fbpx Press "Enter" to skip to content

शराब माफिया के हमले में मारा गया बिहार पुलिस का अधिकारी

  • नेता प्रतिपक्ष ने सरकार पर किया सीधा हमला किया

  • सारी खुदाई एक तरफ जोरू का भाई एक तरफ

  • पूर्ण शराबबंदी के बीच हर रोज बरामदगी क्यों

राष्ट्रीय खबर

पटना : शराब माफिया के हमले में एक पुलिस अधिकारी के मारे जाने के बाद फिर से

बिहार की राजनीति गरमा गयी है। नेता प्रतिपक्ष ने इस पर सरकार पर हमला किया है।

 नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने आज लगातार दूसरे दिन बिहार सरकार के कार्यकलापों

पर हमला किया। उन्होंने ट्वीट करके कहा कि बिहार का शराब माफिया अब काफी

दु:साहसी हो गये हैं। इसलिए वह दरोगा समेत अन्य पुलिसकर्मियों पर उल्टे हमला करने

लगे हैं और उसके इनकाउंटर में निरीह पुलिसकर्मी मारे जा रहे हैं। बिहार में पूर्ण शराबबंदी

के बीच रोज शराब बरामद होने की खबरें अखबार की सुर्खियां बनती आ रही है।इसके लिए

विपक्ष शुरू से ही गला फाड़ कर चिल्लाता आ रहा है। यदाकदा सत्ताधारी दल के विधायक

भी शराबबंदी पर अपने आंसू छलका चुके हैं। लेकिन सारी खुदाई एक तरफ और जोरु का

भाई एक तरफ। शराबबंदी का बवंडर मचने के बाद भी मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के कानों

पर जूं तक नहीं रेंगा। शराबबंदी के शुरूआती दौर में शराबियों से जेल भरा होता था। लेकिन

वक्त के साथ इसमें कमी आई है। इसमें कोई दो राय नहीं कि बिहार में जहरीली शराब से

रोज मौते हो रही है। पूर्व डीजीपी गुप्तेश्वर पांडे ने बिहार के सभी पुलिसकर्मियों को शराब

नहीं पीने का शपथ दिलाया था। उसके बाद नये डीजीपी एस के सिंघल ने उसी बात का

रेन्यूअल कर दिया। ऐसा थोड़े ही है कि पुलिसकर्मी शराब नहीं पीते हैं। होंगे कोई दो- चार

अपवाद। मुख्यमंत्री जी, आपके घर में सीधी पहुँच रखने वाले शराब माफिया में इतना

दु:साहस कहाँ से आया कि वो अब पुलिस का ही एनकाउंटर कर रहे हैं।

बिहार में शराबबंदी के बाद भी बिक रही है शराब

बता दें बिहार में शराबबंदी से सालाना 8 सौ करोड़ रुपए का नुकसान हो रहा है और

तेजस्वी यादव सहित विपक्ष के सभी नेता मुखरता से यह बात उठाते आ रहे हैं। मालूम हो

कि सूबे के सीतामढ़ी अंतर्गत मेजरगंज के कोआरी गांव में शराब तस्कर और पुलिस के

बीच बुधवार को हुई मुठभेड़ में पुलिस के एक सब इंस्पेक्टर शहीद हो गए। वहीं एक

चौकीदार भी गोली लगने से गंभीर रूप से घायल हो गया है। शहीद एसआई दिनेश राम

मेजरगंज थाने में पदस्थापित थे। इस घटना पर नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने ट्वीट

करते हुए नीतीश कुमार पर सीधा हमला बोला है। उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा है,

सीतामढ़ी में शराब तस्करों ने सब इंस्पेक्टर दिनेश राम की गोली मारकर हत्या कर दी है

और एक अन्य को गंभीर रूप से घायल कर दिया है। बता दें बुधवार को मेजरगंज पुलिस

को सूचना मिली थी कि नेपाल के रास्ते बिहार में शराब की बड़ी खेप लाई जा रही है।

पुलिस ने सूचना के आधार पर घेराबंदी की। लेकिन पुलिस को इस बात का अंदाजा नहीं था

कि शराब तस्कर हथियारों से लैस होंगे। पुलिस की गाड़ी रूकते ही तस्करों ने पुलिस पर

हमला कर दिया। पुलिस पर नजर पड़ने के बाद रंजन सिंह अपने साथियों के साथ घर में

छिप कर गोलियां बरसा रहा था। इस दौरान शराब तस्करों के साथ मुठभेड़ में एक गोली

सब इंस्पेक्टर दिनेश राम को लगी, जबकि दूसरी गोली चौकीदार लाल बाबू पासवान को

लगी। इसी दौरान एक गोली शराब माफिया रंजन को भी लग गई और वह भी ढेर हो

गया।

शराब माफिया के हमले में एक चौकीदार को भी गोली लगी

दारोगा और चौकीदार को गोली लगने के बाद कुछ पुलिस कर्मियों ने तुरंत इसकी

सूचना थाने को दी। इसके बाद दल-बल के साथ पहुंची पुलिस आननफानन में घायलों को

सदर अस्पताल लेकर जाने लगे, लेकिन सब इंस्पेक्टर की रास्ते में ही मौत हो गई। जबकि

घायल चौकीदार का इलाज अस्पताल में चल रहा है। बताया जाता है कि मृतक अपराधी

रंजन सिंह रंगदारी मामले का भी आरोपित है। घटना को अंजाम देकर उसके दो साथी

फरार हैं, जबकि एक साथी मुकुल सिंह ने सरेंडर कर दिया है। मेजरगंज सीतामढ़ी जिले का

नेपाल सीमा से सटा हुआ ब्लॉक है। जहां यह मुठभेड़ हुई है वह बॉर्डर से 2 किमी दूर है।

खुली सीमा होने की वजह से इलाके में तस्कर नेपाल से आसानी से शराब की सप्लाई

सीतामढ़ी जिले समेत आसपास के इलाकों में करते हैं।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from HomeMore posts in Home »
More from अपराधMore posts in अपराध »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from बिहारMore posts in बिहार »
More from विधि व्यवस्थाMore posts in विधि व्यवस्था »

Be First to Comment

... ... ...
%d bloggers like this: