बुलंदशहर हिंसा का मुख्य आरोपी प्रशांत नट गिरफ्तार, पुलिस निरीक्षक को गोली मारने का आरोप

बुलंदशहर हिंसा का मुख्य आरोपी प्रशांत नट गिरफ्तार, पुलिस निरीक्षक को गोली मारने का आरोप
Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

बुलंदशहर : बुलंदशहर में हुए हिंसा में 3 दिसंबर को पुलिस निरीक्षक सुबोध कुमार सिंह के हत्या का आरोपी प्रशांत नट को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। बता दें कि प्रशांत ने अपना जुर्म कबूलते हुए बताया है कि सुबोध कुमार के पिस्टल से ही उसने उनपर गोली चलायी थी और उन्हे मौत के घाट उतारा था।

दरअसल मामले का कच्चा चिट्ठा खोलते हुए प्रशांत ने अपने गुनाह भी कबूले साथ ही उस दिन हुए हादसे का पूर्ण ब्योरा दिया। प्रशांत के अनुसार पुलिस निरीक्षक सुबोध को पहले पत्थर से मारा गया जिससे चोटिल होने के कारण सुबोध घायल हो गए। चूंकि वे लोग कथित गो हत्या के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे भीड़ के साथ थे, तो भीड़ में जबर्दस्ती हिंसा भड़काया गया।

हालांकि सुबोध तब तक जीवित थे और चोटिल थे, पर सुमित नामक युवक ने अन्य मौजूदा स्थानीय लोगों के साथ पुलिस को खेत में काफी दूर तक दौड़ाया। जिससे घबराकर अपनी सुरक्षा के लिए सिंह ने हवा में फ़ाइरिंग की, पर गलती से गोली सुमित को लग गयी। जहां मौजूद भीड़ में गुस्साये लोगों ने उन्हे पकड़ना चाहा, उसी दौरान प्रशांत ने उनकी ही बंदूक छिन कर उन्हे गोली मार कर भाग गया।

विदित हो कि पुलिस ने प्रशांत को सिकंदराबाद-नोएडा बॉर्डर दनकौर रोड से गिरफ्तार कर थाने ले जाकर घटना का ब्योरा लिया, सारी पूछताछ के बाद प्रशांत पर धाराएँ लगाई गयी। साथ ही उसे घटनास्थल पर ले जाकर दुबारा उसी घटना को नाटक के रूप में दोहराया और गुत्थी को हर एंगल से समझे। पुलिस हालांकि अपनी ओर से मामले की जाँच में जुट गयी है। और संबन्धित आँय आरोपी को पकड़ने के लिए कड़ाई कर दी है।

भाजपा के अनुसार –

भाजपा के उत्तर प्रदेश राज्य के सीएम योगी ने 3 दिसंबर की उक्त घटना को राजनीतिक षड्यंत्र का हवाला दिया था। और इस पूरी घटना को षड्यंत्रकारियों का बस गलत रूप से बना बनाया प्लान बताया था। जिससे हिन्दुत्व मामले में तिल को ताड़ बनाकर लोग हिंसा को भड़का सके।

वहीं भाजपा के एमएलए ने पुलिस निरीक्षक को गोली लगने के मामले को यह बताया था की पुलिस ने खुद को गोली मारी थी। पर जब मामले की पुष्टि हो गयी है तो यह बस एक संयोग न रहकर बड़ा षड्यंत्र ही बनकर सामने आया है। जिसपर फिलहाल भाजपा के नेताओं की सिट्टी-पीट्टी गुम है और कुछ बोलने को तैयार नहीं। हालांकि पुलिस अपने अनुसार जाँच कर रही है और पूरी तहक़ीक़ात के बाद ही कुछ आगे कदम लेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.