडुच्चेरी के भी पदाधिकारी हैं।

पार्टी के वरीय नेता केपी मुनुस्वामी ने बताया कि गत 2 सितंबर को पार्टी की बैठक में यह निर्णय लिया गया था।

ओ पनीरसेल्वम और पलानीस्वामी गुट के विलय के बाद का यह फैसला है। इसलिए पार्टी के चुनाव चिह्न पर उनका ही दावा बनता है।

दूसरी तरफ पार्टी से निष्कासित और जेल में बंद शशिकला एवं टीटीवी दिनाकरण ने एक हजार नये शपथपत्र दाखिल कर दिये हैं।

इनमें अधिकांश पार्टी की सामान्य परिषद के सदस्य हैं।

पार्टी से दिनाकरण को निष्कासित किये जाने के पूर्व ये सभी पार्टी के वरिष्ठ पदों पर पदस्थापित थे।

28 सितंबर को चुनाव आयोग ने दिनाकरण गुट के दावे को नामंजूर कर दिया था।

अब इस मामले की अगली सुनवाई 6 अक्टूबर को होगी।

You might also like More from author

Comments are closed.

Optimization WordPress Plugins & Solutions by W3 EDGE