fbpx Press "Enter" to skip to content

जनता कर्फ्यू लगाने की अपील की देश से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने

  • कोरोना वायरस को लेकर पीएम का संबोधन

  • लोगों से की कई गुजारिशे, लगेगा कर्फ्यू

  • जनता में अपील से जबर्दस्त उत्साह

नई दिल्ली : जनता कर्फ्यू लगने के पहले ही फिर से सुपर हिट हो गया। दरअसल

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना वायरस से निपटने की तैयारी क तौर पर इसे आजमाने

की अपील की। कुछ समय बाद यह अपील सोशल मीडिया में वायरल हो गयी। लोग

इसके समर्थन भी भी आने लगे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जनता कर्फ्यू के लिए रविवार

का दिन चुना है। इस वजह से भी लोगों को इस अपील से कोई परेशानी नहीं हुई। कोरोना

वायरस को लेकर पीएम मोदी ने गुरूवार की शाम को देश को टीवी के जरिये संबोधन

किया। जहां अपनी भावनाएं व्यक्त करते हुए पीएम ने जनता से कई गुजारिशे की।

देखिये प्रधानमंत्री ने क्या कहा

सतर्कता संबंधी बातों पर भी विचार कर दिनचर्या में लाने का जोड़ दिया। लोगों को

बेवजह अफवाह ना फैलाते हुए सरकार के साथ चलने की बात कही। साथ ही बिना

कारण के घर से बाहर न निकलने की गुज़ारिश भी की। साथ ही मुख्यतः 60-65 वर्ष के

बुजुर्ग को चेताया कि ऐसी स्थिति में कहीं बाहर बिलकुल न निकलें। पीएम ने कहा कि

कोरोना बीमारी के अबतक कोई सटीक उपाय सामने नहीं आये है और ना ही कोई दवा

अबतक बन पाई है। ऐसी स्थिति में लोगों का सतर्क रहना ही खुद का बचाव का सबसे

बेहतर और सबसे सुरक्षित नुस्खा है।

जनता कर्फ्यू को लेकर ही था पीएम का संबोधन

पीएम ने कहा कि वैश्विक महामारी कोरोना एक ऐसी बीमारी बनकर विश्व के सामने

आई है, जिससे निश्चिंत हो जाना सिर्फ यह सोच कर की हम ग्रसित नहीं होंगे, यह सोच

सही नहीं है। इसके लिए प्रत्येक भारत वासी का सतर्क रहना अति आवश्यक है। उन्होंने

कहा कि मुझे अपने देश वासियों पर गर्व है कि हमने जब जो मांगा, मुझे देशवासियों ने

निराश नहीं किया है। और यह जनता के आशीर्वाद की ही ताकत है कि हम सब मिलकर

अपने निर्धारित लक्ष्यों की तरफ आगे बढ़ रहे हैं। जिस प्रयासों को पूर्ण कोशिशे के साथ

सफलतापुर्वक अंतिम प्रारूप भी दे पा रहे है। पीएम ने गुजारिश करते हुए कहा कि इस

महामारी का सामना करने के लिए 130 करोड़ भारतवासियों से पुनः कुछ मांगने आया

हूं। जिसमे सबसे महत्वपूर्ण लोगों का अमूल्य समय है। दुनिया के जिन देशों में कोरोना

का वायरस और उसका प्रभाव ज्यादा देखा जा रहा है वहां पर अध्ययन में एक और बात

सामने आई है कि इन देशों में शुरुआती कुछ समय के बाद बीमारी का जैसा विस्फोट

हुआ है। विज्ञान कोरोना महामारी से बचने के लिए अभी तक कोई सटीक उपाय नहीं

सुझा सका है और न ही कोई वैक्सीन बन पाई है। चूंकि यह स्थिति अपने आप में खतरे

की घंटी बनते जा रही है जिससे हर किसी की चिंता बढ़नी स्वाभाविक है।

कोरोना के लेकर पूरी दुनिया के साथ है भारत

कोरोना वायरस से निपटने का उपाय है ‘हम स्वस्थ, जगत स्वस्थ मंत्र’ पीएम मोदी ने

कहा कि प्रथम और द्वितीय विश्वयुद्ध में देश इतना प्रभावित नहीं हुआ था जितना की

आज कोरोना वायरस से हो चुका हैं। उन्होंने कहा कि यह मानना गलत है कि भारत पर

कोरोना वायरस का असर नहीं पड़ेगा। ऐसी महामारी में ‘हम स्वस्थ, जगत स्वस्थ मंत्र

काम आ सकता है। करोना के संक्रमण की संख्या बहुत तेजी से बढ़ी है। हालांकि, कुछ

देश ऐसे भी हैं जिन्होंने आवश्यक निर्णय भी किए और अपने यहां के लोगों को ज्यादा से

ज्यादा आइसोलेट करके स्थिति को संभाला है, और उसमे नागरिकों की भूमिका काफी

अहम रही है। भारत जैसे 130 करोड़ आबादी वाले देश के सामने भी, हम वो देश है जो

प्रगतिशील देश हैं, हम जैसे देश पर कोरोना का संकट सामान्य बात नहीं है। आज जब

बड़े-बड़े विकसित देशों में इस महामारी का प्रयास देख रहे हैं तो भारत में इसका कोई

प्रभाव नहीं पड़ेगा यह मानना गलत है। 6-आज हमें यह संकल्प लेना होगा कि हम स्वयं

संक्रमित होने से बचेंगे और दूसरों को संक्रमित होने से बचाएंगे। इस तरह की वैश्विक

महामारी में एक ही मंत्र काम करता है- हम स्वस्थ तो जग स्वस्थ। ऐसी स्थिति में जब

इस बीमारी की दवा नहीं है तो इससे बचना आवश्यक है। आजकल जिसे सोशल

डिस्टेंसिंग कहा जा रहा है, कोरोना के इस दौर में सोशल डिस्टेंसिंग सबसे ज्यादा कारगर

और आवश्यक है। इस दौर में यह बहुत बड़ी भूमिका निभानेवाला है।

बचाव के सुझावों को नजरअंदाज न करें लोग

अगर ये लगता है कि आपको कुछ नहीं होगा और आप ऐसे ही मार्केट में जाते रहेंगे और

कोरोना से बचे रहेंगे ये सही नहीं है। ऐसा कर आप अपने साथ और परिवार के लोगों के

साथ अन्याय करेंगे। उन्होंने कहा कि लोग इसको लेकर पैनिक न फैलाएं। पीएम ने कहा

कि आने वाले 22 मार्च को देश के लोग ‘जनता कर्फ्यू’ लगाएं। उन्होंने कहा कि 22

तारीख को वे सुबह 7 बजे से लेकर रात 10 बजे तक घर से ना निकलें। पीएम मोदी ने

कहा कि । प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने राष्ट्र के नाम संबोधित करते हुए गुरूवार की शाम

को कहा लोग पैनिक न फैलाएं और आवश्यक सामानों की जमाखोरी न करें।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from देशMore posts in देश »
More from नेताMore posts in नेता »
More from बयानMore posts in बयान »

2 Comments

Leave a Reply

Open chat
Powered by