fbpx Press "Enter" to skip to content

पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ के बयान पर सियासत गरमायी

  • आइटम बयान पर चुनावी माहौल गरमाने की कोशिश

  •  भाजपा नेता विरोध में उपवास पर बैठे

  •  दिग्विजय सिंह ने कहा उपवास क्यों है

  •  मायावती ने कहा कांग्रेस माफी मांगे

विशेष प्रतिनिधि

भोपालः पूर्व मुख्यमंत्री आइटम वाले कमलनाथ के बयान पर मध्यप्रदेश की चुनावी

राजनीति को गरमाने की भरसक कोशिश हो रही है। दरअसल कमलनाथ के जिस बयान

पर यह बवाल मचा है, उस पर श्री नाथ पहले ही न सिर्फ सफाई दे चुके हैं बल्कि यह भी कह

चुके हैं राजनीति के रंगमंच पर वे सभी आइटम ही है। इसके बाद भी यह विवाद अब तक

ठंडा नहीं पड़ा है। दूसरी तरफ बसपा प्रमुख मायावती के बयान से यह और गरमा गयी है।

चुनावी माहौल में कमलनाथ के इसी आइटम वाले बयान को लेकर मुख्यमंत्री शिवराज

सिंह चौहान ने सोनिया गांधी को पत्र लिखा है। मध्यप्रदेश की कैबिनेट मंत्री एवं दलित वर्ग

से आने वालीं श्रीमती इमरतीदेवी को लेकर पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ द्वारा की गयी

अशोभनीय और अमर्यादित टिप्पणी के परिप्रेक्ष्य में आज मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान

ने अपना यह पत्र मीडिया को भी जारी कर दिया है। इस बीच श्री चौहान और भारतीय

जनता पार्टी (भाजपा) के अन्य नेता मौन उपवास पर बैठ गए। भाजपा के अन्य वरिष्ठ

नेता भी राज्य में अन्य स्थानों पर मौन उपवास कर रहे हैं। श्री चौहान ने कहा कि श्री

कमलनाथ अपनी आपत्तिजनक टिप्पणी के बावजूद उसे जायज ठहराने का प्रयास कर

रहे हैं। यह उचित नहीं है। हमारी संस्कृति नारियों के प्रति सम्मान और पूजने की है।

पूर्व मुख्यमंत्री ने जनसभा में आइटम कहा, ऐसा आरोप

लेकिन पूर्व मुख्यमंत्री प्रायश्चित का भाव नहीं ला रहे हैं, इसलिए प्रायश्चित के स्वरूप

उन्होंने दो घंटे का मौन उपवास प्रारंभ किया। श्री कमलनाथ ने कल ग्वालियर जिले के

डबरा में आयोजित चुनावी सभा में डबरा से भाजपा प्रत्याशी श्रीमती इमरती देवी को

आइटम कहा है। इसके बाद से ही भाजपा काफी हमलावर हो गयी है। वहीं श्री कमलनाथ ने

कल देर रात अपनी सफाई में दावा करते हुए कहा कि आइटम कोई असम्मानजनक शब्द

नहीं है। वहीं श्रीमती इमरतीदेवी का भी मीडिया से चर्चा का एक वीडियो वायरल हुआ है,

जिसमें श्रीमती इमरतीदेवी श्री कमलनाथ को लेकर काफी भला बुरा कहते हुए सुनी जा रही

हैं। उन्होंने कहा कि श्री कमलनाथ पश्चिम बंगाल के हैं और वे महिलाओं के प्रति अक्सर

सम्मानजनक भाव नहीं रखते हैं। इस वीडियो में श्रीमती इमरतीदेवी की आंखों में आंसू भी

दिखायी दे रहे हैं।

बयान विवाद में दिग्विजय सिंह ने भी हस्तक्षेप किया

इसी आइटम विवाद में हस्तक्षेप करते हुए कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं मध्यप्रदेश के पूर्व

मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) नेताओं द्वारा किए गए मौन

उपवास को लेकर आज कहा कि उनका मौन रखने का निर्णय उनकी समझ से परे है। श्री

सिंह ने अपने ट्वीट के जरिए कहा ‘कमलनाथ जी ने किस संदर्भ में इमरती देवी जी को

‘‘आइटम’’ कहा मैं नहीं जानता। लेकिन विरोध में भाजपा ने मौन रखने का निर्णय समझ

से परे है। जब हाथरस में दलित युवती का बलात्कार हुआ तब भाजपा द्वारा एक शब्द इस

घटना के ख़लिाफÞ में क्यों नहीं निकला। मामा मदारी का रोल ना करो नाटक नौटंकी बंद

करो।’

बहुजन समाज पार्टी की अध्यक्ष मायावती ने मध्यप्रदेश की महिला मंत्री पर उस राज्य के

पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस नेता कमलनाथ की टिप्पणी पर गहरी आपत्ति दर्ज की और

आज कांग्रेस आलाकमान से इसके लिये माफी मांगने को कहा। सुश्री मायावती ने आज

ट्वीट कर इसे अति शर्मनाक, अमर्यादित और निंदनीय कहा । उन्होंने कहा कि इसका

संज्ञान लेकर कांग्रेस आलाकमान को सार्वजनिक तौर पर माफी मांगनी चाहिए।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from HomeMore posts in Home »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from मध्यप्रदेशMore posts in मध्यप्रदेश »
More from राजनीतिMore posts in राजनीति »

2 Comments

Leave a Reply

... ... ...
%d bloggers like this: