Press "Enter" to skip to content

नये और अधिक सुरक्षित गाड़ी में अब चलेंगे नरेंद्र मोदी




राष्ट्रीय खबर

नईदिल्लीः नये और अधिक सुरक्षित गाड़ी को अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सफर में इस्तेमाल किया जाएगा। मर्सीडीज बेंच द्वारा तैयार यह गाड़ी कई किस्म की खास सुरक्षा से लैश होगी। इस वाहन पर एके 47 की गोलियों का भी कोई असर नहीं होगा जबकि दो मीटर दूर होने वाले किसी विस्फोट से भी यह नये वाहन सुरक्षित रहेंगे।




इन नये और अधिक सुरक्षित वाहनों को हाल ही में दिल्ली के हैदराबाद हाउस के सामने देखा गया है। इसी गाड़ी पर सवार होकर नरेंद्र मोदी रूस के राष्ट्रपति ब्लादिमीर पुतिन का स्वागत करने गये थे। प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक काले रंग के नये और अधिक सुरक्षित वाहनों की संख्या दो है।

यानी यह स्पष्ट है कि सुरक्षा प्रोटोकॉल के तहत एक वाहन में नरेंद्र मोदी होंगे जबकि दूसरा वाहन किसी हमलावर को चमका देने के लिए इस्तेमाल किया जाएगा। चार पहियों वाले इस वाहन का मूल आधार विश्व प्रसिद्ध लिमुजिन है। वैसे गाड़ी का नाम मर्सीडीज मे बैच एस 650 गार्ड है। इसे गार्ड नाम से ही पुकारा जा रहा है।

मर्सीडीज कंपनी ने अपने एस सीरिज के वाहनों में यह गाड़ी तैयार की है। इस श्रेणी के वाहनों का इस्तेमाल दुनिया भर के राष्ट्राध्यक्षों के लिए ही किया जाता है। इसकी खास वजह इसका सुरक्षा कवच है, जो किसी भी अन्य वाहन के मुकाबले बहुत अधिक है। वैसे बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गाड़ियों के मामले में पहले से ही शौकीन हैं। गुजरात के मुख्यमंत्री रहने के दौरान वह बुलेटप्रूफ स्कॉर्पियों की सवारी करते थे।




नये और अधिक सुरक्षित गाड़ियों की कीमत 12 करोड़ रुपये

वर्ष 2014 में देश का प्रधानमंत्री बनने के बाद वह सारे पुराने वाहनों को बदल कर बीएसडब्ल्यू 7 की गाड़ी का इस्तेमाल करने लगे थे। पिछले सात वर्षों में नये और अधिक सुरक्षित वाहनों की कोशिश में श्री मोदी ने पहले लैंड रोवर के रेंज रोवर गाड़ी का इस्तेमाल किया। उसके बाद उन्होंने टोयेटा के लैंड क्रूजर का भी प्रयोग किया है।

इस गाड़ी की खासियत थी कि गाड़ी के चारों तरफ 16 कैमरे लगे हुए थे। अब इन सारे वाहनों को बदलते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नये और अधिक सुरक्षित वाहन के तौर पर गार्ड का इस्तेमाल करना प्रारंभ कर दिया है। इस गाड़ी के बारे में यह भी दावा किया गया है कि अगर जहरीले गैस का भी हमला हुआ तो गाड़ी के अंदर मौजूद व्यक्ति को साफ और स्वच्छ हवा ही मिलती रहेगी।

गाड़ी के टायरों को भी नष्ट नहीं किया जा सकेगा जबकि रात के अंदरे में भी यह किसी भी संदिग्ध गतिविधि को भांप सकता है। वैसे बता दें कि इन दो नये और अधिक सुरक्षित वाहनों की अनुमानित कीमत प्रति कार 12 करोड़ रुपया है। यानी इस मद में भारत सरकार ने 24 करोड़ रुपये खर्च किये होंगे।



More from HomeMore posts in Home »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from नेताMore posts in नेता »

3 Comments

Leave a Reply

Mission News Theme by Compete Themes.
%d bloggers like this: